Sunday, Nov 18 2018 | Time 22:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पंजाब में हर कीमत पर कायम की जायेगी शांति: अमरिन्दर
  • इराक में कार बम विस्फोट में दो मरे ,15 घायल
  • कांग्रेस के स्वभाव में धोखा, जनता का विश्वास खोया : मोदी
  • सीएम ने दिये अधिकारियों को दिये तुरंत गाँव अदलीवाल पहुँचने के निर्देश
  • बिहार में सड़क दुर्घटना में 12 लोगों की मौत ,18 घायल
  • संवैधानिक संकट का सामना कर रहा देश : उदय नारायण
  • पटना के नाले में गिरे दीपक की दूसरे दिन भी तलाश जारी
  • छत्तीसगढ़ में तीसरे मोर्चे की होगी बड़ी भूमिका: रमन
  • मध्यप्रदेश में विकास ने लोगों का नजरिया बदला: जेटली
  • उप्र में टीईटी में की परीक्षा में फर्जी पेपर एवं साल्वर समेत 19 गिरफ्तार
  • तेलंगाना में कांग्रेस नीत गठबंधन का नामकरण, टीजेएस प्रमुुख होंगे इसके अध्यक्ष
  • लक्षद्वीप में भारी बारिश
  • आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ का जवान शहीद
  • बेंगलुरु ने जयपुर को 45-32 से हराया
  • कपाल मोचन मेला 19 से 24 नवम्बर तक बिलासपुर में
राज्य Share

मनरेगा में घटते घटते मानव दिवसों पर कैसा गर्व-पायलट

जयपुर, 06 सितम्बर(वार्ता) राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से सवाल किया कि मनरेगा में साल दर साल घटते मानव दिवस और बढ़ते अधूरे कार्यों से कमजोर होती ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर क्या आप गौरव महसूस करती हैं।
श्रीमती राजे की गौरव यात्रा के औचित्य को लेकर सवालों की कड़ी में श्री पायलट ने आज अट्ठारहवा सवाज पुछते हुये कहा कि पायलट ने कहा कि वर्ष 2013 में भाजपा के सत्तारूढ़ होते ही केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर नरेगा कानून का न केवल विरोध किया गया था वरन कानून को कमजोर करने के लिए उसे योजना में परिवर्तित करने की अभिशंषा भी की गई थी। यह मुख्यमंत्री की मनरेगा के तहत रोजगार के अधिकार कानून को कमजोर बनाने का सबसे बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि पिछले तीन सालों से मनरेगा में सौ दिन का रोजगार पूरा करने वाले परिवारों की संख्या में गिरावट आ रही है, जहॉं 2015-16 में ऐसे परिवार 4.68 लाख थे, वही 2016-17 में 4.27 लाख एवं 2017-18 में केवल 2.28 लाख परिवार ही ऐसे थे जिन्हें सौ दिन रोजगार मिला।
उन्होंने कहा कि नहीं मनरेगा में शुरू किए गए ग्रामीण विकास के कामों को पूरा करने के मामले में सरकार ने लापरवाही बरती है जिसका परिणाम यह है कि 2015-16 में जहॉं कार्य पूर्ण करने की दर 95 प्रतिशत थी वहीं 2016-17 में यह दर 47 प्रतिशत रह गई और 2017-18 में तो मात्र 18 प्रतिशत काम ही पूरे हो पाये हैं। उन्होंने कहा कि आज स्थिति यह है कि प्रदेश में 2.55 लाख कार्य स्वीकृत होने के बावजूद अब तक प्रारम्भ नहीं हो पाये हैं, वहीं 4.79 लाख ग्रामीण विकास कार्य या तो निलम्बित कर दिये गये हैं या प्रक्रिया में उलझ रहे हैं।
उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार की नाकामी और केन्द्र की राजग सरकार की राजस्थान के प्रति भेदभावपूर्ण नीति के कारण हर वर्ष बकाया भुगतान बढ़ रहा है जिसका एक उदाहरण यह है कि चालू वर्ष 2018-19 में प्रथम पांच महिनों में ही विलम्बित भुगतान राशि 340 करोड़ रूपये हो गई है। उन्होंने कहा कि सरकार की मनरेगा विरोधी सोच के कारण ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सम्बल देने वाले महत्वपूर्ण कानून के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बतायें कि क्या उनकी इस सोच से प्रदेश का गौरव बढ़ा है।
सैनी
वार्ता
More News
उप्र में टीईटी में की परीक्षा में फर्जी पेपर एवं साल्वर समेत 19 गिरफ्तार

उप्र में टीईटी में की परीक्षा में फर्जी पेपर एवं साल्वर समेत 19 गिरफ्तार

18 Nov 2018 | 10:04 PM

लखनऊ 18 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और स्थानीय पुलिस ने इलाहाबाद बोर्ड द्वारा आयोजित टीईटी परीक्षा-2018 का फर्जी पेपर तैयार कर उसे मोटी रकम लेकर अभ्यर्थियों को बेचने के आरोपी के अलावा दूसरो के स्थान पर परीक्षा देने वालों साल्वर गिरोह के 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

 Sharesee more..

दुर्घटना-मौत बिहार तीन अंतिम पटना

18 Nov 2018 | 9:45 PM

 Sharesee more..
मध्यप्रदेश में विकास ने लोगों का नजरिया बदला: जेटली

मध्यप्रदेश में विकास ने लोगों का नजरिया बदला: जेटली

18 Nov 2018 | 9:44 PM

जबलपुर, 18 नवंबर (वार्ता) केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि पंद्रह साल पहले बीमारू राज्यों में शुमार मध्यप्रदेश को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार ने विकास के पथ पर अग्रसर कर राज्य के प्रति लोगों का नजरिया पूरी तरह बदल दिया है।

 Sharesee more..
image