Tuesday, Feb 19 2019 | Time 16:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लगातार नौंवे दिन शेयर बाजार में जारी रही बिकवाली
  • पाकिस्तान जैश पर संयुक्त राष्ट्र की कार्रवाई का विरोध नहीं करे: अमेरिका
  • स्पाइसजेट शुरू करेगी 12 नयी उड़ानें
  • उ न्या ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन बंगले की सुविधा की समाप्त
  • यूईएम इंडिया बनी तोशिबा वाटर सॉल्यूशंस
  • धोनी-विराट की भिड़ंत से होगी आईपीएल की शुरुआत
  • मुजफ्फरनगर मंडी में गुड़ और चीनी के भाव
  • पेटीएम पेमेंट्स बैंक उपभोक्ता कर सकते हैं म्युचुअल फंड्स में निवेश
  • सिख युवकों की हत्या के जिम्मेवार पुलिस अधिकारियों पर मामला दर्ज किया जाये: बलदेव सिंह
  • झाविमो को सम्मान नहीं मिला तो गठबंधन की होगी हार : बाबूलाल
  • रोजगार को प्राथमिकता देने वाले निवेश को देंगे प्रोत्साहन : कमलनाथ
  • राष्ट्र ध्वज के प्रति प्रतिज्ञा न लेने वाला छात्र गिरफ्तार
  • ए320 विमान पर सफल रहा टैक्सीबोट का परीक्षण
  • चार साल में बदली रेलवे की सूरत और सीरत : मोदी
राज्य Share

वर्ष 1950 में विमल राय अपनी फिल्म दो बीघा जमीन के लिये संगीतकार की तलाश कर रहे थे। वह सलिल के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित हुये और उन्होंने सलिल से अपनी फिल्म दो बीघा जमीन में संगीत देने की पेशकश की। सलिल ने संगीतकार के रूप में अपना पहला संगीत वर्ष 1952 में प्रदर्शित विमल राय की फिल्म ..दो बीघा जमीन ..के गीत .. आ री आ निंदिया ..के लिये दिया । फिल्म की कामयाबी के बाद सलिल बतौर संगीतकार फिल्मों में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये ।
फिल्म दो बीघा जमीन की सफलता के बाद इसका बंगला संस्करण ..रिक्शावाला .. बनाया गया । वर्ष 1955 में प्रदर्शित इस फिल्म की कहानी और संगीत निर्देशन सलिल ने ही किया था। फिल्म दो बीघा जमीन की सफलता के बाद सलिल विमल राय के चहेते संगीतकार बन गये और इसके बाद विमल राय की फिल्मों के लिये सलिल ने बेमिसाल संगीत देकर उनकी फिल्मो को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी ।
वर्ष 1960 में प्रदर्शित फिल्म ..काबुलीवाला .. में पार्श्वगायक मन्ना डे की आवाज में सजा यह गीत .. ऐ मेरे प्यारे वतन ऐ मेरे बिछड़े चमन तुझपे दिल कुर्बान .. आज भी श्रोताओं की आंखो को नम कर देता है । सत्तर के दशक में सलिल को मुंबई की चकाचौंध कुछ अजीब सी लगने लगी और वह कोलकाता वापस आ गये। उन्होंने इस बीच कई बंगला गानें लिखे। इनमें सुरेर झरना और तेलेर शीशी श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुये । सलिल के सिने कैरियर में उनकी जोड़ी गीतकार शैलेन्द्र और गुलजार के साथ खूब जमी। सलिल के पसंदीदा पार्श्वगयिकों में लता मंगेश्कर का नाम सबसे पहले आता है। वर्ष 1958 मे विमल राय की फिल्म ..मधुमति .. के लिये सलिल को सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।वर्ष 1998 में संगीत के क्षेत्र मे उनके बहूमूल्य योगदान को देखते हुये वह संगीत नाटय अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये ।
सलिल ने अपने चार दशक लंबे सिने कैरियर में लगभग 75 हिन्दी फिल्मों में संगीत दिया । हिन्दी फिल्मों के अलावा उन्होने मलयालम .तमिल .तेलगू .कन्नड़ .गुजराती .आसामी. उडि़या और मराठी फिल्मों के लिये भी संगीत दिया। लगभग चार दशक तक अपने संगीत के जादू से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान संगीतकार सलिल पांच सितंबर 1995 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।
प्रेम टंडन
वार्ता
More News

कुंड में डूबने से मासूम की मौत

19 Feb 2019 | 4:28 PM

 Sharesee more..

चंदौली में 50 पेटी अवैध शराब बरामद

19 Feb 2019 | 4:25 PM

 Sharesee more..
बेरोजगारी भत्ते को लेकर भाजपा एलं सत्ता पक्ष के सदस्यों में नोकझोंक

बेरोजगारी भत्ते को लेकर भाजपा एलं सत्ता पक्ष के सदस्यों में नोकझोंक

19 Feb 2019 | 4:25 PM

रायपुर 19 फरवरी(वार्ता)छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज भाजपा सदस्यों ने बेरोजगारी भत्ते के चुनावी वादा नही पूरा करने जबकि सत्ता पक्ष के सदस्यों ने मोदी सरकार के दो करोड़ बेरोजगारों को प्रति वर्ष रोजगार देने के वादे को लेकर एक दूसरे पर आरोप लगाए।दोनो के बीच इसे लेकर नोकझोंक भी हुई।

 Sharesee more..
image