Wednesday, Nov 14 2018 | Time 01:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
राज्य Share

विजय हजारे ट्रॉफी के लिए बिहार टीम की घोषणा नहीं करना बीसीए का फर्जीवाड़ा : सीएबी

पटना 03 सितंबर (वार्ता) क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार (सीएबी) ने निबंधन रद्द हो चुकी संस्था बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) की हुई बैठक को अवैध करार देते हुये आज कहा कि विजय हजारे ट्रॉफी के लिए बिहार टीम की घोषणा नहीं करना बीसीए पदाधिकारियों के फर्जीवाड़े को दर्शाता है।
सीएबी के सचिव आदित्य वर्मा एवं बीसीए मीडिया कमेटी के पूर्व अध्यक्ष संजीव कुमार मिश्र ने यहां बीसीए की कल हुई बैठक को अवैध बताया और कहा कि यह बीसीए पदाधिकारियों का उच्चतम न्यायालय के आदेश की अवमानना है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि जब बीसीए के अयोग्य सचिव ने लोढ़ा समिति का हवाला देते हुये तीन से पांच चयनकर्ता बनाने की बात स्वीकार ली है तब विजय हजारे ट्रॉफी के साथ 19 सितंबर से शुरू हो रहे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के प्रथम श्रेणी के मैच खेलने के लिए गुजरात जाने वाली बिहार क्रिकेट टीम की घोषणा क्यों नहीं की गई।
उन्होंने कहा कि किसी टीम का चयन होने पर इसकी सूचना मीडिया को दी जाती है, तो बीसीए के अधिकारियों ने इसका अभी तक खुलासा क्यों नहीं किया। क्या किसी फर्जीवाड़े के तहत बिहार टीम का चयन कर केवल चयनकर्ताओं के हस्ताक्षर लेकर टीम को मैच खेलने के लिए गुजरात भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी आयु वर्ग की टीम के लिए कोच, फीजियो और प्रशिक्षक के नाम की घोषणा कर दी गई है लेकिन विजय हजारे ट्रॉफी के लिए अभी तक बिहार टीम की घोषणा नहीं करना किसी बड़े फर्जीवाड़े का संकेत है।
श्री वर्मा और श्री मिश्र ने कहा कि विभाजन के बाद अपनी पहचान खो चुके बिहार के खिलाड़ियों को 18 वर्ष बाद सर्वोच्च न्यायालय ने वर्ष 2018-19 में एक बार फिर बीसीसीआई द्वारा प्रायोजित प्रथम श्रेणी के सभी क्रिकेट मैच के साथ ही अन्य वर्गों में खेलने का मौका दिया है। उन्होंने कहा, “हमारे पास पुख्ता सबूत हैं कि अन्य राज्यों के करीब 20 क्रिकेटर जाली आवासीय एवं जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर बीसीए एवं इनके जिला क्रिकेट संघ को पैसे देकर बिहार से क्रिकेट खेलने आ चुके हैं। बीसीए को राज्य के होनहार क्रिकेटरों के भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा। यदि रिश्वत लेकर खिलाड़ियों को टीम में जगह दी गई तो इसके गंभीर परिणाम होंगे।”
उन्होंने कहा कि बिहार सरकार के निबंधन विभाग के महानिरीक्षक कार्यालय ने मई 2012 के पटना उच्च न्यायालय के आदेश के आलोक में इस वर्ष 24 अप्रैल को बीसीए के निबंधन को बहाल कर दिया, जो कानून और बिहार सोसाइटी निबंधन अधिनियम की अवमानना है क्योंकि विभाग ने इस वर्ष 27 मार्च, 05 मई और 19 जुलाई को सूचना के अधिकार के तहत मांगे गये जवाब में बताया कि विभाग ने बीसीए का निबंधन रद्द कर दिया है। उन्होंने कहा कि विभाग के 24 अप्रैल के आदेश के खिलाफ शीघ्र ही पटना उच्च न्यायालय में याचिका दायर की जाएगी।
सूरज शिवा
वार्ता
More News
भाजपा ने भेदभाव की राजनीति नहीं की: शिवराज

भाजपा ने भेदभाव की राजनीति नहीं की: शिवराज

13 Nov 2018 | 10:02 PM

रीवा, 13 नवंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कांग्रेस पर भेदभाव किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस के शासन में भेदभाव किया जाता था, लेकिन उनकी सरकार ने भेदभाव की राजनीति नहीं की, इन क्षेत्रों के विकास के लिए खूब किया, लेकिन जनप्रतिनिधियों ने विकास में कंजूसी की।

 Sharesee more..
स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग: रावत

स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग: रावत

13 Nov 2018 | 10:00 PM

इंदौर, 13 नवंबर (वार्ता) देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ पी रावत ने मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियों पर आज संतोष जताते हुए कहा कि आयोग स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

 Sharesee more..
उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी

उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी

13 Nov 2018 | 9:19 PM

लखनऊ 13 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति की है अौर 30 नवम्बर तक प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 10 लाख आवासों का निर्माण करा लिया जाएगा ।

 Sharesee more..

उत्तर प्रदेश-योगी प्रगति दो लखनऊ

13 Nov 2018 | 9:08 PM

 Sharesee more..

धनगर समाज ने आरक्षण के लिए रैली निकाली

13 Nov 2018 | 9:04 PM

 Sharesee more..
image