Wednesday, Sep 19 2018 | Time 18:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सफाईकर्मी की मौत ने खोली ‘स्वच्छ भारत’ की पोल : राहुल
  • सोया तेलों, गेहूँ में नरमी, चना, चना दाल मजबूत
  • नहीं बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम
  • नीर निर्मल योजना के तहत मुफ्त मिलेगा नल का कनेक्शन : सुशील
  • छोटे कारोबार के विकास के लिये सरकार प्रतिबद्ध: गिरिराज
  • पाकिस्तान रेंजर्स की अकारण फायरिंग में बीएसएफ जवान शहीद
  • रामबन सड़क हादसे में दो बीएसएफ जवान सहित तीन की मौत
  • उत्तरी निगम क्षेत्र में कूड़ा नहीं उठने से महामारी फैलने का खतरा: गोयल
  • रेप मामले में समझौत के बदले लिये गये दो लाख रूपये समेत तीन गिरफ्तार
  • मजीठिया आयोग की सिफारिशों को सरकार ने लागू नहीं किया
  • सेवानिवृत बिग्रेडियर ने मोदी सरकार पर सेना की उपेक्षा का लगाया आरोप
  • ऐतिहासिक निचले स्तर से उबरा रुपया
  • हिन्दी के प्रख्यात कवि विष्णु खरे नहीं रहे
  • प्रो कबड्डी को चुनौती देगी इंडो इंटरनेशनल प्रीमियर कबड्डी लीग
राज्य Share

लोकरुचि-मोहर्रम मिसाल तीन अंतिम जौनपुर

श्री रिजवी ने बताया कि आठवीं मोहर्रम को देश में मशहूर जंजीरों का मातम ऐतिहासिक अटाला मस्जिद पर होता है। इसमें जुलूस जुलजनाह व झूला अली असगर इमामबाड़ा नाजिम अली से निकल कर अटाला मस्जिद से हेाता हुआ राजा बाजार के इमामबाड़ा में समाप्त होता है, इसमें पूरे शहर की अंजुमने नौहा व मातम करती है। नौंवीं मोहर्रम की रात शहर व देहात में ताजिया इमाम चैक पर रखा जाता है, रात भर मजलिस व मातम होता है। इसे शब—ए आशूर कहा जाता है।
दस मोहर्रम को ताजियों को सदर इमामबाड़ा लाकर गमगीन माहौल में दफन किया जाता है , इस दिन लोग भूखे रहते हैं और सायंकाल सदर इमामबाड़े में मजलिसे शामे गरीबां होती है।
श्री रिजवी ने बताया कि मोहर्रम महीने में प्रतिदिन हर मुहल्ले में जुलजनाह अलम का जुलूस निकलता रहता है। मोहर्रम के जुलूस के बाद जौनपुर का प्रसिद्ध ऐतिहासिक अलम नौचन्दी व जुलूस-ए-अमारी इमामबाड़ा स्व. मीर बहादुर अली दालान पुरानी बाजार से निकलता है। इस वर्ष 11 अक्टूबर 2018 को अलम नौचन्दी व जुलूस-ए-अमारी है। इसमें देश और प्रदेश के कोने-कोने से लोग आते हैं और धर्म गुरू मौलान सैय्यद कल्वे जौव्वाद साहब मजलिस को सम्बोधित करते हैं।
शिराज-ए-हिन्द जौनपुर के मोहर्रम में सिर्फ शिया मुसलमान ही नहीं बल्कि हिन्दू भी मजलिस व मातम में शामिल होते है। फिदा हुसैन अंजुमन अहियापुर में डढ़े दर्जन से अधिक हिन्दू शामिल है जो हर वर्ष मोहर्रम में ताजिया रखते है और मातम भी करते है। इसके अलावा यहां पर कई शब्बेदारियां होती हैं। जहां 24 घंटे लगातार नौहाख्वानी और सीनाजनी का सिलसिला चलता है।
सं प्रदीप
चौरसिया
वार्ता
More News

मध्यप्रदेश के प्रमुख नगरों का तापमान

19 Sep 2018 | 6:30 PM

 Sharesee more..
उद्योग मंत्री से मिले भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी

उद्योग मंत्री से मिले भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी

19 Sep 2018 | 6:28 PM

भोपाल, 19 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल से मध्य कैरियर प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत मध्यप्रदेश के तीन दिवसीय प्रवास पर आए भारतीय विदेश सेवा के अधिकारियों ने सौजन्य भेंट की।

 Sharesee more..

बहन की ससुराल आए युवक ने लगाई फांसी

19 Sep 2018 | 6:25 PM

 Sharesee more..
image