Sunday, Nov 18 2018 | Time 22:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र में टीईटी की परीक्षा में फर्जी पेपर एवं साल्वर समेत 35 गिरफ्तार
  • किसी को भी पंजाब में शांति एवं साम्प्रदायिक सद्भाव खराब नहीं करने दिया जाएगा: बिट्टू
  • ग्रेनेड हमले की जांच के लिए एनआईए टीम अदलीवाल पहुंची
  • प्रधानमंत्री पद की गरिमा के प्रतिकूल है मोदी का भाषण: कमलनाथ
  • पंजाब में हर कीमत पर कायम की जायेगी शांति: अमरिन्दर
  • इराक में कार बम विस्फोट में दो मरे ,15 घायल
  • कांग्रेस के स्वभाव में धोखा, जनता का विश्वास खोया: मोदी
  • सीएम ने दिये अधिकारियों को दिये तुरंत गाँव अदलीवाल पहुँचने के निर्देश
  • बिहार में सड़क दुर्घटना में 12 लोगों की मौत ,18 घायल
  • संवैधानिक संकट का सामना कर रहा देश : उदय नारायण
  • पटना के नाले में गिरे दीपक की दूसरे दिन भी तलाश जारी
  • छत्तीसगढ़ में तीसरे मोर्चे की होगी बड़ी भूमिका: रमन
  • मध्यप्रदेश में विकास ने लोगों का नजरिया बदला: जेटली
  • उप्र में टीईटी में की परीक्षा में फर्जी पेपर एवं साल्वर समेत 19 गिरफ्तार
  • तेलंगाना में कांग्रेस नीत गठबंधन का नामकरण, टीजेएस प्रमुुख होंगे इसके अध्यक्ष
राज्य Share

छत्तीसगढ़ सरकार वन अधिनियम के तहत दर्ज 20 हजार मुकदमें लेंगी वापस

रायपुर 04 सितम्बर(वार्ता) छत्तीसगढ़ सरकार ने चुनावों से पहले आदिवासियों को खुश करने के लिए उनके खिलाफ वन अधिनियम के तहत दर्ज 20 हजार दर्ज मुकदमें वापस लेने का निर्णय लिया है।
मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने राज्य मंत्रिपरिषद की आज यहां हुई बैठक के बाद पत्रकारों को यह जानकारी देते हुए बताया कि मंत्रिपरिषद ने 31 दिसम्बर 16 तक भारतीय वन अधिनियम 1927 के तहत दर्ज वसूली योग्य 19 हजार 832 प्रकरणों को वनवासियों के व्यापक हित में समाप्त करने का निर्णय लिया है।इन प्रकरणों में 20 हजार रूपए तक जुर्माने का प्रावधान है।
उन्होने बताया कि आज लिए गए निर्णय से अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लगभग 12 हजार लोगों को लाभ मिलने की संभावना है। राज्य सरकार के इस निर्णय को खासकर आदिवासियों को साधने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार ने 2005 में भी वन अधिनियम के तहत दर्ज इस प्रकार के दो लाख 57 हजार 226 प्रकरणों को भी समाप्त कर दिया था।
साहू
वार्ता
More News
प्रधानमंत्री पद की गरिमा के प्रतिकूल है मोदी का भाषण: कमलनाथ

प्रधानमंत्री पद की गरिमा के प्रतिकूल है मोदी का भाषण: कमलनाथ

18 Nov 2018 | 10:43 PM

भोपाल, 18 नवम्बर (वार्ता) कांग्रेस के मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उनके गृह नगर छिंदवाड़ा में दिये गये भाषण को प्रधानमंत्री पद की गरिमा के प्रतिकूल बताया है।

 Sharesee more..
image