Wednesday, Nov 21 2018 | Time 03:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
राज्य Share

भारत बंद का उत्तराखंड में मिला जुला असर

देहरादून 06 सितंबर (वार्ता) सवर्ण वर्ग के संगठनों की ओर से भारत बंद के आह्वान पर एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में उत्तराखंड के अधिकतर जिलों में सुबह से ही बाजार बंद रहे। जिससे दूध और दवा जैसी जरूरी सुविधाएं भी ठप रहीं। वहीं प्रदेश की राजधानी देहरादून में भारत बंद बेअसर रहा।
प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के कर्णप्रयाग, नारायणबगड़, थराली और गैरसैंण में गुरुवार को बाजार बंद रहे। अखिल भारतीय समानता मंच के आह्वान पर यहां बाजार बंद रहा। इस बंद को व्यापार संघ सहित कई संगठनों का समर्थन है।
रुद्रप्रयाग जिले में बंद का मिला-जुला असर देखने को मिला। चमोली जिले के गौचर में संशोधन विधेयक के विरोध में भारत बंद का व्यापक असर रहा। सुबह से ही बाजार पूरी तरह से बंद रहे। जिससे दूध, दवा जैसी आवश्यक सेवाओं के प्रतिष्ठान भी ठप रहे।
ग्रामीण क्षेत्रों से खरीदारी करने आए ग्रामीणों को बैरंग लौटना पड़ा। सभी मेडिकल स्टोर पूर्णतया बंद रहने से मरीजों के तीमारदार दवाओं के लिए इधर उधर भटकते दिखे। बाजार में जगह-जगह नुक्कड़ सभाओं में बैठे व्यापारी एससी एसटी एक्ट और आरक्षण के विरोध में चर्चा-परिचर्चा में मशगूल रहे। वहीं टिहरी के चमियाला में भी बाजार बंद कर तहसील में प्रदर्शन किया गया।
यहां विरोध स्वरूप जुलूस भी निकाला गया। वहीं अल्मोड़ा के चौखुटिया और हल्द्वानी के चोरगलिया बाजार में भी बंद का असर देखने को मिला।
सं. उप्रेती
वार्ता
More News

रिश्वत लेते बैंक मैनेजर गिरफ्तार

20 Nov 2018 | 9:44 PM

 Sharesee more..
खाद नहीं मिलने पर किसानों ने किया राष्ट्रीय राजमार्ग जाम

खाद नहीं मिलने पर किसानों ने किया राष्ट्रीय राजमार्ग जाम

20 Nov 2018 | 9:38 PM

रायबरेली, 20 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में खाद नहीं मिलने से परेशान किसानों ने मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग-24 बी को जाम कर दिया।

 Sharesee more..
निगम -विहिप संघर्ष मामले  की जांच के लिए टीम का गठन :मंडलायुक्त

निगम -विहिप संघर्ष मामले की जांच के लिए टीम का गठन :मंडलायुक्त

20 Nov 2018 | 9:26 PM

झांसी 20 नंवबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में झांसी मंडलायुक्त ने नगर निगम के कर्मचारियों और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के कार्यकर्ताओं के बीच हुए संघर्ष मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन किया है और उसे एक सप्ताह में जांच रिपोर्ट देने के आदेश दिये गये हैं।

 Sharesee more..
image