Sunday, Jul 21 2019 | Time 16:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ठाणे में सड़क हादसे में मजदूर की मौत, 19 घायल
  • गुजरात में बारिश के कारण चार लोगों की मौत
  • विश्वास मत पर वोटिंग के दौरान तठस्थ रहेंगे बसपा के इकलौते विधायक
  • पैरोल जंप करने वाला ‘मोस्ट वांटेड‘ बदमाश पकड़ा गया
  • अमेरिका में लू से छह लोगों की मौत, करोड़ों प्रभावित
  • विश्व में खसरे से प्रति घंटे दस बच्चों की होती है मौत
  • विराट को तीनों फार्मेट की कप्तानी, हार्दिक को विश्राम
  • सादगी की मिसाल राय दा ने आजीवन पेंशन नहीं ली
  • सिरसा मेंं कांग्रेस नेताओं ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धाजंलि
  • सिंधू का 2019 में अपने पहले खिताब का सपना टूटा
राज्य


नगर में स्वच्छता के विभिन्न कार्यक्रमों आैर अभियानों को ब्योरा देते हुए श्री गुप्ता ने कहा कि नगर की आबादी 60 हजार के आस पास है जिसमें 80 प्रतिशत आदिवासी लोग हैं। इसके बावजूद नगर में स्वच्छता के सभी मानकों को कडाई से पूरा किया गया और नया आधारभूत ढ़ांचा तैयार किया है। पूरे शहर को कूड़े कचरे से मुक्त करने के लिये कचरे के निस्तारण के लिए विस्तृत बुनियादी ढांचा तैयार किया गया है। अावारा पशुओं के लिये गौशाला बनाई गयी है।
स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में डूंगरपुर को स्थान नहीं मिलने से नगर परिषद और समूचे नगरवासियों को बहुत मलाल है। इसका विरोध करते हुए नगर से 50 हजार पत्र प्रधानमंत्री और आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय को भेजे गये हैं। उनका दावा है कि स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम इंदौर और द्वितीय भोपाल से किसी भी तरह से डूंगरपुर पीछे नहीं है। देश में कई नगर निकायों ने इस पर आपत्ति जताई है। लेकिन मंत्रालय ने कहा है कि स्वच्छता सतत प्रक्रिया है, जिसके लिए ठोस ढांचागत तैयारियां होनी चाहिए।
परिषद के उप सभापति फखरुद्दीन बोहरा ने बताया कि डूंगरपुर नगर परिषद स्वच्छता के साथ कूड़ा-कचरा प्रबंधन में अव्वल है। नगर में कूड़े के ढेर नहीं है बल्कि कूडा छांटने के बाद 15 हजार रुपए प्रतिदिन नगर परिषद को आय होती है। इसके लिए शहर के भिखारियों और कूड़ा बीनने वालों को लगाया गया है। इसके लिये इन्हें प्रतिदिन 250 रुपए प्रतिदिन का भुगतान किया जाता है। शत प्रतिशत स्वच्छता कायम करने के लिए शहर के बीच स्थित लगभग सात किलोमीटर दायरे में फैली गैप सागर झील की सफाई की गयी है। बीच में बने बादल महल को संग्रहालय में बदल दिया गया है।
सत्या संजीव
जारी वार्ता
More News
ममता का मतपत्रों का इस्तेमाल दोबारा शुरू करने का आह्वान

ममता का मतपत्रों का इस्तेमाल दोबारा शुरू करने का आह्वान

21 Jul 2019 | 4:07 PM

कोलकाता 21 जुलाई (वार्ता) पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस ममता बनर्जी ने रविवार को कहा कि मतदान के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों की जगह मतपत्रों का इस्तेमाल दोबारा शुरू किया जाना चाहिए।

see more..
image