Friday, Sep 21 2018 | Time 23:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • टीआरएस नेता सपत्नीक कांग्रेस में शामिल
  • मोदी पाकयोंग ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे का सोमवार को करेंगे उदघाटन
  • भाजपा ने कुमारस्वामी के खिलाफ राज्यपाल से की शिकायत
  • लपांग के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस पर असर नहीं : संगमा
  • राजकीय सम्मन के साथ हुआ बीएसएफ जवान का अंतिम संस्कार
  • राष्ट्रीय सैंबो प्रतियोगिता में हरियाणा चैंपियन
  • बीसीए के खिलाफ कार्रवाई करे बीसीसीआई : सीएबी
  • तंजानिया नौका हादसे में मृतक संख्या 136 हुई
  • मोदी ने राफेल सौदे में देश को दिया धोखा: राहुल
  • टीआरएस नेता कांग्रेस में शामिल
  • पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : लोईस
  • युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना प्राथमिकता : रघुवर
  • शहीद जवान के परिवार को एक करोड़ की वित्तीय मदद
  • बच्ची छेड़छाड़ के आरोप में दो गिरफ्तार
  • ‘सीबीआई निदेशक के खिलाफ शिकायत दुर्भावना से ग्रस्त’
राज्य Share

राम की नैया पार लगाने वाली जातियों को मिले आरक्षण का लाभ: योगी

राम की नैया पार लगाने वाली जातियों को मिले आरक्षण का लाभ: योगी

लखनऊ, 07 सितम्बर(वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राम की नैया पार लगाने वाली केवट, निषाद, बिन्द, माझी, कश्यप जातियों को आरक्षण की सुविधा मिलनी चाहिए और भारतीय जनता पार्टी की सरकार यह सुविधा दिलाने के लिए पूरा प्रयास कर रही है।

श्री योगी ने शुक्रवार को यहां लोक निर्माण विभाग के विश्वेश्वरैया हाॅल में आयोजित ‘भाजपा-पिछड़ा वर्ग मोर्चा, उत्तर प्रदेश के महाराज कश्यप, निषादराज के वंशजों के सम्मेलन’ को सम्बोधित करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार ने इस मामले को न्यायालय में लटकाया है। हमारी सरकार द्वारा सामाजिक न्याय समिति का गठन करके यह सुविधा निषाद समाज को दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पूर्व के समय में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गुड़ और खाण्डसारी उद्योग पर निषाद समाज का वर्चस्व था। समाजवादी पार्टी की सरकार ने मिल मालिकों को लाइसेन्स देना बन्द कर दिया। हमारी सरकार ने फिर से लाइसेन्स देने की व्यवस्था की है। अब गुड़ और खाण्डसारी का निःशुल्क लाइसेन्स दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि निषाद, बिन्द, माझी, कश्यप आदि का सबसे ज्यादा वास्ता नाव से है। बरसात में आप जान जोखिम में डालकर दूसरों के प्राण बचाते हैं। कभी-कभी सांप काटने या नाव पलटने से जनहानि होती है। उनको मुआवजा भी नहीं मिल पाता था। हमारी सरकार ने ऐसी घटनाओं में जनहानि होने पर चार लाख रुपए का मुआवजा देने की व्यवस्था की है। वन्य जीव हमले में भी मुआवजे की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कहा कि किसी भी समाज को अपने पूर्वजों, परम्परा, संस्कृति के प्रति सम्मान का भाव रखना चाहिए। निषाद समाज के लोग गौरवशाली हैं कि यह संसार के सबसे प्राचीन जाति हैं। इनका सम्बन्ध मत्स्यावतार से है। निषाद समाज के महाराज गुह्य भगवान श्रीराम के सहयोगी थे। निषाद समाज की परम्परा ने देश, समाज और इतिहास को बहुत कुछ दिया है।

More News
भाजपा ने कुमारस्वामी के खिलाफ राज्यपाल से की शिकायत

भाजपा ने कुमारस्वामी के खिलाफ राज्यपाल से की शिकायत

21 Sep 2018 | 11:17 PM

बेंगलुरु 21 सितम्बर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने शुक्रवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी के जनता को विद्रोह के लिए उकसाने वाले बयान को लेकर उनके खिलाफ राज्यपाल वजुभाई वाला को शिकायत पत्र दिया और श्री कुमारस्वामी के खिलाफ संविधान के अनुसार कार्रवाई करने का आग्रह किया।

 Sharesee more..
लपांग के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस पर असर नहीं : संगमा

लपांग के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस पर असर नहीं : संगमा

21 Sep 2018 | 11:06 PM

शिलांग 21 सितंबर(वार्ता) मेघालय विधानसभा विपक्ष के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने कहा है कि उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेता डीडी लपांग के पार्टी छोड़ने से लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर कांग्रेस पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

 Sharesee more..
image