Sunday, May 31 2020 | Time 13:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ओडिशा में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1948 हुई
  • गोपालगंज में भारी मात्रा में देशी शराब के साथ तस्कर गिरफ्तार
  • आत्मनिर्भर भारत सही दिशा में कदम: मोदी
  • मोदी का लोगों से पर्यावरण दिवस पर पेड़ लगाने का आग्रह
  • राजस्थान में कोरोना संक्रमितों की संख्या करीब 8700 पहुंची
  • अरुणाचल प्रदेश में कोरोना का एक नया मामला
  • अमेरिका के कई शहरों में कर्फ्यू
  • ट्रंप ने जी-7 की बैठक टाली, भारत समेत चार देशों को भी बुलाएंगे
  • कर्नाटक में चार शिकारी गिरफ्तार
  • औरंगाबाद में कोरोना के 42 नये मामले
  • अमेरिका में प्रदर्शन के दौरान 13 पुलिस अधिकारी घायल
  • कोरोना संकट काल में ‘योग’ एवं ‘आयुर्वेद’ की ओर देख रही है दुनिया : मोदी
  • बंगाल में सड़क दुर्घटना में एक प्रवासी श्रमिक की मौत
  • पाकिस्तानी सैनिकों की गोलीबारी में युवक घायल
राज्य


गौरव यात्रा में हुए सरकारी अपव्यय का लेखा-जोखा सार्वजनिक करें सरकार-पायलट

जयपुर, 05 सितम्बर(वार्ता) राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने न्यायालय द्वारा भाजपा सरकार की गौरव यात्रा के दौरान सरकारी कार्यक्रमों के आयोजन पर रोक लगाए जाने का स्वागत करते हुए इस फैसले को सरकार को आईना दिखाने वाला बताया है।
श्री पायलट ने आज यहां एक बयान में कहा कि कांग्रेस पार्टी ने गौरव यात्रा के शुरूआत के समय ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से पहला प्रश्न किया था कि सरकारी संसाधनों का इस्तेमाल कर अपने राजनीतिक हित साधने में क्या वे गौरव महसूस करती है और क्या सरकार की यह नीति नैतिक है।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार अपने खोते जनाधार को हासिल करने के लिए गौरव यात्रा के नाम का जो ढोंग रच रही है उसमें सरकारी खजाने को खुलकर लुटाया जा रहा था जिस पर कांग्रेस पार्टी ने आपत्ति दर्ज कराई तो सरकार द्वारा न्यायपालिका में स्पष्टीकरण दिया गया कि सरकारी कार्यक्रमों में ही सरकारी संसाधनों का उपयोग किया जा रहा है परन्तु सब जानते है कि करोड़ो रुपये खर्च कर भाजपा सरकार अपनी पार्टी के कार्यक्रम को आयोजित कर अपने राजनीतिक हित साध रही है।
उन्होंने कहा कि अब क्योंकि यह स्पष्ट हो चुका है कि भाजपा सरकार कोई सरकारी आयोजन पार्टी की यात्रा के दौरान नहीं कर सकती है इसलिए आवश्यक है कि पार्टी के प्रचार-प्रसार के लिए हुए सरकारी पैसे के दुरुपयोग का सम्पूर्ण लेखा-जोखा सार्वजनिक रूप से प्रस्तुत करें और सम्पूर्ण राशि को खजाने में लौटाये ताकि राजकोष को लगे चूने की भरपाई हो सके।
सैनी जोरा
वार्ता
image