Monday, Nov 19 2018 | Time 23:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मुख्यमंत्री ने सूखाग्र्रस्त कच्छ का दौरा किया, की समीक्षा बैठक
  • प्रेमी युगल ने की आत्महत्या
  • गांवों में बदलाव का वाहक बनेगा कृषि विश्वविद्यालय : रघुवर
  • गुजरात सरकार बीएसएनएल की बजाय वोडाफोन की महंगी सेवाएं क्यों ले रही - कांग्रेस
  • डेयरी इंजीनियरिंग कॉलेज में नये साल से शुरू होगी पढ़ाई
  • आरबीआई के इकोनाॅमिक कैपिटल फ्रेमवर्क के परीक्षण के लिए विशेषज्ञ समिति बनाने का निर्णय
  • कृषि ऋण को लेकर मोदी की टिप्पणी हैरत करने वाली :कुमारस्वामी
  • गोरखपुर के पुलिस क्षेत्राधिकारी यातायात संतोष कुमार सिंह निलंबित
  • सांबा में ग्रेनेड विस्फोट में बीएसएफ जवान शहीद
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मऊ में सरे शाम बंगाली चिकित्सक की गोली मारकर हत्या से सनसनी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • बिहार की समृद्धि का आधार कृषि : लालजी
  • वाराणसी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आग लगाने वाला आरोपी गिरफ्तार
  • शुभंकर को यूरोपीय टूर में रूकी ऑफ द ईयर अवार्ड
राज्य Share

सरकार पीएसपीसीएल को सब्सिडी का भुगतान नहीं कर रही

जालंधर 06 सितंबर (वार्ता) पंजाब सरकार आर्थिक तंगी के कारण पंजाब राज्य विद्युत निगम लिमिटेड (पीएसपीसीएल) को बिजली सब्सिडी का भुगतान नहीं कर पा रही है।
पीएसपीसीएल के प्रवक्ता विनोद कुमार गुप्ता ने गुरुवार को यहां जारी बयान में बताया कि सरकार को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है जिसके कारण हर महीने सब्सिडी का बकाया बढ़ता जा रहा है। कर्मचारियों का नया वेतनमान तथा मंहगाई भत्ताें की किश्तें भी लंबित पड़ी हैं।
श्री गुप्ता ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष के पहले पांच महीनों के लिए राज्य सरकार ने 5716.20 करोड़ रुपये की सब्सिडी चुकानी थी जिसमें से केवल 2352.01 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है जो कुल सब्सिडी का 40 फीसदी से कम हिस्सा है। उन्होंने बताया कि पंजाब राज्य विद्युत विनियामक आयोग (पीएसईआरसी) ने चालू वित्त वर्ष के लिए 13,712 करोड़ रुपये की सब्सिडी तय की थी और इसमें पिछले वर्ष का भी बकाया शामिल है। मासिक देय सब्सिडी 1143 करोड़ रुपये है लेकिन सरकार ने अगस्त माह में केवल 300 करोड़ रुपये की ही सब्सिडी जारी की है।
उन्होंने कहा कि पीएसपीसीएल प्रबंधन ने इस मसले को सरकार के समक्ष उठाया था। उन्होंने कहा कि पीएसपीसीएल अपने व्यय को पूरा करने में सक्षम रहा है क्योंकि धान के मौसम के दौरान अल्पावधि बिजली खरीद नहीं की गई है और अब धान के मौसम के बाद अधिशेष बिजली को बेचने की योजना बनाई गई है ताकि कम से कम ताप संयंत्रों से निश्चित शुल्क वसूल किए जा सकें।
मुख्य अभियंता (सेवानिवृत्त) पदमजीत सिंह ने कहा कि सरकार लगातार विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 65 का उल्लंघन करती रही है।
ठाकुर, उप्रेती
वार्ता
More News
राफेल विवाद से वायु सेना की छवि पर असर नहीं पड़ेगा: नांबियार

राफेल विवाद से वायु सेना की छवि पर असर नहीं पड़ेगा: नांबियार

19 Nov 2018 | 11:00 PM

गुवाहाटी 19 नवंबर (वार्ता) वायु सेना के उप प्रमुख एयर मार्शल रघुनाथ नांबियार ने सोमवार को कहा कि लड़ाकू विमान राफेल सौदे को लेकर विवाद का असर वायु सेना की छवि पर नहीं पड़ेगा।

 Sharesee more..

प्रेमी युगल ने की आत्महत्या

19 Nov 2018 | 10:42 PM

 Sharesee more..

19 Nov 2018 | 10:36 PM

 Sharesee more..
image