Monday, Feb 18 2019 | Time 18:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पीएम मोदी का वाराणसी दौरा कल, सुरक्षा के कड़े इंतजाम
  • व्यवसायी लूटकांड मामले में चार गिरफ्तार
  • इंग्लैंड की महिला टीम ने बोर्ड एकादश टीम को हराया
  • अंतिम वेतन का 50 प्रतिशत पेंशन दे सरकार: बीएमएस
  • आईएस में शामिल ब्रिटिश लड़की चाहती है वापसी
  • कर्नाटक में 'मोदी विजय संकल्प यात्रा' 21 फरवरी से
  • पंजाब-बजट पेश दो अंतिम चंडीगढ़
  • प्रियंका 21 फरवरी से प्रयागराज और वाराणसी दौरे पर
  • --
  • आतंकवादियों के खात्मे में सफल हो रहे हैं सुरक्षा बल : राजनाथ
  • आरसीए ने भी पाकिस्तानी खिलाड़ियों की तस्वीरें हटायीं
  • 14 फरवरी देश के लिए काला दिन : सानिया
  • वर्ष 2031 तक 30 करोड़ टन इस्पात उत्पादन का लक्ष्य : बीरेन्द्र सिंह
  • चेन्नई सर्राफा के भाव
  • जिसों में टिकाव
राज्य Share

राम की नैया पार लगाने वाली जातियों को मिले आरक्षण का लाभ: योगी

राम की नैया पार लगाने वाली जातियों को मिले आरक्षण का लाभ: योगी

लखनऊ, 07 सितम्बर(वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राम की नैया पार लगाने वाली केवट, निषाद, बिन्द, माझी, कश्यप जातियों को आरक्षण की सुविधा मिलनी चाहिए और भारतीय जनता पार्टी की सरकार यह सुविधा दिलाने के लिए पूरा प्रयास कर रही है।

श्री योगी ने शुक्रवार को यहां लोक निर्माण विभाग के विश्वेश्वरैया हाॅल में आयोजित ‘भाजपा-पिछड़ा वर्ग मोर्चा, उत्तर प्रदेश के महाराज कश्यप, निषादराज के वंशजों के सम्मेलन’ को सम्बोधित करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार ने इस मामले को न्यायालय में लटकाया है। हमारी सरकार द्वारा सामाजिक न्याय समिति का गठन करके यह सुविधा निषाद समाज को दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पूर्व के समय में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गुड़ और खाण्डसारी उद्योग पर निषाद समाज का वर्चस्व था। समाजवादी पार्टी की सरकार ने मिल मालिकों को लाइसेन्स देना बन्द कर दिया। हमारी सरकार ने फिर से लाइसेन्स देने की व्यवस्था की है। अब गुड़ और खाण्डसारी का निःशुल्क लाइसेन्स दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि निषाद, बिन्द, माझी, कश्यप आदि का सबसे ज्यादा वास्ता नाव से है। बरसात में आप जान जोखिम में डालकर दूसरों के प्राण बचाते हैं। कभी-कभी सांप काटने या नाव पलटने से जनहानि होती है। उनको मुआवजा भी नहीं मिल पाता था। हमारी सरकार ने ऐसी घटनाओं में जनहानि होने पर चार लाख रुपए का मुआवजा देने की व्यवस्था की है। वन्य जीव हमले में भी मुआवजे की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कहा कि किसी भी समाज को अपने पूर्वजों, परम्परा, संस्कृति के प्रति सम्मान का भाव रखना चाहिए। निषाद समाज के लोग गौरवशाली हैं कि यह संसार के सबसे प्राचीन जाति हैं। इनका सम्बन्ध मत्स्यावतार से है। निषाद समाज के महाराज गुह्य भगवान श्रीराम के सहयोगी थे। निषाद समाज की परम्परा ने देश, समाज और इतिहास को बहुत कुछ दिया है।

More News

तेज हवाओं के साथ 20-21 फरवरी को ओलावृष्टि के आसार

18 Feb 2019 | 6:07 PM

चंडीगढ़ , 18 फरवरी (वार्ता) पंजाब तथा हरियाणा सहित पश्चिमोत्तर क्षेत्र में अगले दो दिनों में कहीं -कहीं हल्की बारिश तथा 20 से 21 फरवरी के बीच तेज हवा के साथ ओलावृष्टि और अनेक स्थानों पर बारिश की संभावना है ।

 Sharesee more..

व्यवसायी लूटकांड मामले में चार गिरफ्तार

18 Feb 2019 | 6:06 PM

 Sharesee more..
वर्ष 2031 तक 30 करोड़ टन इस्पात उत्पादन का लक्ष्य : बीरेन्द्र सिंह

वर्ष 2031 तक 30 करोड़ टन इस्पात उत्पादन का लक्ष्य : बीरेन्द्र सिंह

18 Feb 2019 | 6:04 PM

बेतिया, 18 फरवरी (वार्ता) केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने आज कहा कि केन्द्र सरकार ने वर्ष 2031 तक इस्पात उत्पादन क्षमता 30 करोड़ टन तक बढ़ाने का लक्ष्य तय किया है, जिससे शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के बीच इस्पात खपत के भारी अंतर को पाटने में मदद मिलेगी।

 Sharesee more..
image