Thursday, Feb 21 2019 | Time 14:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुलवामा हमले का राजनीतिकरण नहीं करे कांग्रेस अमित शाह
  • अफगानिस्तान में पांच आतंकवादी ढेर
  • कांग्रेस से गठबंधन नहीं, हम सपा-बसपा के साथ: रालोद
  • रुपये की संदर्भ दर
  • बंगलादेश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने जताया ढाका अग्निकांड पर शोक
  • चेन्नई तिलहन के भाव
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • राष्ट्रीय-मोदी सौगात तीन अंतिम गोरखपुर
  • राष्ट्रीय-मोदी सौगात दो गोरखपुर
  • जूली बिशप ने की राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा
  • गोरखपुर को 24 फरवरी को 9000 करोड़ की सौगात देंगे मोदी
  • जाने-माने फिल्मकार राजकुमार बड़जात्या का निधन
  • जाने-माने फिल्मकार राजकुमार बड़जात्या का निधन
  • फिल्मकार राजकुमार बड़जात्या का निधन
  • दक्षिण कोरिया भारत के लिए एक रोल मॉडल: मोदी
राज्य Share

कैलाश मानसरोवर को अंतिम दल यात्रा के लिए रवाना

हल्द्वानी 06 सितंबर (वार्ता) कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए 27 श्रद्धालुओं का 18वां एवं अंतिम दल गुरुवार को यहां कुमाऊं मण्डल विकास निगम (केएमवीएन) के काठगोदाम स्थित पर्यटक आवास गृह पहुंचा और उसके बाद अपनी आगे की यात्रा के लिए रवाना हो गया।
केएमवीएन के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने सभी यात्रियों को माला पहनाकर स्वागत किया और बाद में दल अपने अगले पड़ाव अल्मोड़ा के लिए रवाना हो गया। इस दल में विभिन्न राज्यों से 21 पुरुष तथा छह महिला तीर्थ यात्री शामिल हैं।
पर्यटक आवास गृह काठगोदाम के सहायक प्रबंधक दीपक पाण्डे ने यूनीवार्ता को बताया कि श्रद्धालुओं को अंतिम दल साढ़े तीन बजे यहां पहुंचा और एक घंटे बाद अगले पड़ाव अल्मोड़ा के लिए रवाना हो गया। यह दल रात्रि विश्राम अल्मोड़ा में करेगा।
उन्होंने बताया कि 18वां अंतिम दल अपने प्रस्तावित समय से 18 दिन विलम्ब से यात्रा प्रारम्भ कर रहा है।
श्री पाण्डे ने बताया कि 38 श्रद्धालुओं का 14वां दल भी सकुशल यात्रा पूरी करके गुरुवार दोपहर यहां काठगोदाम पहुंचा।
यात्रा पूरी कर लौटे 14वें दल के सदस्य दिल्ली निवासी विपुल शर्मा ने बताया कि इस वर्ष चीनी प्रशासन ने श्रद्धालुओं को दर्शन हेतु चरणस्पर्श नामक स्थान तक जाने की औपचारिक रुप से अनुमति दी जबकि गत वर्षों तक तीर्थ यात्रियों को चरणस्पर्श से चार किमी पहले डेरापुक नामक स्थान पर ही रोक लिया जाता था।
उन्होंने बताया कि यात्रा दल के अधिकांश सदस्यों ने चरण स्पर्श पहुंचकर करीब एक घंटे तक ध्यान एवं योग किया।
कुमाऊं मण्डल विकास निगम की ओर से यात्रा पूरी करके लौटे 14वें दल के सभी सदस्यों को कुमाऊंनी संस्कृति का एक प्रतीक चिह्न एवं केएमवीएन की पुस्तक भेंट स्वरुप प्रदान कर विदा किया गया।
सं. उप्रेती
वार्ता
image