Sunday, Sep 23 2018 | Time 19:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सवर्ण समाज पार्टी मध्यप्रदेश के अलावा छत्तीसगढ और राजस्थान में भी लड़ेगी चुनाव
  • त्रिपुरा में मलेरिया का कहर,20 बच्चे अस्पताल में भर्ती
  • झारखंड को 6-0 से पीटकर दिल्ली क्वार्टरफाइनल में
  • गुजरात में गणपति की प्रतिमाओं का विसर्जन
  • हुसैनसागर झील में भगवान गणेश की 2000 से अधिक मूर्तियां विसर्जित
  • तीन तलाक का मुद्दा राजनीति का विषय नहीं : रविशंकर
  • एकता, अखंडता और सम्मान के लिए डालें वोट: लू
  • भारत ने छह स्वर्ण के साथ जीता ट्रैक एशिया कप
  • वोट बैंक की राजनीति के कारण गरीबों के स्वास्थ्य की हुई अनदेखी : मोदी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • सरकार को आन्दोलनरत कर्मचारियों से करनी चाहिए बात-पायलट
  • पर्रिकर ही गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगें: अमित शाह
  • हरियाणा ने जम्मू-कश्मीर को तीन विकेट से हराया
  • महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर ‘मुशायरा’
राज्य Share

वैद जम्मू कश्मीर के परिवहन आयुक्त पर स्थानांतरित

श्रीनगर 07 सितम्बर(वार्ता) जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक(डीजीपी) एस पी वैद को परिवहन आयुक्त के पद पर राज्य की शीतकालीन राजधानी जम्मू मुख्यालय में स्थानांतरित किया गया है।
गृह मंत्रालय की ओर से गुरुवार को देर रात जारी आदेश के मुताबिक 1987 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा(आईएएस) अधिकारी एवं वर्तमान में जेल महानिदेशक दिलबाग सिंह नियमित नियुक्ति होने तक डीजीपी का अतिरिक्त कार्यभार संभालेंगे।
आदेश में कहा गया कि डॉ. वैद का स्थानांतरण कर उनकी सेवायें सामान्य प्रशासनिक विभाग(जीडीए) के अधिकारक्षेत्र में प्रदत्त कर दी गयी है। जीडीए ने बाद में डॉ. वैद को परिवहन आयुक्त के पद पर जम्मू मुख्यालय में पदस्थ कर दिया है।
1986 बैच के भारतीय पुलिस सेवा(आईपीएस) अधिकारी डॉ. वैद पूर्ववर्ती पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी(पीडीपी)-भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) गठबंधन सरकार के कार्यकाल में डीजीपी नियुक्त किये गये थे। बाद में भाजपा की ओर से गठबंधन तोड़ दिये जाने और सुश्री महबूबा मुफ्ती के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिये जाने के बाद गत 20 जून से राज्य में राज्यपाल शासन है।
उल्लेखनीय है कि बुधवार को डॉ. वैद ने राज्य पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण पर समाचार चैनल एनडीटीवी की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि मीडिया को राज्य में दशकों से छद्म युद्ध लड़ रही पुलिस के उत्साह को कम करने वाले लेखों को प्रकाशित करने से बचना चाहिए।डॉ. वैद ने अपने ट्वीट में कहा , “जम्मू कश्मीर पुलिस दशकों से छद्म युद्ध लड़ रही है। इस कार्य के लिए बहुत साहस और दृढ़ता की आवश्यकता होती है। ऐसे में पुलिस के उत्साह को कम करने वाले कल्पित लेखों से बचना चाहिए। मैं एनडीटीवी की रिपोर्ट के संबंध में कहना चाहता हूं कि स्थानांतरण सरकार का विशेषाधिकार और एक नियमित प्रक्रिया है।” एनडीटीवी की रिपोर्ट में कहा गया था कि गृह मंत्रालय जम्मू कश्मीर पुलिस के कामकाज से संतुष्ट नहीं है और वह डॉ. वैद के विकल्प की तलाश कर रहा है। गृह मंत्रालय ने हालांकि सभी आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा है कि वह जम्मू कश्मीर पुलिस सराहनीय कार्य कर रही है।
टंडन
वार्ता
image