Thursday, Sep 20 2018 | Time 22:45 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हाई-प्रोफाइल सुसाइड मामले में पैरवी करने पहुंचे चिदम्बरम
  • ओडिशा विधानसभा का मानसून सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
  • ओडिशा में कई परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे मोदी
  • हाई-प्रोफाइल सुसाइड मामले में पैरवी करने पहुंचे चिदम्बरम
  • झारखंड में हो रहा 60 हजार करम पौधों का रोपण : रघुवर
  • मायावती ने दिया विपक्षी एकता के कांग्रेस के प्रयासों को करारा झटका
  • सफाईकर्मी करेंगे 21 से 25 सितम्बर तक भूख हड़ताल
  • आनंदपुर साहिब -नैना देवी रोपवे प्रोजेक्ट को मंजूरी
  • मायावती ने दिया विपक्षी एकता के कांग्रेस के प्रयासों को करारा झटका
  • कार और ट्रक की टक्कर में तीन की मौत
  • राजकीय सम्मान के साथ शहीद नरेंद्र सिंह का अंतिम संस्कार
  • नदीम ने 10 ओवर में 10 रन पर झटके आठ विकेट
  • एस्मा के तहत निलम्बन के खिलाफ रोडवेज कर्मियों की भूख हड़ताल
  • हरियाणा में 23-25 अक्तूबर तक होगा खेल महाकुम्भ
  • अफगानिस्तान ने बंगलादेश को दी 256 की चुनौती
राज्य Share

चुरा लिया है तुमने जो दिल को ..

..जन्मदिवस 08 सितंबर के अवसर पर ..
मुम्बई 07 सितंबर (वार्ता) अपनी आवाज की कशिश के लिए विख्यात आशा भोंसले अनेक नये प्रयोगों के साथ पिछले छह दशक में सिने जगत को 12 हजार से अधिक दिलकश और मदहोश करने वाले गीत दे चुकी हैं । हिंदी के अलावा उन्होंने मराठी बंगाली गुजराती पंजाबी तमिल मलयालम और अंग्रेजी भाषा के भी अनेक गीत गाये हैं ।
आठ सितम्बर 1933 महाराष्ट्र के सांगली गांव में जन्मी आशा भोंसले के पिता पंडित दीनानाथ मंगेश्कर मराठी रंगमंच से जुडे हुए थे । नौ वर्ष की छोटी उम्र में ही आशा के सिर से पिता का साया उठ गया और परिवार की आर्थिक जिम्मेदारी को उठाते हुए आशा और उनकी बहन लता मंगेश्कर ने फिल्मों में अभिनय के साथ साथ गाना भी शुरू कर दिया।आशा भोंसले ने अपना पहला गीत वर्ष 1948 में ..सावन आया ..फिल्म चुनरिया में गाया । सोलह वर्ष की उम्र मे अपने परिवार की इच्छा के विरूद्ध जाते हुये आशा ने अपनी उम्र से काफी बड़े गणपत राव भोंसले से शादी कर ली । उनकी वह शादी ज्यादा सफल नही रही और अंततः उन्हे मुंबई से वापस अपने घर पुणे आना पड़ा। उस समय तक गीतादत्त.शमशाद बेगम और लता मंगेश्कर पिल्मो मे बतौर पार्श्वगायिका अपनी धाक जमा चुकी थी ।
वर्ष 1957 में संगीतकार ओ.पी.नैय्यीर के संगीत निर्देशन में बनी निर्माता-निर्देशक बी.आर.चोपड़ा की फिल्म ..नया दौर.. आशा भोंसले के सिने कैरियर का अहम पड़ाव लेकर आई। वर्ष 1966 मे तीसरी मंजिल मे आशा भोंसले ने
आर.डी.बर्मन के संगीत में ..आजा आजा मै हू प्यार तेरा ..गाना को अपनी आवाज दी जिससे उन्हे काफी प्रसिद्धि मिली।
साठ और सत्तर के दशक मे आशा भोसले हिन्दी फिल्मों की प्रख्यात नर्तक अभिनेत्री ..हेलन.. की आवाज समझी जाती थी। आशा भोंसले ने हेलन के लिये तीसरी मंजिल में ..ओ हसीना जुल्फों वाली.. कारवां में .. पिया तू अब तो आजा ..मेरे जीवन साथी में आओ ना गले लगा लो ना और डॉन में ..ये मेरा दिल यार का दीवाना.. गीत गाया ।
प्रेम टंडन
जारी वार्ता
More News

भाजपा का दोहरा चरित्र सामने आया:तोगड़िया

20 Sep 2018 | 10:36 PM

 Sharesee more..
भाजपा ने दिल्ली में 500 करोड़ का बनवाया कार्यालय,रामलला टेंट में विराजमान:तोगड़िया

भाजपा ने दिल्ली में 500 करोड़ का बनवाया कार्यालय,रामलला टेंट में विराजमान:तोगड़िया

20 Sep 2018 | 10:26 PM

बरेली, 20 सितम्बर (वार्ता) अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगड़िया ने भारतीय जनता पाटी पर तंज कसते हुए कहा है कि भगवान राम टेंट में विराजमान हैं और खुद के लिउ 500 करोड़ रुपये का कार्यालय दिल्ली में बनवा लिया।

 Sharesee more..
image