Tuesday, Jun 25 2019 | Time 09:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईरान समेत कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करेंगे ट्रम्प और पुतिन
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 26 जून)
  • मुजफ्फरनगर मुठभेड़ में सवा लाख का इनामी बदमाश ढेर
  • ईरान के खिलाफ आक्रमण के लिए कांग्रेस की मंजूरी की जरूरत नहीं: ट्रम्प
  • कराची में पुलिस ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया
  • अमेरिका की धमकी के आगे नहीं झुकेगा ईरान, नहीं करेगा वार्ता: रवांची
  • सुरक्षा परिषद की ब्रीफिंग में भाग लेने से रोक रहा है अमेरिका: ईरान
  • शाह और नड्डा सहित भाजपा के अन्य नेताओं ने दी सैनी को श्रद्धांजलि
  • अमेरिका ने ईरान पर लगाये नये प्रतिबंध
  • कजाकस्तान के सैन्य डिपो में विस्फोट,एक की मौत, 70 घायल
राज्य


वाहन चोर गिरोह के छह सदस्य गिरफ्तार, 60 दोपहिया वाहन बरामद

भोपाल, 08 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के भोपाल की अपराध शाखा पुलिस ने वाहन चोर गिरोह के छह सदस्यों को गिरफ्तार कर 60 दोपहिया वाहन बरामद किए हैं।
भोपाल के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) धर्मेंद्र चौधरी ने आज यहां मीडिया को बताया कि अब तक चोरों की निशानदेही पर राजधानी के आधा दर्जन से अधिक थाना क्षेत्रों से वाहन जब्त किए जा चुके हैं। इनकी अनुमानित कीमत 40 लाख रुपये आंकी गई है।
श्री चौधरी ने बताया कि अपराध शाखा पुलिस की टीम ने ताजुल मस्जिद, ताज मार्केट में काला दरवाजा के पास तीन संदिग्धों शाहजहांनाबाद निवासी सुनील धौलपुरिया, राशिद खान और असलम खान का पकड़ा था। ये जिन दोपहिया वाहनों में थे, वे चोरी के पाए गए। इस पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।
उन्होंने बताया कि तीनों आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में पिछले तीन वर्षो से दोपहिया वाहन चोरी कर फर्जी नंबर और फर्जी रजिस्ट्रेशन कार्ड तैयार कर गांव के ग्राहकों को बेचना स्वीकार किया।
श्री चौधरी ने बताया कि इस गिरोह का मास्टर माइंड राशिद खान है। राशिद ने वर्ष 2015 से गाड़ी चोरी की शुरुआत की थी। इसके बाद उसने अपनी टीम में असलम और सुनील को भी शामिल किया था। फर्जी नंबर और रजिस्ट्रेशन कार्ड तैयार करवाने के लिए इन लोगों ने अपने गिरोह में आरटीओ आॅफिस में एजेंट का काम करने वाले समीर उर्फ वसीम तथा मोंटी उर्फ संदेश को भी शामिल किया।
उन्होंने बताया कि ये लोग चोरी के वाहन बेच देते थे। अगर गाड़ी नहीं बिकती थी, तो उसे गिरवी रखकर पैसा ले लेते थे और आपस में बांट लेते थे। गिरवी रखे वाहन ये वापस लेने नहीं जाते थे।
श्री चौधरी के अनुसार इन लोगों ने सुरेन्द्र अहिरवार को भी अपने गिरोह में शामिल किया था। वह गाड़ियों के इंजन व चेसिस नंबरों को रेतमाल से घिस कर चेसिस नंबर की नई प्लेट तैयार कर फिट कर देता था। बाद में यह कार्य भी राशिद, असलम और सुनील स्वयं करने लगे।
आरोपियों से पूछताछ के बाद समीर उर्फ वसीम, सुरेन्द्र अहिरवार तथा मोंटी उर्फ संदेश को भी उनके घर से गिरफ्तार कर लिया गया है।
सुधीर
वार्ता
image