Saturday, Nov 17 2018 | Time 09:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सऊदी दूतावास ने खशोगी मामले में अमेरिकी दावे को गलत बताया
  • सऊदी के क्राउन प्रिंस ने पत्रकार खशोगी की हत्या के आदेश दिए: सीआईए
  • नाइजीरिया में आग लगने से चार बच्चों सहित पांच की मौत
  • सीरिया में 30 बच्चों की मौत पर संरा ने शोक व्यक्त किया
  • तुर्की में आतंकवादी हमला मामले में छह को उम्रकैद
  • आज का इतिहास(प्रकाशनार्थ 18 नवंबर)
  • पाकिस्तान में विस्फोट, दो मरे 10 घायल
  • महाराष्ट्र में सड़क हादसे में दो की मौत
  • सुप्रीम कोर्ट ने जुल्फी बुखारी की नियुक्ति पर सरकार से जवाब मांगा
राज्य Share

संगीतबद्ध गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया सलिल ने

..पुण्यतिथि 5 सितंबर के अवसर पर..
मुंबई 04 सितंबर(वार्ता) भारतीय सिने जगत में सलिल चौधरी का नाम एक ऐसे संगीतकार के रूप मे याद किया जाता है जिन्होंने अपने संगीतबद्ध गीतों से लोगो के बीच देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया।
सलिल का जन्म 19 नवंबर 1923 को हुआ था । उनके पिता ज्ञानेन्द्र चंद्र चौधरी असम में डाक्टर के रूप में काम करते थे । सलिल का ज्यादातर बचपन असम में हीं बीता । बचपन के दिनों से ही सलिल का रूझान संगीत की ओर था। वह संगीतकार बनना चाहते थे। उन्होंने किसी उस्ताद से संगीत की शिक्षा नही ली थी । सलिल के बड़े भाई एक आर्केस्ट्रा में काम करते थे और इसी वजह से वह हर तरह के वाध यंत्रों से भली भांति परिचत हो गये। सलिल को बचपन के दिनों से हीं बांसुरी बजाने का बहुत शौक था। इसके अलावा उन्होंने पियानो और वायलिन बजाना भी सीखा।
सलिल ने अपनी स्नातक की शिक्षा कलकत्ता (कोलकाता) के मशहूर बंगावासी कॉलेज से पूरी की। इस बीच वह भारतीय जन नाटय् संघ से जुड़ गये। वर्ष 1940 मे भारतीय स्वतंत्रता संग्राम अपने चरम पर था। देश को स्वतंत्र कराने के लिये छिड़ी मुहिम में सलिल चौधरी भी शामिल हो गये और इसके लिये उन्होंने अपने संगीतबद्व गीतों का सहारा लिया। सलिल ने अपने अपने संगीतबद्व गीतों के माध्यम से देशवासियों मे जागृति पैदा की। अपने संगीतबद्व गीतों को गुलामी के खिलाफ आवाज बुलंद करने के हथियार के रूप मे इस्तेमाल किया और उनके गीतों ने अंग्रेजो के विरूद्व भारतीयों के संघर्ष को एक नयी दिशा दी ।
वर्ष 1943 मे सलिल के संगीतबद्व गीतों ..बिचारपति तोमार बिचार .. और ..धेउ उतचे तारा टूटचे .. ने आजादी के दीवानों में नया जोश भरने का काम किया। अंग्रेज सरकार ने बाद में इस गीत पर प्रतिबंध लगा दिया। पचास के दशक में सलिल ने पूरब और पश्चिम के संगीत का मिश्रण करके अपना अलग हीं अंदाज बनाया जो परंपरागत संगीत से काफी भिन्न था । इस समय तक सलिल पश्चिम बंगाल में बतौर संगीतकार और गीतकार के रूप में अपनी खास पहचान बना चुके थे। वर्ष 1950 में अपने सपनों को नया रूप देने के लिये वह मुंबई आ गये।
प्रेम टंडन
जारी वार्ता
More News
योगी ने 165 बीमार लाेगों को प्रदान की आर्थिक सहायता

योगी ने 165 बीमार लाेगों को प्रदान की आर्थिक सहायता

17 Nov 2018 | 9:32 AM

लखनऊ 17 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गम्भीर बीमारियों से ग्रसित विभिन्न जिलों के 165 लोगों को 02 करोड़ 22 लाख 72 हजार रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की है।

 Sharesee more..

कानपुर मुठभेड़ में शातिर अपराधी गिरफ्तार

17 Nov 2018 | 9:19 AM

 Sharesee more..

महाराष्ट्र में सड़क हादसे में दो की मौत

17 Nov 2018 | 2:36 AM

 Sharesee more..
अडानी , अंबानी का कर्ज माफ कर रहे हैं मोदी: सिद्धू

अडानी , अंबानी का कर्ज माफ कर रहे हैं मोदी: सिद्धू

16 Nov 2018 | 11:26 PM

बिलासपुर 16 नवंबर (वार्ता) कांग्रेस के नेता एवं पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाया है कि वह अडानी अंबानी जैसे अपने दोस्तों का कर्ज माफ करके मित्रधर्म निभा रहे हैं जबकि गरीब किसानों का रिण माफ करना तो दूर उल्टे उन्हें भुखमरी के कगार पर ला खड़ा कर दिया गया है।

 Sharesee more..
किरण बेदी ने पत्रकारों के साथ मनाया ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’

किरण बेदी ने पत्रकारों के साथ मनाया ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’

16 Nov 2018 | 11:04 PM

पुड्डुचेरी,16 नवंबर (वार्ता) पुड्डुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने शुक्रवार को यहां स्थित राजनिवास में पत्रकारों के साथ ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’ मनाया।

 Sharesee more..
image