Sunday, Nov 18 2018 | Time 15:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • स्वतन्त्रता सेनानियों की मदद के लिए मोदी को लिखा भाकपा ने पत्र
  • तमिलनाडु में ‘गाजा’ से मरने वालों की संख्या 45 हुयी
  • एसजीपीसी के कार्यक्रम में शामिल होंगे बदनौर
  • लघु बचत एजेंटाें की समस्याओं को अमरिंदर के समक्ष रखा जाएगा: सोनी
  • नक्सल समस्या को खत्म करना भाजपा सरकार के बूते में नही – शेरगिल
  • इराक में हवाई हमले में दस आतंकवादियों की मौत
  • नक्सल समस्या को खत्म करना भाजपा सरकार के बूते में नही – शेरगिल
  • जयपुर के रामगंज में झगड़े से तनाव
  • पंजाब-बम हमला-वेरका
  • निरंकारी समारोह पर बम हमले में तीन लाेगों की मौत, दस घायल
  • कांग्रेस राजस्थान सूची दो अंतिम नयी दिल्ली
  • कैलिफोर्निया में आग से मरने वालों की संख्या 76 हुई
  • उत्तराखंड निकाय चुनाव में दोपहर तक धीमी गति से मतदान
  • राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी की अंतिम सूची
  • राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी की अंतिम सूची
राज्य Share

पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की जरूरत : बीआईए

पटना 09 सितंबर (वार्ता) उद्योग संगठन बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (बीआईए) ने पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमत का अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर चिंता व्यक्त करते हुये आज कहा कि एेसी स्थिति में पेट्रोलियम पदार्थ के दाम के लिए नीतिगत निर्णय लेने के साथ ही इन्हें वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाये जाने की जरूरत है।
बीआईए के अध्यक्ष के. पी. एस. केशरी ने यहां सरकार से अपील करते हुये कहा कि कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में हो रही लगातार वृद्धि को कैसे कम किया जाय या रोका जाय इसपर एक नीतिगत निर्णय लेने की आवश्यकता है। साथ ही पेट्रोलियम पदार्थ को जीएसटी के दायरे में भी लाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जब तक पेट्रोल एवं डीजल को जीएसटी के दायरे में नहीं लाया जाता है तब तक के लिए राज्य सरकार अपने स्तर से इसपर लगने वाले कर में कमी कर कुछ सहूलियत प्रदान कर सकती है।
श्री केशरी ने कहा कि पेट्रोल एवं डीजल आज के समय में एक सामान्य आवश्यकता की वस्तु हो गयी है। इन वस्तुओं के कीमत में किसी तरह की बढ़ोतरी का आम जनजीवन के साथ ही देश की अर्थव्यवस्था पर भी दूरगामी प्रभाव डालता है। उन्होंने कहा कि सामान्य आवश्यकता की वस्तु होने के बाद भी इसे जीएसटी के दायरे में नहीं लाया गया है, जिसके कारण इस पर लगने वाले कर के लिए राज्य सरकार स्वतंत्र है। इसका परिणाम है कि देश के अलग-अलग हिस्सों में पेट्रोल एवं डीजल के अलग-अलग दाम देखने को मिल रहे हैं।
बीआईए अध्यक्ष ने कहा कि बिहार के परिपेक्ष्य में जहां आम जनता एवं उद्योग जगत उत्तर एवं दक्षिण बिहार के बीच सम्पर्क सेतु की कमी एवं दयनिय स्थिति के कारण पिछले चार वर्षों से अधिक समय से परेशान है, अब पेट्रोल एवं डीजल के कीमत में लगातार हो रही बढ़ोत्तरी ने इस परेशानी को और ज्यादा बढ़ा दिया है।
सूरज उमेश
वार्ता
image