Monday, Dec 10 2018 | Time 08:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मैक्रों कर सकते हैं महत्वपूर्ण घोषणाएं
  • यमन की शांति वार्ता का समर्थन करता हैं ईरान
  • तस्करों ने साइप्रस के तट पर छोड़े 43 अवैध अप्रवासी
  • अमेरिका-चीन की कारोबारी जंग में रूस नहीं ले रहा पक्ष: रूस
  • ट्रंप फ्रांस के आंतरिक मामलों में न करें हस्तक्षेप: फ्रांस
  • चीन के भूकंप और भूस्खलन में तीन की मौत, पांच घायल
राज्य Share

राम की नैया पार लगाने वाली जातियों को मिले आरक्षण का लाभ: योगी

राम की नैया पार लगाने वाली जातियों को मिले आरक्षण का लाभ: योगी

लखनऊ, 07 सितम्बर(वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राम की नैया पार लगाने वाली केवट, निषाद, बिन्द, माझी, कश्यप जातियों को आरक्षण की सुविधा मिलनी चाहिए और भारतीय जनता पार्टी की सरकार यह सुविधा दिलाने के लिए पूरा प्रयास कर रही है।

श्री योगी ने शुक्रवार को यहां लोक निर्माण विभाग के विश्वेश्वरैया हाॅल में आयोजित ‘भाजपा-पिछड़ा वर्ग मोर्चा, उत्तर प्रदेश के महाराज कश्यप, निषादराज के वंशजों के सम्मेलन’ को सम्बोधित करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार ने इस मामले को न्यायालय में लटकाया है। हमारी सरकार द्वारा सामाजिक न्याय समिति का गठन करके यह सुविधा निषाद समाज को दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पूर्व के समय में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गुड़ और खाण्डसारी उद्योग पर निषाद समाज का वर्चस्व था। समाजवादी पार्टी की सरकार ने मिल मालिकों को लाइसेन्स देना बन्द कर दिया। हमारी सरकार ने फिर से लाइसेन्स देने की व्यवस्था की है। अब गुड़ और खाण्डसारी का निःशुल्क लाइसेन्स दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि निषाद, बिन्द, माझी, कश्यप आदि का सबसे ज्यादा वास्ता नाव से है। बरसात में आप जान जोखिम में डालकर दूसरों के प्राण बचाते हैं। कभी-कभी सांप काटने या नाव पलटने से जनहानि होती है। उनको मुआवजा भी नहीं मिल पाता था। हमारी सरकार ने ऐसी घटनाओं में जनहानि होने पर चार लाख रुपए का मुआवजा देने की व्यवस्था की है। वन्य जीव हमले में भी मुआवजे की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कहा कि किसी भी समाज को अपने पूर्वजों, परम्परा, संस्कृति के प्रति सम्मान का भाव रखना चाहिए। निषाद समाज के लोग गौरवशाली हैं कि यह संसार के सबसे प्राचीन जाति हैं। इनका सम्बन्ध मत्स्यावतार से है। निषाद समाज के महाराज गुह्य भगवान श्रीराम के सहयोगी थे। निषाद समाज की परम्परा ने देश, समाज और इतिहास को बहुत कुछ दिया है।

More News

दुर्घटना-मौत बिहार दो अंतिम पटना

09 Dec 2018 | 11:29 PM

 Sharesee more..

09 Dec 2018 | 11:24 PM

 Sharesee more..
image