Friday, Sep 21 2018 | Time 11:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वियतनाम के राष्ट्रपति कुआंग का निधन
  • मोदी ने अजय माकन के जल्द स्वस्थ होने की कामना की
  • अमेरिका के साइराक्यूस शहर में गोलीबारी, सात घायल
  • स्वामी विवेेकानंद के भाषण को स्कूली पाठ्यक्रम में किया जाएगा शामिल
  • दक्षिण कश्मीर में कांस्टेबल और तीन एसपीओ का अपहरण
  • जापान और अमेरिका के बीच व्यापारिक वार्ता 24 सितंबर को
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 सितंबर)
  • आबे और ट्रम्प 26 सितंबर को करेंगे शिखर बैठक
  • आबे और ट्रम्प 26 सितंबर को करेंगे शिखर बैठक
  • अमेरिका में गोलीबारी, चार की मौत, तीन घायल
  • तंजानिया में नाव पलटने से कम से कम 42 की मौत
  • तंजानिया में नाव पलटी,200 से अधिक लोगों के डूबने की आशंका
  • कांग्रेस हथकंडे अपनाने की बजाए मैदान में आकर लड़े चुनाव - राकेश
  • घोषणाएं पूरी भी करते हैं - शिवराज
राज्य Share

बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट समेत दो पुलिसकर्मी वकील अपहरण प्रकरण में गिरफ्तार

अहमदाबाद, 05 सितंबर (वार्ता) गुजरात में पुलिस की अपराध अनुसंधान शाखा (सीआईडी-क्राइम) ने बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट तथा उनके मातहत रहे एक अन्य पुलिस अधिकारी को राजस्थान के एक वकील के अपहरण से जुड़े लगभग दो दशक पुराने एक मामले में आज गिरफ्तार कर लिया।
सीआईडी-क्राइम के पुलिस महानिदेशक आशीष भाटिया ने यूनीवार्ता को बताया कि श्री भट्ट को एक अन्य पुलिसकर्मी के साथ गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि पांच अन्य से पूछताछ की जा रही है। उन्हें राजस्थान के एक वकील के अपहरण के मामले में पकड़ा गया है।
सीआईडी-क्राइम के आईजी अजय तोमर ने बाद में जारी बयान में श्री भट्ट और बनासकांठा की स्थानीय अपराध शाखा (एलसीबी) के तत्कालीन पुलिस इंस्पेक्टर आई बी व्यास की गिरफ्तारी की पुष्टि की।
राजस्थान के पाली के वकील शमशेरसिंह राजपुरोहित को मई 1996 में गुजरात के बनासकांठा की पुलिस ने पालनपुर के एक होटल से लगभग एक किलो अफीम की बरामदगी के मामले में पकड़ा था। पर होटल के मैनेजर ने उन्हें पहचाने से इंकार कर दिया जिसके बाद उन्हें छोड़ दिया गया। श्री राजपुरोहित ने बाद में राजस्थान में मामला दायर कर आरोप लगाया कि गुजरात हाई कोर्ट के तत्कालीन जज आर आर जैन के इशारे पर पुलिस ने उन्हें अगवा किया था ताकि जज की बहन की उस दुकान को खाली कराया जा सके जिसे उनके एक रिश्तेदार ने ले रखा था। राजस्थान की अदालत ने इस मामले में गुजरात पुलिस की कार्रवाई को गलत बताया था। बाद में सेवानिवृत्त हो गये जज जैन ने 1998 में गुजरात हाई कोर्ट में एक मामला दायर कर पूरे प्रकरण की जांच करने की मांग की। उन्होंने राजस्थान की अदालत और पुलिस पर वहां के तत्कालीन मुख्यमंत्री और अधिवक्ता संघ के दबाव में काम करने का आरोप लगाया था।
गुजरात हाई कोर्ट के न्यायाधीश आर बी पारडीवाला ने गत जून माह में इस मामले की तेजी से जांच करने के आदेश सीआईडी क्राइम को दिये थे। इसके लिए एक विशेष जांच दल यानी एसआईटी का गठन भी किया गया था। ज्ञातव्य है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी पर गुजरात दंगों में पुलिस को दंगाइयों के प्रति नरम रूख अपनाने के आदेश देने के आरोप लगाने वाले (उच्चतम न्यायालय ने हालांकि इन आरोपों को खारिज कर दिया था) श्री भट्ट को पुलिस ने आज ही पकड़ा है। पिछले माह उनके यहां स्थित आवास के अवैध रूप से निर्मित हिस्से को अदालत के आदेश पर गिराया गया था। भाजपा और श्री मोदी तथा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ सोशल मीडिया तथा अन्य स्थानों पर खुला माेर्चा खोलने वाले श्री भट्ट की पत्नी ने श्री मोदी के खिलाफ पूर्व में विधानसभा चुनाव भी लड़ा था। श्री भट्ट ने हाल में यहां अपने आवास पर अनशन कर रहे पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल से मुलाकात भी की थी।
रजनीश
वार्ता
More News

कुंआ में गिरने से किसान की मौत

21 Sep 2018 | 10:54 AM

 Sharesee more..

युवक की गोली मारकर हत्या , एक घायल

21 Sep 2018 | 10:49 AM

 Sharesee more..

प्रतापगढ़ में अवैध शराब का जखीरा बरामद

21 Sep 2018 | 10:48 AM

 Sharesee more..

प्रतापगढ़ में मकान ढहने से एक मरा तीन घायल

21 Sep 2018 | 10:46 AM

 Sharesee more..

युवती ने गले में फंदा लगाकर आत्महत्या की

21 Sep 2018 | 10:45 AM

 Sharesee more..
image