Wednesday, Feb 20 2019 | Time 15:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रक्षा उपकरण निर्माताओं के लिए भारत में अपार अवसर: सीतारमण
  • ऊँचे किराये से विमानन क्षेत्र में सुस्ती, 52 महीने बाद वृद्धि दर 10 फीसदी से कम
  • बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या मामले में दोषी को मृत्युदंड
  • कोविंद, मोदी, राहुल, केजरीवाल ने नामवर सिंह के निधन पर जताया शोक
  • आतंकवाद पर भारत, सऊदी अरब ने पाकिस्तान को घेरा
  • जीएसटीआर 3बी भरने की अंतिम तिथि दो दिन बढ़ी
  • राज्यों के विरोध के कारण जीएसटी परिषद की बैठक अब 24 फरवरी को
  • सोना 210 रुपये सस्ता; चाँदी 450 रुपये चमकी
  • खोसा का झूठी गवाही देने वालों को उम्र कैद के संकेत
  • एरिक्सन मामला: अनिल अम्बानी अवमानना के दोषी
  • राजनाथ से मिले अमेरिका, पाकिस्तान में भारतीय मिशन प्रमुख
  • त्रिपुरा में मोटर चालित पैडल रिक्शा पर लगा प्रतिबंध
  • खनन में स्वच्छ प्रौद्योगिकी विकसित करने की जरूरत : कोविंद
  • पुलवामा मुठभेड़ में घायल जवान की मौत
राज्य Share

कड़ी सुरक्षा में सुनील एवं चंदन को सिफ्ट किया लखनऊ व कानपुर जेल

कड़ी सुरक्षा में सुनील एवं चंदन को सिफ्ट किया लखनऊ व कानपुर जेल

गोरखपुर, 09 सितम्बर (वार्ता)कड़ी सुरक्षा में गोरखपुर जेल से हिन्दु युवा वाहिनी .भारत. के अध्यक्ष सुनील सिंह को लखनऊ और उनके सहयोगी चंदन विश्वकर्मा को कानपुर जेल में सिफ्ट किया गया है।

पुलिस सूत्रों ने रविवार को यहां कि इन दोनों को गोरखपुर जिला जेल से गत रात ही लखनऊ एवं कानपुर के लिए रवाना कर दिया गया था।

हिन्दू युवा वाहिनी .हियुवा. भारत के संयोजक चंदन विश्वकर्मा को हिन्दू युवा वाहिनी के एक कार्यकर्ता को धमकी देने के आरोप में पिछले 31 जुलाई को गिरफतार किया गया था। इसकी जानकारी होने पर हियुवा भारत के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह कुछ सहयोगियों के साथ चंदन को छुडाने राजघाट थाने पहुंच गये। आरोप है कि इस दौरान उन्होंने जमकर हंगामा किया और इसी मामले में पुलिस ने सुनील सिंह सहित दस सहयोगियों को गिरफतार कर लिया था।

इसके कुछ दिन बाद इसी थाना क्षेत्र में एक कार बरामद हुयी थी जिसपर सुनील सिंह के नाम का स्टीकर लगा हुआ था। इस दौरान पुलिस ने दावा किया था कि कार में पेट्रोल बम बरामद हुआ है। इस मामले में भी सुनील के खिलाफ अभियोग पंजीकृत कर लिया गया और इन मुकदमों को आधार बनाकर सुनील सिंह और चंदन के विरूध्द रासुका की कार्रवायी भी हुयी है। यह दोनो गोरखपुर जिला जेल में थे।

गौरतलब है कि जेल में सुनील सिंह और चंदन से मिलने काफी लोग आते रहते थे, लेकिन गोरखपुर संसदीय सीट के सांसद प्रवीण निषाद के तीन दिन पूर्व उनसे मिलने जाने के बाद राजनीति गर्मा गई थी। दोनो से मुलाकातियों की आवाजाही को लेकर जेल प्रशासन की रिपोर्ट पर शासन ने दोनों को दूसरी जेल भेजने के निर्देश दिये थे।

image