Tuesday, Apr 23 2019 | Time 23:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वाटसन के करंट से चेन्नई प्लेऑफ में
  • उमेश जाधव पर हमला करने वाली भीड़ पर लाठीचार्ज
  • एक ही परिवार के चार लोगों सहित छह नदी में डूबे
  • अनंतनाग में 62 फीसदी कश्मीरी पंडितों ने डाले वोट
  • गुजरात में 63 67 प्रतिशत से अधिक मतदान , मोदी, आडवाणी, शाह, जेटली ने भी की वोटिंग
  • अतीक अहमद के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश
  • पांडेय और वार्नर के अर्धशतक, हैदराबाद के 175
  • पांडेय और वार्नर के अर्धशतक, हैदराबाद के 175
  • भाजपा-एनडीए के पक्ष में प्रचंड लहर, फिर बनेगी मोदी सरकार: शाह
  • उप्र में छठे चरण के लिए नामांकन के अतिम दिन 141 पर्चे भरे, कुल नामांकन 332
  • मोदी ने आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया: आयोग
  • यमन में सेना, हाउतियों के बीच झड़प में कई मारे गये
  • बिहार में 60 फीसदी हुआ मतदान, शरद-पप्पू समेत 82 का भाग्य ईवीएम में बंद
  • हरियाणा में अंतिम दिन 163 नामांकन दाखिल, कुल नामांकन संख्या 305 हुई
  • युगांडा में भारी बारिश से 18 लोगों की मौत, 100 घायल
राज्य


जमीन कुर्की का भाकियू करेगी विरोध

जींद, 09 सितंबर (वार्ता) हरियाणा के जींद जिले के उचाना खुर्द गांव में 10 सितंबर को दी कॉ-आॅपरेटिव बैंक की ओर से की जाने वाले किसान की जमीन की कुर्की का भारतीय किसान यूनियन(भाकियू) विरोध करेगी।
भाकियू उचाना ब्लॉक प्रधान सुरेंद्र श्योकंद ने बताया कि बैंक ने उचाना खुर्द के किसान रामकरण की जमीन की नीलामी के लिए बैंक ने नोटिस जारी किया है। किसान की जमीन को किसी सूरत में नीलाम नहीं होने दिया जाएगा। भाकियू किसानों के साथ वहां पहुंचेंगी जहां जमीन की नीलामी की प्रक्रिया बैंक कर्मचारी करेंगे। सरकार किसानों को राहत देने की बजाय किसानों की जमीन को कुर्क करके उनको बेईज्जत करने का काम कर रही है। कभी बैंकों में किसानों की फोटो लगाते है तो कभी जमीन को कुर्क करने के लिए नोटिस भेजते है। बड़े-बड़े उद्योगपति जो बैंकों से कई हजार करोड़ों रुपये का कर्ज लेकर विदेश भाग चुके है उनका तो कुछ नहीं करती जबकि किसानों को बार-बार नोटिस भेज तंग बैंक करता है। उद्योगपतियों के कर्ज माफ सरकार कर देती है लेकिन किसानों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जाता।
सं विजय महेश
वार्ता
More News
कारवां-ए-अमन बस सेवा आठवें सप्ताह स्थगित रही

कारवां-ए-अमन बस सेवा आठवें सप्ताह स्थगित रही

23 Apr 2019 | 10:43 PM

श्रीनगर, 23 अप्रैल (वार्ता) जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद के बीच चलने वाली बस कारवां-ए-अमन लगातार आठवें सप्ताह नहीं चली। दोनों ओर फंसे हुए यात्रियों को उरी के कामन पोस्ट पर नियंत्रण रेखा के इस ओर अंतिम भारतीय सैन्य चौकी को पार करने की अनुमति देने का निर्णय लिया गया है

see more..
image