Wednesday, Sep 26 2018 | Time 18:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गेहूं नरम;चना,चावल मजबूत;दालों,खादय तेलों में टिकाव
  • रियो, गडकरी ने की समीक्षा बैठक
  • बंगलादेश में विमान का आपात लैंडिंग
  • नियोक्ताओं के लिये ऑनलाइन आवेदन करना अनिवार्य
  • मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को बताया महत्वपूर्ण
  • मुम्बई हाफ मैराथन में इस साल महिला पेसर्स का बोलबाला
  • बांदीपुरा में आतंकवादी मुठभेड़ के पांच दिन बाद जनजीवन सामान्य
  • छत्तीसगढ़ में 295 किमी नयी रेललाइन बिछाने काे मंजूरी
  • किसानों को 20 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा दिया जाए: खैहरा
  • लघु फिल्म कहानीबाज जारी
  • रुपया सात पैसे मजबूत
  • गुलमर्ग आैर पाटलिपुत्र अशाेक होटल राज्य सरकारों को
  • योगेश्वर बने हरियाणा स्टीलर्स के ब्रांड एम्बेसेडर
  • नासिक में सामूहिक झगडे में एक व्यक्ति की हत्या
  • सरहिंद और राजस्थान फीडर नहरों के मरम्मत के लिए 825 करोड़ मंजूर
राज्य Share

नगर में स्वच्छता के विभिन्न कार्यक्रमों आैर अभियानों को ब्योरा देते हुए श्री गुप्ता ने कहा कि नगर की आबादी 60 हजार के आस पास है जिसमें 80 प्रतिशत आदिवासी लोग हैं। इसके बावजूद नगर में स्वच्छता के सभी मानकों को कडाई से पूरा किया गया और नया आधारभूत ढ़ांचा तैयार किया है। पूरे शहर को कूड़े कचरे से मुक्त करने के लिये कचरे के निस्तारण के लिए विस्तृत बुनियादी ढांचा तैयार किया गया है। अावारा पशुओं के लिये गौशाला बनाई गयी है।
स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में डूंगरपुर को स्थान नहीं मिलने से नगर परिषद और समूचे नगरवासियों को बहुत मलाल है। इसका विरोध करते हुए नगर से 50 हजार पत्र प्रधानमंत्री और आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय को भेजे गये हैं। उनका दावा है कि स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम इंदौर और द्वितीय भोपाल से किसी भी तरह से डूंगरपुर पीछे नहीं है। देश में कई नगर निकायों ने इस पर आपत्ति जताई है। लेकिन मंत्रालय ने कहा है कि स्वच्छता सतत प्रक्रिया है, जिसके लिए ठोस ढांचागत तैयारियां होनी चाहिए।
परिषद के उप सभापति फखरुद्दीन बोहरा ने बताया कि डूंगरपुर नगर परिषद स्वच्छता के साथ कूड़ा-कचरा प्रबंधन में अव्वल है। नगर में कूड़े के ढेर नहीं है बल्कि कूडा छांटने के बाद 15 हजार रुपए प्रतिदिन नगर परिषद को आय होती है। इसके लिए शहर के भिखारियों और कूड़ा बीनने वालों को लगाया गया है। इसके लिये इन्हें प्रतिदिन 250 रुपए प्रतिदिन का भुगतान किया जाता है। शत प्रतिशत स्वच्छता कायम करने के लिए शहर के बीच स्थित लगभग सात किलोमीटर दायरे में फैली गैप सागर झील की सफाई की गयी है। बीच में बने बादल महल को संग्रहालय में बदल दिया गया है।
सत्या संजीव
जारी वार्ता
More News

रियो, गडकरी ने की समीक्षा बैठक

26 Sep 2018 | 5:43 PM

 Sharesee more..
पदोन्नति में आरक्षण के फैसले का स्वागत:  मायावती

पदोन्नति में आरक्षण के फैसले का स्वागत: मायावती

26 Sep 2018 | 5:39 PM

लखनऊ, 26 सितम्बर (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग के कर्मचारियों की पदोन्नति में आरक्षण संबंधी उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत किया है।

 Sharesee more..

बुलन्दशहर में तीन शराब तस्कर गिरफ्तार

26 Sep 2018 | 5:36 PM

 Sharesee more..
image