Wednesday, Sep 19 2018 | Time 22:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा सरकार के पास गिनाने के लिए कुछ नहीं-शर्मा
  • नवाज , मरियम जेल से रिहा
  • जरूरत पर नहीं मिलती खिलाड़ियों को मदद-योगेश्वर
  • पूर्वांचल राज्य की मांग को लेकर वाराणसी में महिला ने लगायी वॉल्वो बस में आग
  • गोदावरी भगदड़ मामले में चंद्रबाबू जिम्मेदार नहीं: जांच आयोग
  • सुदर्शन ओडिशा ललित कला अकादमी के अध्यक्ष बने
  • पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते सिपाही गिरफ्तार
  • एसी लोकल ट्रेनें बनायेगी भारतीय रेलवे
  • संविधान सम्मत हर प्रकार का आरक्षण जारी रहना चाहिए -भागवत
  • इलाज के लिए अब हाथ नहीं पड़ेंगे फैलाने : रघुवर
  • बिजलीकर्मियों ने शुरू की भूख हड़ताल
  • विद्युतीकरण कार्य में तेजी लाये कंपनियां : रघुवर
राज्य Share

रायपुर में बंद का मिला जुला असर

रायपुर, 06 सितंबर (वार्ता) अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम में संशोधन के विरोध में सवर्णों द्वारा आज आयोजित भारत बंद का छत्तीसगढ़ की राजधानी में मिला-जुला असर देखने को मिला है।
रायपुर में कुछ पेट्रोल पंप बंद थे, तो कुछ खुले। मुख्य बाजार में दुकानें कहीं पर बंद रहीं, तो कहीं पर खुली रहीं। किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस की व्यवस्था की गई थी। सवर्ण संगठनों ने शहर के कुछ हिस्से में नए कानून का विरोध किया और जातिगत नहीं बल्कि आर्थिक आधार पर आरक्षण की वकालत की।
शहर के तात्यापारा चौक पर इकट्ठा हुए सवर्णों ने नए कानून का विरोध किया। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय का फैसला स्वागत योग्य था। इसे पलटकर कानून बनाकर सरकार ने सवर्णों और पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। आए दिन झूठे मुकदमों में सवर्ण पिसता है।
आरक्षण का विरोध करते हुए लोगों ने कहा कि इसे जाति के आधार पर देने की बजाय आर्थिक आधार पर देना चाहिए। कई लोग आरक्षण पाकर सशक्त बन जाते हैं। बावजूद इसके उनके बच्चों को भी आरक्षण मिलता है। इस मौके पर पूर्व पार्षद ज्ञानेंद्र शर्मा, स्वप्निल मिश्रा समेत कई लोग मौजूद थे। इन्होंने सांकेतिक गिरफ्तारी भी दी।
छत्तीसगढ़ सर्वहित संघ ने रायपुर सांसद रमेश बैस को ज्ञापन सौंपकर उच्चतम न्यायालय के आदेश को पूर्ववत रखने की मांग की है।
संघ ने कहा कि सामाजिक न्याय के नाम पर ऐसी व्यवस्था दी गई है कि इसका कुछ ही लोग कई पीढ़ियों तक दोहन कर रहे हैं। योग्यता अभिशाप बन चुकी है और देश से पलायन करने पर मजबूर हैं। संघ के अध्यक्ष विवेक अवस्थी, आशीष अग्निहोत्री, पूर्णिमा सक्सेना समेत कई लोग मौजूद थे।
सुरेंद्र सुधीर
वार्ता
More News
पूर्वांचल राज्य की मांग को लेकर वाराणसी में महिला ने लगायी वॉल्वो बस में आग

पूर्वांचल राज्य की मांग को लेकर वाराणसी में महिला ने लगायी वॉल्वो बस में आग

19 Sep 2018 | 10:00 PM

वाराणसी, 19 सितंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में वाराणसी के सिगरा क्षेत्र के कैंट बस डिपो में बुधवार को एक महिला ने पूर्वांचल राज्य की मांग को लेकर वातानुकूलित वॉल्वो बस को पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी और वह यात्रियों को अपनी मांग के पर्चे बांटती रही।

 Sharesee more..
गोदावरी भगदड़ मामले में चंद्रबाबू जिम्मेदार नहीं: जांच आयोग

गोदावरी भगदड़ मामले में चंद्रबाबू जिम्मेदार नहीं: जांच आयोग

19 Sep 2018 | 9:55 PM

अमरावती 19 सितंबर (वार्ता) आंध्र प्रदेश में गोदावरी स्नान भगदड़ मामले की जांच के लिए न्यायाधीश सी. वाई. सोमायाजुलु की अध्यक्षता में गठित जांच आयोग ने अपनी रिपोर्ट में मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू को दोषमुक्त बताया है।

 Sharesee more..
image