Wednesday, Sep 26 2018 | Time 06:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चुनाव कराना राष्ट्रीय हित में नहीं: थेरेसा मे
  • तेलंगाना में रिश्वत लेने के मामले अधिकारी समेत दो गिरफ्तार
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • जम्मू निकाय चुनाव के लिए 815 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
  • पश्चिमी पाकिस्तान का शरणार्थी एक प्रतिनिधि मंडल जितेंद्र सिंह से मिला
राज्य Share

जयपुर जलप्रदाय और मलवहन बोर्ड के गठन से समस्या बढ़ेगी- तिवाड़ी

जयपुर 07 सितम्बर (वार्ता) सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के सदस्य घनश्याम तिवाडी ने राज्य सरकार द्वारा लाये गये जयपुर जलप्रदाय और मलवहन बोर्ड को घातक बताते हुये कहा कि इससे नागरिकों की समस्याएं और बढ़ेगी।
श्री तिवाडी में आज सदन में रखे गये इस विधेयक का विरोध करते हुये कहा कि जयपुर पहले से ही पेयजल संकट से जूझ रहा है ऐसे में बोर्ड के गठन करने से समस्याएं और अधिक बढ़ेगी । उन्होंने कहा कि जल प्रदाय योजना के तहत जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग , सफाई व्यवस्थाओं के लिये नगर निगम और आवास के लिये आवास मंडल जैसी इर्काइयों पहले से ही कार्यरत है और अब सफाई और जलापूर्ति के लिये नया बोर्ड का गठन करना जयपुर की जनता के साथ अन्याय होगा ।
उन्होंने कहा कि जलापूर्ति और सफाई की समस्या केवल जयपुर में ही नही बल्कि प्रदेश के अन्य बड़े शहरों में भी है ऐसी स्थिति में एक शहर के लिये बोर्ड बनाना उचित नही है। उन्होंने कहा कि इस बोर्ड के लिये कर्मचारियों की नियुक्ति आदि कई समसस्याएं ऐसी है जिसके बारे में विचार करना होगा ।
उन्होंने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार ने जयपुर के सीवरेज के लिये 1400 करोड रूपये की योजना मंजूरी के लिये जयपुर विकास प्राधिकरण को प्रेषित की थी लंकिन राज्य सरकार की द्वेषतापूर्ण नीति के कारण जेडीए ने इसे मंजूर नही किया। उन्हानें सरकार से मांग की कि इस योजना को मंजूर कर सांगानेर क्षेत्र की जनता को इससे लाभांवित करें।
संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि जयपुर में पेयजल और सीवरेज के लिये विभिन्न संस्थाएं है जिनमें आपसी सामंजस्य के अभाव में कई तरह की समस्याएं पैदा होती है। इन समस्याओं को दूर करने के लिये ही अलग से बोर्ड बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस बोर्ड के लिये नगर निगम और अन्य संस्थाओं से पांच साल के लिये कर्मचारियों की नियुक्ति की जायेगी और उनकी सेवा शर्ते , सुविधाओं को यथावत रखा जायेगा ।
उन्होंने कहा कि ऐसे बोर्ड देश के कई महानगरों में भी बने हुये है। उन्होंने कहा कि इन बोर्डो को राज्य सरकार द्वारा समय समय पर अनुदान दिया जायेगा और इन्हें मिलने वाले राजस्व से बोर्ड का संचालन होगा ।
इससे पूर्व सदन ने श्री तिवाडी की ओर से इस विधेयक पर रखे गये परिनियत संकल्प को ध्वनिमत से खारिज कर दिया और विधेयक को पारित कर दिया ।
अजय सैनी
वार्ता
More News
निजी स्कूल वाहनों में लगे जीपीएस व सीसीटीवी कैमरे: उच्च न्यायालय

निजी स्कूल वाहनों में लगे जीपीएस व सीसीटीवी कैमरे: उच्च न्यायालय

25 Sep 2018 | 11:52 PM

नैनीताल 25 सितम्बर (वार्ता) उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने हल्द्वानी के काठगोदाम में स्कूल वैन में एक मासूम के साथ हुए यौन उत्पीड़न के मामले को गंभीरता से लेते हुए मासूमों की सुरक्षा के लिये कुछ महत्वपूर्ण निर्देश जारी किये हैं।

 Sharesee more..
कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है : उप राष्‍ट्रपति

कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है : उप राष्‍ट्रपति

25 Sep 2018 | 11:33 PM

तिरूपति, 25 सितंबर (वार्ता) उप राष्‍ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने कहा है कि कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है अौर हमें इसे समर्थन कर किसानों के लिए उपयोगी बनाना है।

 Sharesee more..
image