Thursday, Jun 27 2019 | Time 07:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में विस्फोट से छह लोगों की मौत
  • मेडागास्कर के स्टेडियम में भगदड़ से 15 लोगों की मौत 75घायल
  • महिला की पीट-पीटकर हत्या
  • नाइजीरियाई सेना ने 21 आतंकवादियों काे मार गिराया
राज्य


श्री कुमार ने बिहार को देश का सभ्यता द्वार बताया और कहा कि यहां अनेक ऐतिहासिक निर्माण कार्य किये गये हैं जिनमें बिहार संग्रहालय, सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र परिसर में ज्ञान भवन, बापू सभागार एवं सभ्यता द्वार के अलावा अन्य कई भवनों का निर्माण शामिल है। बोधगया में बहुत बड़ा कन्वेंशन सेंटर बनाने जा रहे हैं। वैशाली में भगवान बुद्ध का अस्थि कलश मिला है, वहां भी बहुत बड़ा केंद्र बनेगा। इस प्रकार पूरे बिहार में जो भी ऐतिहासिक स्थल है, उसे विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से पटना साहिब में देश-दुनिया से सिख श्रद्धालु प्रकाश पर्व में एकत्रित हुए और सभी ने प्रेम, भाईचारा, सद्भाव, आपसी एकता के साथ उनकी सेवा की, उस भाव को मन में सदैव बनाये रखा जाना चाहिए। इससे बिहार बहुत आगे जाएगा और हम राज्य के उस वैभवशाली और गौरवशाली अतीत को प्राप्त करने में कामयाब होंगे। यही दशमेश पिता गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज के प्रति सच्ची श्रद्धा होगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि 350वां प्रकाश पर्व जब मनाया जा रहा था, तब 05 जनवरी 2017 को एक विशेष समागम का आयोजन किया गया था, जिसमें बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र एवं उद्यान योजना के निर्माण के संबंध में जानकारी दी गयी थी। उन्होंने कहा कि 350वें प्रकाश पर्व एवं उसके बाद हुए शुकराना समारोह में सभी की सक्रिय भूमिका रही। उन्हाेंने कहा कि इस दौरान पूरे देश और देश के बाहर से आये सिख श्रद्धालुओं के प्रति जो लोगों की सेवा भावना देखी गयी, वह काफी प्रशंसनीय है।
श्री कुमार ने कहा कि 350वें प्रकाश पर्व का आयोजन बिहार के लिए गौरव का विषय है और यह हमारा धर्म था कि इसका आयोजन ठीक ढंग से हो सके। उन्होंने कहा कि बिहार का इतिहास केवल किसी भू-भाग मात्र का नहीं बल्कि यह पूरे देश, पूरी मानव जाति और सभ्यता का इतिहास है। यह एक अद्भुत स्थल है, यह ज्ञान की भूमि है, यह भू-भाग शासन का केंद्र रहा है। कई धर्म-गुरुओं की उत्पत्ति इसी बिहार में हुई है। उन्होंने कहा कि दशमेश पिता सर्वंशदानी गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज की यह जन्मभूमि है, यह कोई मामूली बात नहीं है। दुनिया भर में रहने वाले सिख समाज के लोग पटना साहिब का स्मरण करते हैं, यह हमारे लिए खुशी की बात है।
सूरज उमेश
जारी (वार्ता)
More News
पंचतत्व में विलीन हुए स्वामी सत्यमित्रानंद

पंचतत्व में विलीन हुए स्वामी सत्यमित्रानंद

26 Jun 2019 | 11:56 PM

हरिद्वार, 26 जून (वार्ता) पद्मभूषण स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि बुधवार को पंचतत्व में विलीन हो गये। उनके पार्थिक शरीर को आज हरिद्वार में उनके निवास स्थान राघव कुटीर में भू समाधि दी गयी।

see more..
image