Thursday, Jan 24 2019 | Time 15:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • असम के तीन व्याख्याता सड़क हादसे के शिकार
  • शोपियां में दूसरे दिन भी रहा जनजीवन प्रभावित
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
  • बॉलीवुड अभिनेता यशपाल शर्मा बनाएंगे कवि पं0 लख्मी चंद की बायोपिक
  • राजकोट में पुलिस ने किये दो फर्जी डॉक्टर गिरफ्तार
  • गैस सिलेंडर विस्फोट से पांच झुलसे
  • 27वां कन्वर्जेंस इंडिया एक्सपो 29जनवरी से दिल्ली में
  • कांग्रेस विधायक आनंद सिंह को नेत्र अस्पताल में कराया गया भर्ती
  • ओसाका और क्वितोवा में होगा खिताबी मुकाबला
  • आतंकियों से लौहा लेने वाले कश्मीर के लांस नायक वानी को अशोक चक्र
  • सरगोधा में पोलियो का ड्राप पिलाने गई दो महिलाओं को ताले में किया बंद
  • मतपत्रों से चुनाव कराना संभव नहीं है: चुनाव आयोग
  • कांग्रेस के प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं गौर
  • लक्ष्मीबाई के किरदार को कंगना ने किया अमर: मनोज कुमार
राज्य Share

खेमचंद्र प्रकाश की सिफारिश की वजह से मोहिन्दर को वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म सेहरा में बतौर संगीतकार काम करने का अवसर मिल गया। इस फिल्म से हालांकि उन्हें कोई खास पहचान नही मिली। वर्ष 1950 में प्रदर्शित फिल्म नीली से बतौर संगीतकार मोहिन्दर कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे। इस फिल्म में देवानंद और सुरैया ने मुख्य भूमिकायें निभायी थी। इस फिल्म के लिए मोहिन्दर ने सात हजार रूपए लिए थे।
फिल्म नीली की सफलता के बाद मोहिन्दर को बड़े बैनर की फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये। इनमें पापी और शीरी फरहाद प्रमुख है। पापी में राजकपूर ने मुख्य भूमिका निभायी थी। बेहतरीन संगीत के बावजूद फिल्म पापी
बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी। शीरी फरहाद हालांकि टिकट खिड़की पर सफल रही। फिल्म शीरी फरहाद में मोहिन्दर के संगीत बनाने के अंदाज से मधुबाला बेहद प्रभावित हुयी। शीरीं फरहाद.. फिल्म में उनके संगीतबद्ध गीत काफी लोकप्रिय हुए थे। लता मंगेशकर की आवाज में रचा बसा यह गीत गुजरा हुआ जमाना आता नहीं दोबारा.हाफिज खुदा तुम्हारा..की तासीर आज भी बरकरार है। कहा जाता है कि मधुबाला ने मोहिन्दर के सामने शादी का प्रस्ताव रखा था लेकिन मोहिन्दर शादीशुदा थे इसलिये उन्होंने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया। कहा जाता है कि मधुबाला ने उनकी पत्नी के गुजारे और उनके बच्चों की पढाई.लिखाई के लिए हर महीने आर्थिक सहायता के रूप में भारी.भरकम रकम देने की पेशकश भी की थी।
मोहिन्दर ने हिन्दी फिल्मों के अलावा कुछ पंजाबी फिल्मों और अलबमों के लिए भी संगीत दिया है। मोहिन्दर की पंजाबी फिल्मो में ..दाज.नानक नाम जहाज.दुखभंजन तेरा नाम. चंबे दी कली.. मन जीते जग जीत.पापी तारे अनेक और.मौला जट्ट.प्रमुख है। फिल्म .नानक नाम जहाज.. के लिये उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला।
मोहिन्दर ने नब्बे के दशक में कुछ प्राइवेट अलबमों के लिए भी संगीत दिया.जिनमें कुछ भक्ति संगीत और कुछ पंजाबी लोकसंगीत पर आधारित थे। अमेरिका में भी उन्होंने भक्ति गीत और रोमांटिक गीतों के कुछ अलबम निकाले। मोहिन्दर गायक.गायिकाओं में मोहम्मद रफी.तलत महमूद तथा आशा भोंसले के बडे प्रशंसक थे। मोहिन्दर ने तलत महमूद की सरहना करते हुये कई बार कहा है कि मो.रफी की शैली को कई गायकों ने अपनाने की कोशिश की है लेकिन तलत महमूद की नकल करने की कोशिश कोई नहीं कर सकता है।
प्रेम टंडन
वार्ता
More News
अमरिंदर तथा मोदी ने किया एक लाख दलित छात्रों का भविष्य तबाह :आप

अमरिंदर तथा मोदी ने किया एक लाख दलित छात्रों का भविष्य तबाह :आप

24 Jan 2019 | 3:43 PM

चंडीगढ़, 24 जनवरी (वार्ता) पंजाब आम आदमी पार्टी (आप) ने कहा है कि केन्द्र और पंजाब सरकार की ढुलमुल नीति के कारण दलित तथा पिछड़े वर्ग के एक लाख से अधिक छात्र वजीफा न मिलने से दाखिले से वंचित रह गये हैं।

 Sharesee more..

गौ की सेवा पुनीत कार्य है-घनघोरिया

24 Jan 2019 | 3:42 PM

 Sharesee more..
image