Thursday, Jul 18 2019 | Time 20:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मुख्यमंत्री ने लगाई फीस वृद्धि पर रोक, छात्रों को देनी होनी पुरानी फीस
  • पुलिस अवर निरीक्षक रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • दो लाख से अधिक श्रद्धालु पवित्र शिवलिंग का कर चुके दर्शन
  • प्रोन्नति के लिये यूपीजेईए का ‘सत्याग्रह’ छठे दिन भी जारी
  • प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा किया गया रखरखाव : प्रियव्रत
  • वैष्णो देवी हेलिकॉप्टर सेवा तीसरे दिन स्थगित
  • अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकवादियों के हमले में 35 सैनिक मारे गये
  • श्रीखंड यात्रा फिर से शुरू, पार्वती बाग से आगे जाने की अनुमति नहीं
  • तालाबंदी के विरोध में स्कूल बचाओ संघर्ष कमेटी ने लघु सचिवालय के बाहर किया प्रदर्शन
  • सिंधू क्वार्टरफाइनल में, श्रीकांत बाहर
  • बंगाली फिल्मों के कई कलाकार भाजपा में शामिल
  • चैम्पियन के पार्टी से निष्कासित मामले में हरक सिंह रावत ने साधी चुप्पी
  • कर्नाटक में धनबल, बाहुबल से लोकतंत्र का चीर हरण : कांग्रेस
  • दिवंगत कर्मचारियों के बच्चों के लिये शिक्षा भत्ते में वृद्धि
  • सोनभद्र में बिजली गिरने से किशोर समेत तीन की मृत्यु
राज्य


करोड़ों के गबन मामले में नाजिर को दस वर्ष की सजा

पटना 04 सितंबर (वार्ता) बिहार की राजधानी पटना स्थित एक विशेष अदालत ने करीब एक करोड़ 15 लाख रुपये की सरकारी राशि की धोखाधड़ी, जालसाजी एवं आपराधिक षड्यंत्र के तहत पद का भ्रष्ट दुरुपयोग करते हुये गबन के मामले में बक्सर समाहरणालय के एक तत्कालीन सहायक नाजिर को आज दस वर्ष सश्रम कारावास के साथ दो लाख 75 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।
निगरानी (प्रथम) अदालत के विशेष न्यायाधीश मधुकर कुमार ने मामले में सुनवाई के बाद बक्सर जिला समाहरणालय के तत्कालीन लिपिक सह सहायक नाजिर पंकज कुमार सिंह को भारतीय दंड विधान एवं भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की अलग-अलग धाराओं में दोषी करार देने के बाद यह सजा सुनाई है। जुर्माने की राशि अदा नहीं करने पर दोषी को दो वर्ष नौ माह कारावास की सजा अलग से भुगतनी होगी।
मामले की प्राथमिकी बक्सर नगर थाने में 05 मई 2016 को दर्ज की गई थी। आरोप के अनुसार, उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के मूल निवासी सहायक नाजिर पंकज कुमार सिंह ने अपने सरकारी पद का भ्रष्ट दुरुपयोग करते हुये बक्सर जिला नजारत शाखा से मुख्यमंत्री सेतु निर्माण योजना मद से सक्षम पदाधिकारियों का जाली हस्ताक्षर करके फर्जी चेक के माध्यम से एक करोड़ 15 लाख 74 हजार 576 रुपये का गबन किया था।
सं सूरज सतीश
वार्ता
image