Monday, Apr 22 2019 | Time 11:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुतिन, किम की बैठक, रूसी विश्वविद्यालय की सुरक्षा बढ़ी
  • कांग्रेस ने दिल्ली की छह सीटों के लिए उम्मीदवार घोषित किये
  • उप्र में वाराणसी समेत 13 लोकसभा क्षेत्रों के लिये अधिसूचना जारी, नामांकन प्रक्रिया शुरू
  • कांग्रेस ने दिल्ली के छह लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा की
  • तृणमूल कांग्रेस के आक्रामक प्रहारों से जूझ रहे अभिजीत मुखर्जी
  • सीकर जिले का हिस्ट्रीशीटर गिरफ्तार
  • श्रीलंका आतंकवादी हमले में मृतकों की संख्या 290 हुई
  • संयुक्त राष्ट्र ने श्रीलंका में हुये आतंकवादी हमले की निंदा की
  • कारवां-ए-अमन बस की सेवा आठवें सप्ताह स्थगित
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 23 अप्रैल)
  • भरोसा बढ़े तो रुस,जापान किसी भी समस्या को हल कर सकते है : मोर्गुलोव
  • कोलंबिया में भूस्खलन से 14 लोगों की मौत
  • ट्रंप ने जेलेंस्की को राष्ट्रपति चुनावों में मिली बढ़त पर दी बधाई
  • ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन के राष्ट्रपति चुनावों में बढ़त हासिल की
  • यूएनएओसी के प्रमुख ने श्रीलंका पर हुए हमले की निंदा की
राज्य


एनएच-87 में धांधली को लेकर केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस

नैनीताल, 05 सितम्बर (वार्ता) उत्तराखंड में नैनीताल उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजमार्ग-87 में धांधली को लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए बुधवार को केन्द्र सरकार, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, राष्ट्रीय राजमार्ग-87 के परियोजना निदेशक तथा कुमाऊं के आयुक्त को नोटिस जारी कर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।
न्यायालय ने प्रदेश सरकार से पूछा कि क्या एनएच-74 की जांच करने वाले विशेष जांच दल ( एसआईटी) को एनएच-87 की भी जांच का काम सौंपा जा सकता है?
हल्द्वानी निवासी राजेन्द्र कुमार ने एक जनहित याचिका में दायर कर न्यायालय को बताया कि उत्तर प्रदेश के रामपुर से काठगोदाम तक राष्ट्रीय राजमार्ग-87 का विस्तारीकरण किया जा रहा है। सरकार की ओर से इस कार्य के लिये किसानों की भूमि का अधिग्रहण किया गया। अधिग्रहीत भूमि के बदले किसानों को मुआवजा का आवंटन किया गया, जिसमें बड़े पैमाने पर धांधली की गयी है। याचिकाकर्ता ने न्यायाल को बताया कि एनएच-74 की तर्ज पर एनएच- 87 के लिए अधिग्रहीत भूमि का लैंड यूज बदल दिया गया है। एक जमीन के लिये अलग: अलग मुआवजा का आवंटन किया गया है। याचिकाकर्ता की ओर से अदालत से इस मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की गयी है।
मामले की सुनवाई करने के बाद कार्यवाहक मुख्य न्यान्याधीश राजीव शर्मा तथा न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की युगल पीठ ने केन्द्र सरकार, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, परियोजना निदेशक तथा कुमाऊं आयुक्त को नोटिस जारी कर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया और प्रदेश सरकार से पूछा कि क्या इस मामले की जांच भी राष्ट्रीय राजमार्ग-74 की जांच करने वाली एसआईटी को सौंपी जा सकती है?
सं. संतोष
‌वार्ता
More News
कारवां-ए-अमन बस की सेवा आठवें सप्ताह स्थगित

कारवां-ए-अमन बस की सेवा आठवें सप्ताह स्थगित

22 Apr 2019 | 9:05 AM

श्रीनगर, 22 अप्रैल (वार्ता) जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की राजधानी मुजफ्फराबाद के बीच चलने वाली कारवां-ए-अमन बस सेवा सोमवार को लगातार आठवें सप्ताह स्थगित रही।

see more..
image