Wednesday, Sep 26 2018 | Time 14:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चांदी 460 रुपये महंगी; सोना 75 रुपये सस्ता
  • गंगा-यमुना प्रदूषण के मामले में केन्द्र समेत चार राज्यों से हाईकोर्ट ने मांगा जवाब
  • आधार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत:भाजपा
  • नंबर वन हालेप वुहान ओपन से बाहर
  • जस्टिस गोगोई की नियुक्ति के खिलाफ याचिका खारिज
  • दिल्ली पुलिस अरुणाचल के युवाओं की भर्ती करेगी
  • अदालती सुनवाई के सीधे प्रसारण की अनुमति, जल्द बनेंगे कायदे कानून
  • उत्तरी दिल्ली में इमारत गिरी, दो बच्चों की मौत
  • ताइ‌वान को हथियार ना बेचे अमेरिका: चीन
  • ईरान पर अमेरिका नीत पाबंदियां ‘आर्थिक आतंकवाद’: रूहानी
  • रुपये की संदर्भ दर
  • दिल्ली में सुबह का मौसम खुशनुमा
  • अंपायरिंग से नाराज़ धोनी ने किया कटाक्ष
  • अंपायरिंग से नाराज़ धोनी ने किया कटाक्ष
राज्य Share

वाहन चोर गिरोह के छह सदस्य गिरफ्तार, 60 दोपहिया वाहन बरामद

भोपाल, 08 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के भोपाल की अपराध शाखा पुलिस ने वाहन चोर गिरोह के छह सदस्यों को गिरफ्तार कर 60 दोपहिया वाहन बरामद किए हैं।
भोपाल के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) धर्मेंद्र चौधरी ने आज यहां मीडिया को बताया कि अब तक चोरों की निशानदेही पर राजधानी के आधा दर्जन से अधिक थाना क्षेत्रों से वाहन जब्त किए जा चुके हैं। इनकी अनुमानित कीमत 40 लाख रुपये आंकी गई है।
श्री चौधरी ने बताया कि अपराध शाखा पुलिस की टीम ने ताजुल मस्जिद, ताज मार्केट में काला दरवाजा के पास तीन संदिग्धों शाहजहांनाबाद निवासी सुनील धौलपुरिया, राशिद खान और असलम खान का पकड़ा था। ये जिन दोपहिया वाहनों में थे, वे चोरी के पाए गए। इस पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।
उन्होंने बताया कि तीनों आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में पिछले तीन वर्षो से दोपहिया वाहन चोरी कर फर्जी नंबर और फर्जी रजिस्ट्रेशन कार्ड तैयार कर गांव के ग्राहकों को बेचना स्वीकार किया।
श्री चौधरी ने बताया कि इस गिरोह का मास्टर माइंड राशिद खान है। राशिद ने वर्ष 2015 से गाड़ी चोरी की शुरुआत की थी। इसके बाद उसने अपनी टीम में असलम और सुनील को भी शामिल किया था। फर्जी नंबर और रजिस्ट्रेशन कार्ड तैयार करवाने के लिए इन लोगों ने अपने गिरोह में आरटीओ आॅफिस में एजेंट का काम करने वाले समीर उर्फ वसीम तथा मोंटी उर्फ संदेश को भी शामिल किया।
उन्होंने बताया कि ये लोग चोरी के वाहन बेच देते थे। अगर गाड़ी नहीं बिकती थी, तो उसे गिरवी रखकर पैसा ले लेते थे और आपस में बांट लेते थे। गिरवी रखे वाहन ये वापस लेने नहीं जाते थे।
श्री चौधरी के अनुसार इन लोगों ने सुरेन्द्र अहिरवार को भी अपने गिरोह में शामिल किया था। वह गाड़ियों के इंजन व चेसिस नंबरों को रेतमाल से घिस कर चेसिस नंबर की नई प्लेट तैयार कर फिट कर देता था। बाद में यह कार्य भी राशिद, असलम और सुनील स्वयं करने लगे।
आरोपियों से पूछताछ के बाद समीर उर्फ वसीम, सुरेन्द्र अहिरवार तथा मोंटी उर्फ संदेश को भी उनके घर से गिरफ्तार कर लिया गया है।
सुधीर
वार्ता
More News
योगी करेंगे सिद्धार्थ विवि के दीक्षांत समारोह में शिरकत

योगी करेंगे सिद्धार्थ विवि के दीक्षांत समारोह में शिरकत

26 Sep 2018 | 1:57 PM

सिद्धार्थ नगर 26 सितंबर (वार्ता ) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 26 अक्तूबर को सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में भाग लेने यहाँ आयेंगे।

 Sharesee more..

हवालात से भागा आरोपी

26 Sep 2018 | 1:42 PM

 Sharesee more..
image