Wednesday, Jul 24 2019 | Time 12:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अवैध रेत खनन मामले में केंद्र, पांच राज्यों को नोटिस
  • बोरिस जॉनसन के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री का पद संभालने की उम्मीद
  • हाउसफुल-4 में रैप सांग गायेंगे अक्षय कुमार
  • कंगना के साथ काम करना हमेशा मजेदार : राजकुमार
  • फिल्मों में कमबैक को लेकर बेताब हैं ऋषि कपूर
  • ट्विंकल से सलाह लेते रहते हैं अक्षय
  • अब तक किसी लड़की ने शादी के लिए प्रपोज नहीं किया: सलमान खान
  • हाउसफुल-4 में रैप सांग गायेंगे अक्षय कुमार
  • हाउसफुल-4 में रैप सांग गायेंगे अक्षय कुमार
  • कंगना के साथ काम करना हमेशा मजेदार : राजकुमार
  • कंगना के साथ काम करना हमेशा मजेदार : राजकुमार
  • फिल्मों में कमबैक को लेकर बेताब हैं ऋषि कपूर
  • फिल्मों में कमबैक को लेकर बेताब हैं ऋषि कपूर
  • ट्विंकल से सलाह लेते रहते हैं अक्षय
  • ट्विंकल से सलाह लेते रहते हैं अक्षय
राज्य


संगीतबद्ध गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया सलिल ने

..पुण्यतिथि 5 सितंबर के अवसर पर..
मुंबई 04 सितंबर(वार्ता) भारतीय सिने जगत में सलिल चौधरी का नाम एक ऐसे संगीतकार के रूप मे याद किया जाता है जिन्होंने अपने संगीतबद्ध गीतों से लोगो के बीच देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया।
सलिल का जन्म 19 नवंबर 1923 को हुआ था । उनके पिता ज्ञानेन्द्र चंद्र चौधरी असम में डाक्टर के रूप में काम करते थे । सलिल का ज्यादातर बचपन असम में हीं बीता । बचपन के दिनों से ही सलिल का रूझान संगीत की ओर था। वह संगीतकार बनना चाहते थे। उन्होंने किसी उस्ताद से संगीत की शिक्षा नही ली थी । सलिल के बड़े भाई एक आर्केस्ट्रा में काम करते थे और इसी वजह से वह हर तरह के वाध यंत्रों से भली भांति परिचत हो गये। सलिल को बचपन के दिनों से हीं बांसुरी बजाने का बहुत शौक था। इसके अलावा उन्होंने पियानो और वायलिन बजाना भी सीखा।
सलिल ने अपनी स्नातक की शिक्षा कलकत्ता (कोलकाता) के मशहूर बंगावासी कॉलेज से पूरी की। इस बीच वह भारतीय जन नाटय् संघ से जुड़ गये। वर्ष 1940 मे भारतीय स्वतंत्रता संग्राम अपने चरम पर था। देश को स्वतंत्र कराने के लिये छिड़ी मुहिम में सलिल चौधरी भी शामिल हो गये और इसके लिये उन्होंने अपने संगीतबद्व गीतों का सहारा लिया। सलिल ने अपने अपने संगीतबद्व गीतों के माध्यम से देशवासियों मे जागृति पैदा की। अपने संगीतबद्व गीतों को गुलामी के खिलाफ आवाज बुलंद करने के हथियार के रूप मे इस्तेमाल किया और उनके गीतों ने अंग्रेजो के विरूद्व भारतीयों के संघर्ष को एक नयी दिशा दी ।
वर्ष 1943 मे सलिल के संगीतबद्व गीतों ..बिचारपति तोमार बिचार .. और ..धेउ उतचे तारा टूटचे .. ने आजादी के दीवानों में नया जोश भरने का काम किया। अंग्रेज सरकार ने बाद में इस गीत पर प्रतिबंध लगा दिया। पचास के दशक में सलिल ने पूरब और पश्चिम के संगीत का मिश्रण करके अपना अलग हीं अंदाज बनाया जो परंपरागत संगीत से काफी भिन्न था । इस समय तक सलिल पश्चिम बंगाल में बतौर संगीतकार और गीतकार के रूप में अपनी खास पहचान बना चुके थे। वर्ष 1950 में अपने सपनों को नया रूप देने के लिये वह मुंबई आ गये।
प्रेम टंडन
जारी वार्ता
image