Sunday, Sep 23 2018 | Time 18:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • छत्तीसगढ़ के 40 लाख गरीबों को मिलेगी पांच लाख तक मुफ्त इलाज सुविधा
  • यूपी-ओड़िशा का मुकाबला बारिश की भेंट चढा
  • मुंबई ने ठोके 400, विजय हजारे ट्रॉफी का दूसरा सबसे बड़ा स्कोर
  • पुलवामा में मुठभेड़, जैश का शीर्ष कमांडर ढेर
  • दिल्ली की सभी लोकसभा सीटें फिर जीतेगी भाजपा : शाह
  • श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग भूस्खलन के कारण बंद
  • ओलम्पिक के लिए 3 करोड़ बच्चों तक पहुंचने का लक्ष्य: राठौड़
  • ओलम्पिक के लिए 3 करोड़ बच्चों तक पहुंचने का लक्ष्य: राठौड़
  • झांसी में निर्माणाधीन ओवरब्रिज पर लगे तिरपाल में लगी आग
  • ग्रामीणों ने चोर को पीट-पीट कर मार डाला
  • बाढ में फंसे अंतिम संस्कार में शामिल होने गये लोग
  • मूसलाधर बारिश से जनजीवन प्रभावित,चोटियों पर हिमपात
  • बिहार में ट्रस्ट मोड में लागू होगी आयुष्मान भारत योजना : नीतीश
  • विधायक समेत दो नेताओं की हत्या पर नायडू ने जताया क्षोभ
राज्य Share

एस.मोहिन्दर ने ठुकरा दिया था मधुबाला का विवाह प्रस्ताव

..जन्मदिवस 08 सितम्बर के अवसर पर ..
मुंबई 07 सितंबर(वार्ता) बीते जमाने के मशहूर संगीतकार एस.मोहिन्दर को एक बार बेपनाह हुस्न की मल्लिका मधुबाला से शादी का प्रस्ताव मिला था जिन्हें उन्हें ठुकरा दिया था।
एस.मोहिन्दर मूल नाम मोहिन्दर सिंह सरना का जन्म अविभाजित पंजाब में मोंटगोमरी जिले के सिलनवाला गांव में 08 सितम्बर 1925 को एक सिख परिवार में हुआ। मोहिन्दर के पिता सुजान सिंह बख्शी पुलिस में सब इंस्पेक्टर थे। उनके पिता बांसुरी बहुत अच्छी बजाते थे जिसे वह बेहद प्यार से सुना करते थे1बचपन के दिनो से ही मोहिन्दर का रूझान संगीत की ओर हो गया था।
वर्ष 1935 में मोहन्दर ने गायक संत सुजान सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेनी शुरू की। बाद में उन्होंने संगीतज्ञ भाई समुंद सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। मोहिन्दर ने महान शास्त्रीय गायक बड़े गुलाम अली खां और लक्ष्मण दास से भी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ग्रहण की थी। मोहिन्दर के पिता का लगतार तबादला हुआ करता था जिसके कारण उनकी पढ़ाई काफी प्रभवित हुआ करती थी। चालीस के दशक के प्रारंभ में उनका दाखिला अमृतसर जिले के कैरों गांव में खालसा हाई स्कूल में करा दिया गया।
वर्ष 1947 में देश का विभाजन होने पर उनका परिवार तो भारत में पूर्वी पंजाब चला गया लेकिन संगीत के प्रति रूझान के कारण मोहिन्दर बनारस आ गये जहां उन्होंने दो साल तक शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। शुरूआती दौर में मोहिन्दर पार्श्वगायक बनना चाहते थे। कुछ वर्ष तक वह लाहौर रेडियो स्टेशन से भी गायक के तौर पर काम किया इसी दौरान उनकी मुलाकात सुरैया से हुयी जिन्होंने उन्हें मुंबई आने का न्यौता दिया। मुंबई आने पर मोहिन्दर की मुलाकात जानेमाने संगीतकार खेमचंद्र प्रकाश से हुयी।
प्रेम टंडन
जारी वार्ता
More News
भारतीय संस्कृति का मर्म परोपकार है और यही लोक कल्याण का पर्याय:योगी

भारतीय संस्कृति का मर्म परोपकार है और यही लोक कल्याण का पर्याय:योगी

23 Sep 2018 | 6:20 PM

गोरखपुर, 23 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारतीय संस्कृति का मर्म पराेपकार है और यही परोपकार लोक कल्याण का पर्याय है।

 Sharesee more..

मध्यप्रदेश के प्रमुख नगरों का तापमान

23 Sep 2018 | 6:11 PM

 Sharesee more..
image