Wednesday, Sep 26 2018 | Time 08:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिनलैंड में परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाने के लिए शीघ्र मिलेगा लाइसेंस
  • चुनाव कराना राष्ट्रीय हित में नहीं: थेरेसा मे
  • तेलंगाना में रिश्वत लेने के मामले अधिकारी समेत दो गिरफ्तार
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • जम्मू निकाय चुनाव के लिए 815 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
  • पश्चिमी पाकिस्तान का शरणार्थी एक प्रतिनिधि मंडल जितेंद्र सिंह से मिला
राज्य Share

पुलिस प्रताड़ना के खिलाफ जीजेएम का प्रदर्शन

दार्जिलिंग/ नयी दिल्ली 09 सितंबर (वार्ता) पिछले एक साल से शांत रहने के बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के कार्यकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल सरकार और पुलिस प्रताड़ना के खिलाफ रविवार को दिल्ली में प्रदर्शन किया।
प्रदर्शनकारी ‘दार्जिलिंग में लोकतंत्र बचाओ, दार्जिलिंग, कालिम्पोंग, तेराई और डूअर्स में पुलिस प्रताड़ना बंद करो’ जैसे नारे लगा रहे थे। मोर्चा के नेताओं ने ‘लोकतांत्रिक तरीके से गोरखालैंड की मांग को लेकर उठने वाली आवाजों को क्रूर तरीके से दबाने’ का आरोप लगाया।
प्रदर्शनकारियों ने कहा कि संवैधानिक अधिकारों का इस्तेमाल कर के गोरखालैंड राज्य के लिए आवाज उठाने वाले लोगों के खिलाफ पश्चिम बंगाल पुलिस बड़े पैमाने पर क्रूरता कर रही है और उन्हें प्रताड़ित और यातना देने के लिए ‘क्रूर’ बलों का उपयोग किया जा रह है।
प्रदर्शनकारियों ने कहा, “दार्जिलिंग, तेराई और डूअर्स में शांति नहीं है। निर्दोष लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है और गोरखालैंड की मांग करने वाले लोगों के घरों को जलाया जा रहा है। पुलिस उन लोगों के परिवार के सदस्यों को परेशान कर रही है, जिन्हें वह मौजूदा गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन (जीटीए) बोर्ड और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सरकार के खिलाफ मानती हैं। यहां तक कि मौजूदा शासन के खिलाफ सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले लोगों भी गिरफ्तार किया जा रहा है। हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में तानाशाही की स्थिति में रह रहे हैं और हम अपने देशवासियों का ध्यान इस मूल तथ्य पर आकर्षित करना चाहते हैं।”
प्रदर्शनकारी दार्जिलिंग, तेराई और डूअर्स क्षेत्र में भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं होने की बात को दर्शाने के लिए काले मुखौटों से अपने मुंह ढंके हुए थे।
संतोष.संजय
वार्ता
More News
निजी स्कूल वाहनों में लगे जीपीएस व सीसीटीवी कैमरे: उच्च न्यायालय

निजी स्कूल वाहनों में लगे जीपीएस व सीसीटीवी कैमरे: उच्च न्यायालय

25 Sep 2018 | 11:52 PM

नैनीताल 25 सितम्बर (वार्ता) उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने हल्द्वानी के काठगोदाम में स्कूल वैन में एक मासूम के साथ हुए यौन उत्पीड़न के मामले को गंभीरता से लेते हुए मासूमों की सुरक्षा के लिये कुछ महत्वपूर्ण निर्देश जारी किये हैं।

 Sharesee more..
कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है : उप राष्‍ट्रपति

कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है : उप राष्‍ट्रपति

25 Sep 2018 | 11:33 PM

तिरूपति, 25 सितंबर (वार्ता) उप राष्‍ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने कहा है कि कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है अौर हमें इसे समर्थन कर किसानों के लिए उपयोगी बनाना है।

 Sharesee more..
image