Wednesday, Nov 14 2018 | Time 22:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सूखा पीड़ित किसानों को 50 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर दिया जाय: विखे पाटिल
  • वेबसीरीज ‘मिर्जापुर’ 16 नवंबर को एक साथ 200 देशों में रिलीज
  • रोजगार मेले के पहले दिन 720 युवाओं की मिला रोजगार
  • पंजाब रेडियो लंदन ने रेल हादसा पीड़ित 21 परिवारों को दी आर्थिक सहायता
  • बाजीराव कोंकणी रीति-रिवाज से हुए मस्तानी के
  • बाजीराव कोंकणी रीति-रिवाज से हुए मस्तानी के
  • बाजीराव कोंकणी रीति-रिवाज से हुए मस्तानी के
  • झारखंड के सर्वांगीण विकास में पुलिस की भूमिका महत्वपूर्ण : रघुवर
  • अर्बन हाट अमृतसर को पीपीपी के अंतर्गत विकसित किया जायेगा: तृप्त बाजवा
  • मथुरा एवं आगरा के प्राचीन कुण्डों को गंगा नदी के जल से भरने के निर्देश
  • मोदी की जिद से देश की अर्थव्यवस्था में संघर्ष: चव्हाण
  • दुल्हे बिन बारात लेकर चल रही कांग्रेस : राजनाथ
  • मथुरा को स्वच्छता के मामले में प्रथम स्थान दिलाने के लिए लोगों ने कमर कसी
  • सिलेंडर विस्फोट में छह छात्रा समेत आठ घायल
  • सरकारी विश्वविद्यालय अनुसूचित जाति के छात्रों से फीस न लें: पुका
राज्य Share

आईपीएफटी ने की त्रिपुरा सरकार के कार्यों की समीक्षा

अगरतला 09 सितंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और इसके गठबंधन दल इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के मध्य राज्य में प्रशासन और ग्रामीण क्षेत्रों में सत्ता के बंटवारे के मुद्दे पर लगातार मतभेद बढ़ने के बीच पार्टी की केंद्रीय कार्यकारी समिति ने शनिवार शाम एक बैठक में सरकार के प्रदर्शन और राज्य में मौजूदा राजनीतिक स्थिति की समीक्षा की।
पार्टी के अध्यक्ष ए‌वं राजस्व मंत्री एनसी देववर्मा ने बताया कि यह उनकी पार्टी की नियमित बैठक थी लेकिन उन्होंने संकेत दिया कि बैठक में राज्य की स्थिति, सरकार की आदिवासी विकास की गतिविधियों और 3300 से अधिक सीटों पर होने वाले निकाय चुनावों पर चर्चा हुई।
आईपीएफटी के सूत्रों ने बताया कि बैठक में नेताओं ने पार्टी के नेताओं के साथ प्रशासनिक शक्तियों के बंटवारे काे लेकर सरकार से अप्रसन्नता जाहिर की है। पिछले विधानसभा चुनावों में आईपीएफटी 11 सीटों पर चुनाव लड़ी थी जिनमें से उसने नौ सीटें जीती।
पार्टी के आंतरिक सूत्रों ने यह भी कहा कि बैठक में सामाजिक-आर्थिक, सांस्कृतिक मामलों, भाषाई और शैक्षिक मुद्दों का अध्ययन करने के लिए उच्च स्तरीय समिति के गठन में केंद्र सरकार की देरी पर प्रकाश डाला गया। बैठक में निकाय उपचुनाव में आईपीएफटी की रणनीति के बारे में चर्चा की गई। पार्टी यह चुनाव अलग से लड़ने की पहले ही घोषणा कर चुकी है। बैठक में, केंद्रीय समिति ने अकेले उप-चुनाव लड़ने के पार्टी के निर्णय को सही बताया।
नेताओं ने कहा, “हमने चर्चा की है कि सरकार ने पिछले पांच महीनों के दौरान क्या किया है और आने वाले दिनों में क्या करने की जरूरत है।” बैठक में आईपीएफटी के शीर्ष पदाधिकारियों के अलावा पार्टी के नौ प्रमुख संगठनों के प्रमुख भी मौजूद रहे।
रमेश, यामिनी
वार्ता
More News
कांग्रेस नेता अपने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल

कांग्रेस नेता अपने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल

14 Nov 2018 | 10:38 PM

सीहोर, 14 नवंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के सीहोर जिले के एक कांग्रेस नेता कमलेश कटारे आज कांग्रेस छोडकर अपने समर्थकों के साथ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए।

 Sharesee more..

लूट की योजना बनाते आठ बदमाश गिरफ्तार

14 Nov 2018 | 10:34 PM

 Sharesee more..
मोदी की जिद से देश की अर्थव्यवस्था में संघर्ष: चव्हाण

मोदी की जिद से देश की अर्थव्यवस्था में संघर्ष: चव्हाण

14 Nov 2018 | 10:25 PM

कोल्हापुर 14 नवंबर (वार्ता) महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जिद से भारतीय अर्थव्यवस्था में संघर्ष पैदा हो गया है।

 Sharesee more..
image