Wednesday, Nov 14 2018 | Time 16:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एनजीटी ने पंजाब पर ठोंका 50 करोड़ रुपए जुर्माना
  • शिवभक्त नहीं, बगुला भगत हैं राहुल गांधी:भाजपा
  • मुजफ्फरनगर मण्डी में गुड़ एवं चीनी के भाव
  • समुद्री उत्पाद का निर्यात 95 प्रतिशत बढा
  • राधामोहन ने सहकारिता क्षेत्र में स्टार्ट अप की शुरुआत
  • समुद्री उत्पाद का निर्यात 95 प्रतिशत बढा
  • राधामोहन ने सहकारिता क्षेत्र में स्टार्ट अप की शुरुआत
  • पंथ विरोधी गलतियाें के कारण सुखबीर बादल का सियासी अंत तय :जाखड़
  • गुजरात में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के निकट होगा डीजीपी सम्मेलन, मोदी के शिरकत की संभावना
  • मेगन और एलिसा ने दिलाई आस्ट्रेलिया काे जीत
  • मेगन और एलिसा ने दिलाई आस्ट्रेलिया काे जीत
  • ई-वीजा सुविधा सभी देशों के लिए व्यावहारिक तौर पर शुरू
  • बेटों के बाद अब अजय चौटाला भी इनेलो से निष्कासित
  • आर्थिक तंगी के कारण एक ने की खुदकुशी
  • सामूहिक दुष्कर्म मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार
राज्य Share

गुजरात में सरदार सरोवर नर्मदा बांध के जलस्तर में 12 मीटर का इजाफा

वडोदरा, 03 सितंबर (वार्ता) गुजरात में जलापूर्ति की जीवनरेखा कहे जाने वाले सरदार सरोवर नर्मदा बांध के जलाशय के जलस्तर में पिछले लगभग एक पखवाड़े 12 मीटर की जबरदस्त वृद्धि हुई है और इसके चलते बिजली उत्पादन के स्तर के लिए जरूरी जलस्तर के ऊपर के जीवंत संग्रहण (लाइव स्टोरेज) में भी खासा इजाफा हुआ है और यह ऐसी कुल संग्रहण क्षमता के 30 प्रतिशत से ऊपर पहुंच गया है।
नर्मदा परियोजना के यहां स्थित बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार गत 17 अगस्त से जलस्तर में बढ़त का सिलसिला आज भी जारी है। मध्य प्रदेश आैर छत्तीसगढ़ में नर्मदा नदी के जलग्रहण क्षेत्रों में हुई वर्षा के कारण बढ़ी पानी की आवक के चलते गत 17 अगस्त को जब जलस्तर 111.08 मीटर था से इसमें वृद्धि शुरू हुई थी। आज दोपहर 12 बजे यह 123.16 मीटर तक पहुंच गया था। पानी की आवक 40664 घन फुट प्रति सेकंड यानी क्यूसेक तथा जावक यानी बहिस्राव मात्र 4863 क्यूसेक था।
मध्य गुजरात के केवडिया स्थित इस महत्वपूर्ण बांध और जलाशय के जरिये ही राज्य की आधी आबादी यानी 3 करोड़ लोगों को पेयजल की आपूर्ति होती है। पिछले साल इस पर लगे 30 दरवाजों को बंद करने के बाद से इसमें जलसंग्रहण की अधिकतम ऊंचाई (ओवरफ्लो स्तर) पूर्व के 121.92 मीटर से बढ़ कर 138.48 मी हो गया था। इस परियोजना के तहत नदी से जुड़े छह पनबिजली इकाई 200 गुणा 6 मेगावाट यानी 1200 मेगावाट तथा मुख्य नहर से जुड़ी पांच इकाइयां 50 गुणा पांच मेगावाट यानी 250 मेगावाट के संचालन के लिए न्यूनतम जलस्तर 110.64 मी है। पर्याप्त जलस्तर होने के बावजूद नहर से जुड़ी मात्र एक इकाई को ही चलाया जा रहा है।
जीवंत जल संग्रहण का स्तर दोपहर 12 बजे 1790.49 मिलीयन घनमीटर (एमसीएम) था जो ऐसी कुल क्षमता 5845.87 एमसीएम के 30.5 प्रतिशत से भी अधिक था।
रजनीश
वार्ता
image