Thursday, Jun 20 2019 | Time 22:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रधानमंत्री मोदी कल 40 हजार लोगों के साथ करेंगे योग
  • हिमाचल में बस खाई में गिरी, 32 लोगों की मौत और 33 घायल
  • हिमाचल में बस खाई में गिरी, 30 लोगों की मौत और 33 घायल
  • म्यांमार के चुनाव अधिकारियों को चुनाव प्रबंधन के गुर सिखाए गए
  • हत्या करने वाले गिरोह का इनामी बदमाश गिरफ्तार
  • अमरनाथ यात्रा के इंतजामों की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय बैठक
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मुरादाबाद में दबंगों की युवती के पिता की हत्या,चार गिरफ्तार
  • परामर्श
  • प्रधानमंत्री चमकी बुखार का जायजा लेने बिहार आयें : डॉ ठाकुर
  • प्रधानमंत्री चमकी बुखार का जायजा लेने बिहार आयें-डॉ ठाकुर
  • कुल्लू बस दुर्घटना पर राष्ट्रपति ने गहरा दुख जताया
  • लू प्रभावित मरीजों को उपलब्ध कराई जाएगी चिकित्सा सुविधा : नीतीश
  • ईरान ने बहुत बड़ी गलती कर दी :ट्रंप
  • केरल ने तमिलनाडु को 20 लाख लीटर पेयजल देने की पेशकश की
राज्य


ओडिशा विस में वाजपेयी और चटर्जी को श्रद्धांजलि

भुवनेश्वर 04 सितंबर (वार्ता) ओडिशा विधानसभा में मंगलवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष साेमनाथ चटर्जी और अन्य गणमान्य लोगों को श्रद्धांजलि देने के बाद सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी गयी।
सदन में तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम करुणानिधि, ओडिशा के पूर्व मंत्री जदुनाथ दास महापात्रा, पूर्व सदस्य सूर्यमणि पात्रा, ब्रज किशोर मोहंती और मुरलीधर कुआनार को भी श्रद्धांजलि दी गयी। मलकानगिरि जिले में माओवादियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए ओडिशा पुलिस के कांस्टेबल संजय मांझी को भी श्रद्धासुमन अर्पित किये गये। इन सभी का निधन विधानसभा के 12वें और 13वें सत्र के बीच हुआ था।
मुख्यमंत्री एवं विधानसभा के नेता नवीन पटनायक ने शोक प्रस्ताव पेश करते हुए श्री वाजपेयी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री के निधन को राष्ट्र की अपूरणीय क्षति और उतना ही बड़ा निजी नुकसान बताया।
उन्होंने श्री वाजपेयी को बुद्धिमान नेता बताते हुए कहा कि उन्होंने अनगिनत विविधताओं के साथ गठबंधन सरकार चलाने की कला से दुनिया को अवगत कराया। सभी दलों के नेता उनका बहुत सम्मान करते थे।
विपक्ष के नेता नरसिंह मिश्रा ने कहा कि राजनीतिक विचारधारा में अंतर होने के बावजूद वह श्री वाजपेयी के व्यक्तित्व, व्यवहार और मानवीय पक्ष से अभिभूत थे। श्री वाजपेयी लोकतंत्र में भरोसा करते थे और राजधर्म का पालन नहीं करने वाले किसी भी शख्स को बख्शते नहीं थे।
पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए श्री पटनायक ने इसे लोकतंत्र के लिए बड़ी क्षति बताया।
विपक्ष के नेता ने भी श्री चटर्जी के निधन पर शोक जताया और उन्हें एक महान अधिवक्ता तथा गरीबों और पिछड़ों के लिए काम करने वाला सबसे कद्दावर नेता बताया।
यामिनी आशा
वार्ता
image