Thursday, Jul 18 2019 | Time 17:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • थर्मोकोल को प्रतिबंधित करने से पत्तलों को मिलेगा बढ़ावा
  • स्टाफ ने दी राज्यपाल को भावभीनी विदाई
  • एचपी ने लाँच किया नया प्रोबुक 445 जी 6
  • ईबे करेगी पेटीएम मॉल में निवेश,लेगी 5 5 प्रतिशत हिस्सेदारी
  • ट्रम्प पर महाभियोग चलाने का प्रस्ताव गिरा
  • 2020 में विश्व खिताब जीतना है लक्ष्य: विजेन्दर
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • बाबा रामदेव मंदिर से मुकुट और नकदी चोरी
  • राज्यसभा में अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता एवं सुलह केन्द्र बनाने की मांग
  • एशिया को फतह करने लेबनान रवाना भारत की लड़कियां
  • एशिया को फतह करने लेबनान रवाना भारत की लड़कियां
  • दिल्ली में 8 सितंबर को होगा 7वीं पिंकाथॉन दौड़ का आयोजन
  • दिल्ली में 8 सितंबर को होगा 7वीं पिंकाथॉन दौड़ का आयोजन
  • गुरु नानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव को समर्पित पंजाब खेल कैलेंडर जारी
  • मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित
राज्य


उत्तर प्रदेश योगी आरक्षण दो अंतिम लखनऊ

श्री योगी ने कहा कि निषाद समाज के लोग देश की उस परम्परा के वारिस हैं, जिसने देश और धर्म की रक्षा की है। उन्होेंने कहा कि श्रृंगवेरपुर को तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा है। इसके लिए 34 करोड़ रुपए की कार्य योजना बनायी गई है। भगवान श्रीराम और निषादराज गुह्य की विशाल प्रतिमा स्थापित की जाएगी। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार देश और समाज के समग्र विकास के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2011 के सामाजिक, आर्थिक सर्वेक्षण के अनुसार सभी जरूरतमन्दों को आवास, शौचालय, विद्युत कनेक्शन, गैस कनेक्शन बिना किसी भेदभाव के प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध कराए जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ‘नीली क्रान्ति’ की बात करते हैं। इसका उद्देश्य मत्स्य उत्पादन बढ़ाना है। केन्द्र और राज्य सरकार ग्रामीण अंचलों में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाएं चला रही हैं। इन योजनाओं में मछुआ दुर्घटना बीमा योजना, मछुआ आवास योजना, मोटरसाइकिल पर आइस बाॅक्स योजना, खुदरा आउटलेट, मत्स्य बीज योजना आदि योजनाएं संचालित कर रही है। राज्य सरकार ने इस वर्ष मछुआ कल्याण के लिए 25 करोड़ रुपए की कार्य योजना बनायी है।
उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी सम्बन्धित लोगों तक पहुंचाना आवश्यक है, जिससे योजनाओं से जुड़कर गरीब, दलित, वंचित, पिछड़े अपने सम्मान और स्वावलम्बन के लिए अग्रसर हो सकें। लोगों को जागरूक करने के लिए शिक्षा भी आवश्यक है। हम सभी का दायित्व है कि लोगों को शिक्षा के लिए प्रेरित करें। शिक्षित होने पर आपकी भावी पीढ़ी शासकीय योजनाओं से जुड़कर सम्मान और स्वावलम्बन के साथ आगे बढ़ेगी। उन्होंने निषाद समाज के लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार समाज के हितों का प्राथमिकता के आधार पर समाधान करेगी।
तेज
वार्ता
image