Saturday, Jan 19 2019 | Time 16:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बच्चे संभावनाओं का भंडार : द्रौपदी
  • जोकोविच, हालेप और सेरेना प्री क्वार्टरफाइनल में
  • ममता की रैली को भाजपा ने बताया ‘अवसरवादिता’, शत्रुघ्न पर कार्रवाई के संकेत
  • संभल मेें पूर्व पुलिस इंस्पेक्टर की पत्नी समेत तीन की हत्या
  • सोनीपत में युवक ने की विवाहिता की हत्या, खुद ट्रेन के आगे कूद कर की आत्महत्या
  • अधिवक्ता के घर डकैती के मामले में तीन गिरफ्तार
  • बाइक सवार दो अपराधी हथियार समेत गिरफ्तार
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • सेमीफाइनल में मारिन से हारीं सायना
  • सेमीफाइनल में मारिन से हारीं सायना
  • नायडू ने आंध्र को ‘विशेष तरजीह’ के केंद्र के दावे को किया खारिज
  • पंजाब की प्रगति के लिये हर पंजाबी का योगदान जरूरी : बादल
  • ममता पर जमकर बरसे भाजपा नेता
  • झांसी-कानपुर हाईवे पर रोडवेज बस और डंपर में भिड़ंत:एक की मौत नौ घायल
  • अनंतनाग में ग्रेनेड हमले में एक नागरिक घायल
राज्य Share

राजनेताओं के विरुद्ध आक्रोश पर चुनाव आयोग की नजर

भोपाल, 03 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान सीधी जिले में पथराव की घटना और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक के पुत्र द्वारा धमकी देने के बाद बनी परिस्थितियों पर चुनाव आयोग नजर रखे हुए है।
मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (सीईओ) वी एल कांताराव ने आज यहां मीडिया से चर्चा के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि हम घटनाक्रम पर नजर रख रहे हैं। हमें समय-समय पर जिला निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट मिलती रहती हैं। यदि जरूरी हुआ तो आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। रिपोर्ट आगे भेजी जाएगी और निर्देशानुसार काम किया जाएगा।
इसी संबंध में एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अभी तक ऐसी कोई रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है, जिस पर हमें संज्ञान लेने की जरूरत पड़े।
सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा सोशल मीडिया पर महिला सुरक्षा को लेकर चल रहे एक राजनीतिक विज्ञापन के बारे में उन्होंने बताया कि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने इस संबंध में एक शिकायत दर्ज कराई है। भाजपा से इस बारे में सफाई मांगी गई है, क्योंकि उच्चतम न्यायालय के वर्ष 2004 के निर्देश के अनुसार राजनीतिक विज्ञापन के लिए पूर्व अनुमति जरूरी है, चाहे चुनाव का समय हो या नहीं।
श्री कांताराव ने बताया कि आयोग द्वारा 21 मई को दिए गए निर्देश पर सामान्य प्रशासन, राजस्व और गृह विभाग ने तीन वर्षो से ज्यादा से जिलों में पदस्थ या अपने जिलों में पदस्थ अधिकारियों के स्थानांतरण 31 अगस्त तक की निर्धारित समय सीमा में कर दिए हैं। इन विभागों में चुनाव से जुड़े अधिकारी जैसे निर्वाचन अधिकारी और कलेक्टर होते हैं। अन्य विभागों के लिए स्पष्ट निर्देश हैं कि कोई भी अधिकारी किसी भी राजनीतिक दल के लिए काम नहीं करेगा।
उन्होंने बताया कि फोटोयुक्त मतदाता सूची के लिए आवेदन देने की तिथि 31 अगस्त से बढ़ाकर 7 सितंबर कर दी गई है। फोटोयुक्त मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 27 सितंबर को होगा।
श्री कांताराव ने बताया कि 31 जुलाई को मतदाता सूची के प्रकाशन के बाद आयोग को 15 लाख 67 हजार 192 आवेदन मिले हैं। इनमें आठ लाख 860 नाम शामिल करने, तीन लाख 77 हजार 450 नाम हटाने और तीन लाख 29 हजार 285 नाम सुधारने के संबंध में हैं।
पवन सुधीर
वार्ता
More News
कमलनाथ दावोस के लिए रवाना

कमलनाथ दावोस के लिए रवाना

19 Jan 2019 | 4:53 PM

भोपाल, 19 जनवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ आज तड़के विश्व आर्थिक सम्मेलन में शिरकत करने स्विट्जरलैंड के दावोस के लिए रवाना हुए।

 Sharesee more..
भाजपा करती है बकवास : कांग्रेस

भाजपा करती है बकवास : कांग्रेस

19 Jan 2019 | 4:48 PM

देवरिया,19 जनवरी (वार्ता) केन्द्र की नरेेन्द्र मोदी सरकार पर जनता के साथ वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुये कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने शनिवार को कहा कि देश में विकास क्रांति की दलील देने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं की बकवास से लोग त्रस्त हो चुके हैं और आगामी लोकसभा चुनाव में सबक सिखाने को तैयार हैं।

 Sharesee more..

कैदी के फरार होने का प्रयास विफल

19 Jan 2019 | 4:46 PM

 Sharesee more..

अवैध यूरिया की 600 बोरी सहित दो ट्रक जब्त

19 Jan 2019 | 4:44 PM

 Sharesee more..
image