Thursday, Jan 24 2019 | Time 12:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खन्ना ने चुनाव को लेकर की पदाधिकारियों से चर्चा
  • स्टारडम खत्म नहीं हो सकता : नवाजउद्दीन
  • पद्मिनी के पुत्र प्रियंक करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • परेश रावल के पुत्र आदित्य करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • रैप मुझे नेचुरली एक्साइट करता है : रणवीर
  • स्टारडम खत्म नहीं हो सकता : नवाजउद्दीन
  • लांस नायक वानी को अशोेक चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया जाएगा
  • पद्मिनी के पुत्र प्रियंक करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • परेश रावल के पुत्र आदित्य करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • परेश रावल के पुत्र आदित्य करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • रैप मुझे नेचुरली एक्साइट करता है : रणवीर
  • रैप मुझे नेचुरली एक्साइट करता है : रणवीर
  • हिमस्खलन के बाद लापता दो शिकारियों की तलाश शुरू
  • राजद नेता की गोली मारकर हत्या
  • लांस नायक वानी को अशोेक चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया जाएगा
राज्य Share

पूरे जीवन चलने वाली प्रक्रिया है शिक्षा: आनंदीबेन

पूरे जीवन चलने वाली प्रक्रिया है शिक्षा: आनंदीबेन

भोपाल, 05 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आज कहा है कि शिक्षा पूरे जीवन चलने वाली प्रक्रिया है, जिसकी शुरूआत माँ के गर्भ से ही हो जाती है, इस बात का उदाहरण महाभारत में अभिमन्यु के रूप में मिलता है, इसलिये जब बच्चा गर्भ में होता है, तभी से माँ को अच्छी पुस्तकें पढ़ना, मन में अच्छे विचार लाना तथा पोष्टिक आहार लेना चाहिए।

श्रीमती पटेल ने शिक्षक दिवस के अवसर पर राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में यह बातें कहीं। उन्होंने सम्मान समारोह में प्रदेश के लगभग 44 उत्कृष्ट शिक्षकों को शाल-श्रीफल और स्मृति चिंह भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि शिक्षकों को विद्यार्थियों को नैतिकता का पाठ भी पढ़ाना चाहिये और अच्छे संस्कार देना चाहिए। बच्चों में स्वच्छता और अन्न की बचत की भावना बचपन से विकसित करना चाहिए। इससे बच्चे अच्छे नागरिक बन सकेंगे।

उन्होंने कहा कि बच्चों को भौगोलिक एवं ऐतिहासिक ज्ञान कराने के लिए प्रदेश और देश के पर्यटन स्थलों का भ्रमण करवाना चाहिये। खेल एवं चित्रकला आदि की सामग्री स्कूल द्वारा उपलब्ध करवाना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को बच्चों की छोटी-छोटी गलतियों पर भी ध्यान देना चाहिए, तभी शिक्षा में सुधार आयेगा। राज्यपाल ने कहा कि ज्ञान और गुरू अतुल्य हैं, अमूल्य हैं, अनमोल हैं। माँ के अतिरिक्त शिक्षक ही होते हैं, जो बच्चों के विचारों को सही दिशा देने में सक्षम हैं, जिसका सर्वाधिक प्रभाव जीवन भर नजर आता है।

उन्होंने कहा कि किसी राष्ट्र तथा विद्यार्थियों का चरित्र और उन्नति शिक्षकों में ही निहित है। शिक्षक हमें जिंदगी में एक जिम्मेदार और अच्छा इंसान बनने में मदद करते हैं।

इस मौक पर स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह ने शिक्षकों से कहा कि अगर आप ईमानदारी से अपना दायित्व निभाएंगे, तो निश्चित ही हमारी नई पीढ़ी देश का नाम विश्व में रोशन करेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का उद्देश्य शिक्षा को नई ऊचाईंयों तक पहुंचाना है। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि शिक्षक राष्ट्र निर्माता होते हैं। शिक्षक का सम्मान सर्वोपरि है। उनके नेतृत्व में ही हम स्वर्णिम मध्यप्रदेश बनाने में सफल होंगे।

सामान्य प्रशासन मंत्री लालसिंह आर्य ने कहा कि कुशल शिक्षकों के मार्गदर्शन में देश आगे बढ़ता रहेगा। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा दीप्ति मुखर्जी ने स्वागत भाषण दिया। आयुक्त लोक शिक्षण जयश्री कियावत ने आभार व्यक्त किया।

बघेल

वार्ता

More News

मजदूर का शव बरामद

24 Jan 2019 | 12:13 PM

 Sharesee more..

शराबी अध्यापक का वीडियाे वायरल, जांच शुरू

24 Jan 2019 | 12:09 PM

 Sharesee more..

बगीचा से युवक का शव बरामद

24 Jan 2019 | 11:56 AM

 Sharesee more..
113 कार्टन विदेशी शराब बरामद

113 कार्टन विदेशी शराब बरामद

24 Jan 2019 | 11:52 AM

बेगूसराय 24 जनवरी (वार्ता) बिहार में बेगूसराय जिले के मंझौल थाना क्षेत्र के गरथौली गांव के निकट से पुलिस ने आज सुबह 113 कार्टन विदेशी शराब बरामद की।

 Sharesee more..
image