Monday, Apr 22 2019 | Time 12:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • झांसी: फायरिंग कर इलाके में दहशत फैलाने वाले सिपाही के खिलाफ मुकदमा दर्ज
  • सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा
  • सातवें चरण के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी, नामांकन शुरू
  • खगड़िया में कैसर और मुकेश सहनी के बीच रोमांचक मुकाबला
  • ट्रक की टक्कर से मोटरसाइकिल सवार दो की मौत
  • मधेपुरा में नीतीश और लालू की प्रतिष्ठा दाव पर
  • पुतिन, किम की बैठक, रूसी विश्वविद्यालय की सुरक्षा बढ़ी
  • कांग्रेस ने दिल्ली की छह सीटों के लिए उम्मीदवार घोषित किये
  • उप्र में वाराणसी समेत 13 लोकसभा क्षेत्रों के लिये अधिसूचना जारी, नामांकन प्रक्रिया शुरू
  • कांग्रेस ने दिल्ली के छह लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा की
  • तृणमूल कांग्रेस के आक्रामक प्रहारों से जूझ रहे अभिजीत मुखर्जी
  • सीकर जिले का हिस्ट्रीशीटर गिरफ्तार
  • श्रीलंका आतंकवादी हमले में मृतकों की संख्या 290 हुई
  • संयुक्त राष्ट्र ने श्रीलंका में हुये आतंकवादी हमले की निंदा की
  • कारवां-ए-अमन बस की सेवा आठवें सप्ताह स्थगित
राज्य


एस.मोहिन्दर ने ठुकरा दिया था मधुबाला का विवाह प्रस्ताव

..जन्मदिवस 08 सितम्बर के अवसर पर ..
मुंबई 07 सितंबर(वार्ता) बीते जमाने के मशहूर संगीतकार एस.मोहिन्दर को एक बार बेपनाह हुस्न की मल्लिका मधुबाला से शादी का प्रस्ताव मिला था जिन्हें उन्हें ठुकरा दिया था।
एस.मोहिन्दर मूल नाम मोहिन्दर सिंह सरना का जन्म अविभाजित पंजाब में मोंटगोमरी जिले के सिलनवाला गांव में 08 सितम्बर 1925 को एक सिख परिवार में हुआ। मोहिन्दर के पिता सुजान सिंह बख्शी पुलिस में सब इंस्पेक्टर थे। उनके पिता बांसुरी बहुत अच्छी बजाते थे जिसे वह बेहद प्यार से सुना करते थे1बचपन के दिनो से ही मोहिन्दर का रूझान संगीत की ओर हो गया था।
वर्ष 1935 में मोहन्दर ने गायक संत सुजान सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेनी शुरू की। बाद में उन्होंने संगीतज्ञ भाई समुंद सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। मोहिन्दर ने महान शास्त्रीय गायक बड़े गुलाम अली खां और लक्ष्मण दास से भी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ग्रहण की थी। मोहिन्दर के पिता का लगतार तबादला हुआ करता था जिसके कारण उनकी पढ़ाई काफी प्रभवित हुआ करती थी। चालीस के दशक के प्रारंभ में उनका दाखिला अमृतसर जिले के कैरों गांव में खालसा हाई स्कूल में करा दिया गया।
वर्ष 1947 में देश का विभाजन होने पर उनका परिवार तो भारत में पूर्वी पंजाब चला गया लेकिन संगीत के प्रति रूझान के कारण मोहिन्दर बनारस आ गये जहां उन्होंने दो साल तक शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। शुरूआती दौर में मोहिन्दर पार्श्वगायक बनना चाहते थे। कुछ वर्ष तक वह लाहौर रेडियो स्टेशन से भी गायक के तौर पर काम किया इसी दौरान उनकी मुलाकात सुरैया से हुयी जिन्होंने उन्हें मुंबई आने का न्यौता दिया। मुंबई आने पर मोहिन्दर की मुलाकात जानेमाने संगीतकार खेमचंद्र प्रकाश से हुयी।
प्रेम टंडन
जारी वार्ता
image