Wednesday, Nov 14 2018 | Time 23:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अपर जिला न्यायाधीश से तीन करोड़ की संपत्ति जब्त
  • अमेरिका भारत में लगाये रक्षा उद्योग: मोदी
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • सूखा पीड़ित किसानों को 50 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर दिया जाय: विखे पाटिल
  • वेबसीरीज ‘मिर्जापुर’ 16 नवंबर को एक साथ 200 देशों में रिलीज
  • रोजगार मेले के पहले दिन 720 युवाओं की मिला रोजगार
  • पंजाब रेडियो लंदन ने रेल हादसा पीड़ित 21 परिवारों को दी आर्थिक सहायता
  • बाजीराव कोंकणी रीति-रिवाज से हुए मस्तानी के
  • बाजीराव कोंकणी रीति-रिवाज से हुए मस्तानी के
  • बाजीराव कोंकणी रीति-रिवाज से हुए मस्तानी के
  • झारखंड के सर्वांगीण विकास में पुलिस की भूमिका महत्वपूर्ण : रघुवर
  • अर्बन हाट अमृतसर को पीपीपी के अंतर्गत विकसित किया जायेगा: तृप्त बाजवा
  • मथुरा एवं आगरा के प्राचीन कुण्डों को गंगा नदी के जल से भरने के निर्देश
  • मोदी की जिद से देश की अर्थव्यवस्था में संघर्ष: चव्हाण
राज्य Share

पर्यावरण सुुरक्षा के लिए पौधरोपण जरूरी: आर्य

भोपाल, 04 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के पर्यावरण मंत्री अन्तर सिंह आर्य ने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए पौधरोपण काे जरूरी बताते हुए आज देश के सभी राज्यों से आग्रह किया है कि वे राष्ट्रीय और राज्य राजमार्ग, नगर निगम, ग्राम पंचायत की सभी सड़कों के दोनों ओर और औद्योगिक क्षेत्र में खाली जमीन पर नीम का पौधरोपण करें।
श्री आर्य यहां मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा सेन्टर फॉर साइंस एनावायरमेंट (सीएसई) और स्वीडन एनवायरमेंट प्रोटेक्शन एजेंसी (सीपा) के सहयोग से आयोजित चार दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश और विश्व में जलवायु परिवर्तन को गंभीरता से लेते हुए भावी पीढ़ी को स्वच्छ और स्वस्थ पर्यावरण देने के लिये प्रशिक्षण कार्यक्रम का गंभीरता पूर्वक मंथन करें। उन्होंने कहा कि पिछले 20-30 सालों में पर्यावरण में बहुत बदलाव आया है, इसलिये पर्यावरण को जन-आन्दोलन बनाने की आवश्यकता है।
उन्होंने प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे अपने-अपने राज्य की सरकारों को खाली पड़ी जमीन के 50 प्रतिशत क्षेत्र में नीम और शेष क्षेत्र में अन्य फलदार और छायादार वृक्ष के पौधरोपण का सुझाव दें। श्री आर्य ने कहा कि पर्यावरण के क्षेत्र में स्वीडन नवीनतम तकनीक का उपयोग कर रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान स्वीडन की उपलब्धियों को साझा करते हुए देश, प्रदेश और विश्व पर्यावरण के लिये ठोस परिणाम प्राप्त होंगे।
कार्यक्रम में सीपा, सीएसई सहित गोवा, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, उड़ीसा, उत्तरप्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, हरियाणा, आन्ध्रप्रदेश और राजस्थान आदि राज्यों के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष अनुपम राजन ने कहा कि प्रशिक्षण के चार दिनों में सभी राज्य एक-दूसरे से अपनी उपलब्धियों को साझा कर राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पर्यावरण संरक्षण की बेहतरी के लिये मंथन करेंगे।
बघेल
वार्ता
More News
कोलकाता में ‘रसगुल्ला दिवस’ पर मनाया जा रहा है जश्न

कोलकाता में ‘रसगुल्ला दिवस’ पर मनाया जा रहा है जश्न

14 Nov 2018 | 11:44 PM

कोलकाता, 14 नवंबर (वार्ता) मिष्ठान प्रेमी बंगाल वासियों के लिए 14 नवंबर का दिन विशेष महत्व का है क्योंकि अपनी विशिष्ट विरासत को समेटे बंगाल के रसगुल्ला को पिछले वर्ष इसी दिन भौगोलिक पहचान (जीआई) का तमगा हासिल हुआ था।

 Sharesee more..
राज्यपाल अभिवादन स्वरूप महामहिम नहीं माननीय का प्रयोग किया जाए : मौर्य

राज्यपाल अभिवादन स्वरूप महामहिम नहीं माननीय का प्रयोग किया जाए : मौर्य

14 Nov 2018 | 11:37 PM

देहरादून, 14 नवम्बर (वार्ता) उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने निर्देश दिया है कि भविष्य में एक रिवाज के प्रयोजन हेतु अभिवादन स्वरूप जहाँ महामहिम राज्यपाल शब्द प्रयोग किया जाता है उसके स्थान पर राज्यपाल महोदय या ‘‘माननीय राज्यपाल’’ का प्रयोग किया जाए।

 Sharesee more..
संजय कुमार के मीटू के आरोप में फंसने के मसले पर बोले त्रिवेन्द्र

संजय कुमार के मीटू के आरोप में फंसने के मसले पर बोले त्रिवेन्द्र

14 Nov 2018 | 11:16 PM

नैनीताल 14 नवम्बर (वार्ता) उत्तराखंड के मुख्यमत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के निवर्तमान प्रदेश महासचिव संजय कुमार के मी टू के आरोप में फंसने पर बुधवार को तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि गलती करने वाले को सजा मिलनी चाहिए।

 Sharesee more..
सूखा पीड़ित किसानों को 50 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर दिया जाय: विखे पाटिल

सूखा पीड़ित किसानों को 50 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर दिया जाय: विखे पाटिल

14 Nov 2018 | 11:05 PM

औरंगाबाद 14 नवंबर (वार्ता) महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे-पाटिल ने कहा कि यदि सरकार सूखा पीड़ित किसानों को आर्थिक मदद नहीं देती है तो वह 19 नवंबर से शुरू हो रहे शीत सत्र को नहीं चलनें देंगे।

 Sharesee more..
image