Saturday, Feb 16 2019 | Time 11:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बोल्टन ने पुलवामा हमले पर डोभाल से की बात
  • ब्राजील बांध हादस: आठ और लोग गिरफ्तार
  • घुटने और कुल्हे के ऑपरेशन में 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी
  • यरुशलम, इजरायल-फिलिस्तीन की संयुक्त राजधानी बने: संयुक्त राष्ट्र
  • बाधित ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ फिर से रवाना
  • आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ है अमेरिका : पोम्पियो
  • वापसी के दौरान रूकी ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’
  • पाकिस्तान आतंकवाद को जायज ठहराने का न करे प्रयास: हक्कानी
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 17 फरवरी)
  • अमेरिका में कारखाने में गोलीबारी में पांच की मौत
  • ट्रम्प ने खर्च एवं सीमा सुरक्षा कानून पर हस्ताक्षर किये
  • केन्या में सड़क दुर्घटना में नौ लोगों की मौत
  • इराक में आईएस ने आठ लोगों का किया अपहरण
  • नाइजीरिया में बंदूकधारियों ने 66 की हत्या की
राज्य Share

कपास की खरीद आढ़तियों के माध्यम से न करने के आदेश से रोष

हिसार, 4 सितंबर (वार्ता) केंद्र सरकार के कपास की खरीद आढ़तियों के माध्यम से कराने की बजाय सीधे किसानों से करने के आदेश दिए जाने के खिलाफ आढ़तियों ने आज यहां रोष व्यक्त किया।
अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग की अध्यक्षता में आढ़ती प्रतिनिधियों की बैठक अनाज मंडी में हुई। इस बैठक में श्री गर्ग ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार देश से मंडियों में व्यापार खत्म करने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पहले सरसों की खरीद सीधे की और अब नया फरमान जारी करके कपास की खरीद भी आढ़तियों के माध्यम से नहीं करके सीधे केंद्र सरकार की खरीद एजेंसी से करने के आदेश दिए हैं।
श्री गर्ग ने आरोप लगाया कि यह देश के आढ़तियों को बर्बाद करने की साजिश है। उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश के आढ़तियों ने मंडियों में दुकानें करके करोड़ों रुपए अनाज के व्यापार में लगा रखे हैं अगर अनाज की खरीद आढ़तियों के माध्यम से नहीं होगी तो आढ़ती मंडी में दुकान करके क्या करेगा? श्री गर्ग ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के कारण देश का किसान और आढ़ती दोनों को ही भारी नुकसान हो रहा है। सरकार किसान को पूरा भाव ही नहीं दे रही है, जबकि व्यापारी किसान की फसल अच्छे दामों में खरीद रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि कपास का सरकारी रेट 5150 रुपए प्रति क्विंटल है और मंडियों में कपास आढ़ती के माध्यम से 5900 रुपए प्रति क्विंटल बिक रही है।
श्री गर्ग ने कहा कि सरकार व्यापारी व किसान में फूट डालने की नाकाम कोशिश कर रही है, जबकि व्यापारी व किसान का चोली-दामन का साथ है और दोनों के परिवारिक संबंध है, जो सदियों चले आ रहे हैं और चलते रहेंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा सहित अन्य कई राज्यों की सरकारों ने मंडियां बना कर व्यापारियों को दुकानें बेचकर व्यापार करने के लाइसेंस दिए हुए हैं तथा हरियाणा सरकार मार्केटिंग बोर्ड बनाकर व्यापारियों से मार्केट फीस भी वसूल रही है ऐसे में अगर केंद्र सरकार अनाज की खरीद सीधे करेगी तो हरियाणा व सभी राज्यों में अनाज मंडी बनाने का कोई औचित्य नहीं रह जाएगा।
उन्होंने कहा कि सिर्फ हरियाणा की अनाज मंडी के माध्यम से लाखों परिवारों को रोजगार मिला हुआ है। सरकार एक तरफ बेरोजगारी खत्म करने की बात कर रही है, दूसरी तरफ रोजगार छीन कर लोगों को बेरोजगार करने की साजिश रची जा रही है, जो सरासर गलत है। उन्होंने मांग की कि अनाज की खरीद पहले की तरह आढ़तियों के माध्यम से ही की जाये।
उन्होंने बताया कि इस मुद्दे को लेकर एक राज्य स्तरीय व्यापारी प्रतिनिधि सम्मेलन 16 सितंबर को कैथल में किया जाएगा जिसमें आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी।
सं महेश विक्रम
वार्ता
More News

गुर्जर आंदोलन शीघ्र समाप्त होने के आसार

16 Feb 2019 | 11:01 AM

 Sharesee more..
खजुराहो नृत्य महोत्सव 20 फरवरी से

खजुराहो नृत्य महोत्सव 20 फरवरी से

16 Feb 2019 | 10:20 AM

छतरपुर, 16 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के खजुराहो में 45 वां खजुराहो नृत्य महाेत्सव का आयोजन 20 फरवरी से किया जाएगा, जो 26 फरवरी तक चलेगा।

 Sharesee more..

तमिलनाडु में सड़क हादसे में दो मरे 11 घायल

16 Feb 2019 | 12:20 AM

 Sharesee more..
image