Friday, Nov 16 2018 | Time 19:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत की गन्ना किसानों को सब्सिडी योजना के खिलाफ डब्ल्यूटीओ गया ऑस्ट्रेलिया
  • झांसी को स्वच्छता सर्वेक्षण में पहले स्थान पर लाने को और प्रयास जरूरी: सुरेश खन्ना
  • न्यायालय ने दिए अवन्तिका आवास योजना में सीवर प्लान तैयार करने का निर्देश
  • बागेश्वर में तेंदुए के बच्चे की मौत
  • राजधानी एक्सप्रेस में जवान ने साथी जवान को मारी गोली
  • इटावा पुलिस ने मुठभेड़ में किया चार हाइवे लुटेरो को गिरफतार
  • गरीबों के लिए सरकार ने शुरू की है कई योजनाएं: हैनरी
  • झांसी:खुदाई स्थल का अपरजिलाधिकारी ने किया मुआयना
  • पत्रकारिता की विश्वसनीयता बरकरार रखना सबसे बड़ी चुनौती:जेटली
  • महाराष्ट्र में मराठा समुदाय को आरक्षण तो गुजरात में पाटीदारों को क्यों नहीं - हार्दिक
  • इंदरी में दस सड़कों को बेहतर बनाने हेतु 5 15 करोड़ रूपये मंजूर
  • चौटाला परिवार में आर-पार की लड़ाई कल
  • कांग्रेस ने झारखंड के लिए गठित की चुनाव समिति
  • अयोध्या में शीघ्र राम मंदिर निर्माण के लिए कानून या अध्यादेश लाये सरकार :रामदेव
  • राम मंदिर बनाने में भाजपा सबसे बड़ी रुकावट: सिंगला
राज्य Share

सृजन घोटाले में श्रीमती मोदी का नाम आया था और उसके बाद विपक्ष ने उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर आरोप लगाया था कि श्रीमती मोदी उनकी बहन हैं और उनके संरक्षण में ही घोटाला हुआ है। इसपर श्री मोदी ने कहा कि श्रीमती मोदी उनकी बहन नहीं है और उनका उनसे कोई संबंध नहीं है।
वहीं, राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष (राजद) लालू प्रसाद यादव ने पिछले वर्ष 04 अगस्त को सृजन घोटाला मामला उजागर होने के बाद आरोप लगाते हुये कहा था कि वर्ष 2008-09 से 2015 के दौरान भागलपुर में 302.70 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ और इस दौरान श्री सुशील कुमार मोदी राज्य के वित्त मंत्री थे। उन्होंने कहा था कि वित्त मंत्री रहते हुए श्री मोदी ने सृजन संस्था के माध्यम से भागलपुर में घोटाला कराया है।
उल्लेखनीय है कि 04 अगस्त 2017 को भागलपुर में 302.70 करोड़ रुपये की सरकारी राशि के गबन का मामला सामने आया था और इसकी जांच की जिम्मेवारी बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) को दी गई। भू-अर्जन के लिए 270 करोड़, नगर विकास योजना के लिए 17.70 करोड़ और नजारत खाते में 15 करोड़ रुपये सरकारी राशि जमा कराई गई थी। फर्जी तरीके से इस राशि को निकाल कर स्वयंसेवी संस्था सृजन के खाते में जमा करा दी गई। मनोरमा देवी इस संस्था की संस्थापक थी, जिनका निधन हो गया है और उनके पुत्र अमित कुमार एवं पुत्रवधु इसे चला रहे हैं, जो अभी तक फरार हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुये बिहार सरकार ने इस घाेटाला मामले की जांच की जिम्मेवारी सीबीआई को सौंप दी।
शिवा सूरज
वार्ता
More News
अयोध्या में शीघ्र राम मंदिर निर्माण के लिए कानून या अध्यादेश लाये सरकार :रामदेव

अयोध्या में शीघ्र राम मंदिर निर्माण के लिए कानून या अध्यादेश लाये सरकार :रामदेव

16 Nov 2018 | 6:59 PM

वाराणसी,16 नवंबर (वार्ता) योग गुरु स्वामी रामदेव ने अयोध्या में भगवान श्री राम का मंदिर शीघ्र बनाने की वकालत करते हुए निर्माण की बाधाएं दूर करने वाले कानून बनाने या अध्यादेश लाने की अपील शुक्रवार को यहां केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से की है।

 Sharesee more..

बागेश्वर में तेंदुए के बच्चे की मौत

16 Nov 2018 | 6:57 PM

 Sharesee more..
image