Wednesday, Nov 14 2018 | Time 12:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान फिर शुरू
  • भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा शुरू
  • ट्रक एवं कार की टक्कर में छह लोगों की मौत, चार घायल
  • पुलिस मुठभेड़ में कुख्यात अपराधी हीरो मारा गया , दो गिरफ्तार
  • प्रणव, हामिद ने नेहरू को उनके जन्मदिवस पर नमन किया
  • तेलंगाना विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला
  • सिंगापुर में आज शुरू होगी दो दिवसीय पूर्वी एशिया शिखर बैठक
  • हैदराबाद में कार पेड़ से टकराई, आठ लोग घायल
  • बाल दिवस: गूगल ने डूडल बनाकर नेहरु और बच्चों को किया समर्पित
  • बिहार में सूर्योपासना का महापर्व छठ समाप्त
  • कैलिफोर्निया में भीषण आग, मरने वालो की संख्या बढ़ कर 48 हुुई
  • गोण्डा सड़क दुर्घटना में कार सवार तीन लोगों की मृत्यु
  • मोदी ने नेहरू की जयंती पर उन्हें किया याद
  • अमेरिकी रक्षा मंत्री और कतर के उप प्रधानमंत्री ने अफगानिस्तान केे मसले पर बातचीत की
  • कोविंद ने नेहरु को किया नमन
राज्य Share

प्रदेश शिक्षा निदेशक अवमानना का दोषी, 13 सितंबर को सजा मुकर्रर

नैनीताल 04 सितंबर (वार्ता) उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने राज्य के शिक्षा निदेशक आर के कुंवर एवं अपर निदेशक एनसीईआरटी अजय नौडियाल को अवमानना का दोषी ठहराया है जिन्हें 13 सितम्बर को सजा सुनायी जाएगी। श्
न्यायालय ने फिलहाल उनसे पूछा है कि क्यों न उनके खिलाफ कार्यवाही अमल में लायी जाए।
मामले के अनुसार काशीपुर निवासी शैलेन्द्र सिंह ने याचिका दायर कर कहा कि विभाग ने उसे सहायक शिक्षक की नियुक्ति में अन्य पिछड़े वर्ग (ओबीसी) का लाभ नहीं दिया है। इस मामले में न्यायालय ने 5 अप्रैल 2017 को आदेश दिया था कि याचिकाकर्ता को नियुक्ति में ओबीसी का लाभ दिया जाए।
इसके बाद इस आदेश के खिलाफ सरकार ने अपील दायर की लेकिन 27 जून 2018 को सरकार को झटका लगा और अपील खारिज हो गयी। अपील खारिज होने के बाद याचिकाकर्ता ने अवमानना याचिका दायर की। गत 31 अगस्त को उच्च न्यायालय ने शिक्षा निदेशक एवं अपर निदेशक एनसीईआरटी को अवमानना नोटिस जारी कर अदालत के आदेशों को पालन न करने के मामले में पेश होने को कहा था।
कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश की एकलपीठ में मंगलवार को हुई सुनवाई में शिक्षा निदेशक ने बताया कि विभाग में सहायक अध्यापक ओबीसी के लिये कोई पद रिक्त नहीं है। जिससे एकलपीठ संतुष्ट नहीं हुई है और दोनों को अवमानना का दोषी पाया।
रवीन्द्र, उप्रेती
वार्ता
image