Tuesday, Sep 18 2018 | Time 21:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पटना में राष्ट्रीय सैंबो प्रतियोगिता कल से
  • राजनाथ ने केंद्रीय एजेंसियाें के दुरुपयोग के आरोपों को नकारा
  • नाबालिग के साथ बलात्कार के दोषी के मृत्युदंड पर अंतरिम रोक
  • ट्रेन की चपेट में आने से बच्ची की मौत
  • भारत बंगलादेश ने किया दो परियोजनाओं का शिलान्यास
  • 2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर
  • एनबीई दीक्षांत समारोह में शरीक होंगे नायडू
  • भारत-जर्मनी ने किया कौशल विकास में सहयोग का करार
  • शिखर के विस्फोटक शतक से भारत के 285
  • शिखर के विस्फोटक शतक से भारत के 285
  • एनएसयूआई के प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यू पूनिया हमले में घायल
  • शिखर के विस्फोटक शतक से भारत के 285
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • संविधान सर्वोच्च, ‘हिन्दू राष्ट्र’ में मुसलमानों की भी जगह : भागवत
राज्य Share

उत्तर प्रदेश वृद्धाश्रम निरीक्षण दो अंतिम शामली

वृद्धों ने उपाध्यक्ष को बताया कि उन्हें सुबह केवल एक चाय तथा दो रुपये मूल्य का बिस्कुट का पैकेट दिया जाता
है, और दाल, सब्जी रोटी तक भी नहीं दी जाती। दूध और फल भी कभी मिलता ही नहीं। आश्रम में वृद्धों को किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं मिल रही है जबकि यहां तैनात कर्मचारियों को मोटा वेतन मिलता है। अगर कोई
वृद्ध बीमार हो जाता है तो उसे चिकित्सा सुविधा भी नहीं दी जाती जिसके कारण वे खुद ही किसी प्रकार अपना उपचार कराते हैं। आश्रम में वृद्धों की कोई सुनवाई भी नही की जाती, इससे अच्छा तो वे बाहर रहकर भीख मांगकर अपना
जीवन गुजार लें। वृद्धों का कहना था कि सरकार वृद्धों के लिए वृद्धाश्रम तो बनवाती है लेकिन वहां हो रही वृद्धों की उपेक्षा का पता नहीं चल पाता।
उन्होंने कहा कि आश्रम के कर्मचारी वृद्धों की बातों को सुनकर भी अनुसना करते हैं जिसके कारण उनका यहां रहना मुश्किल हो रहा है। इस दौरान कई वृद्ध महिलाओं की आखों में आंसू तक बह निकले। वृद्धों की पीडा सुनकर महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने संचालिका व स्टाफ को कडी फटकार लगाते हुए आदर्श मंडी पुलिस को उन्हें हिरासत में लेने के निर्देश दिए।
उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने बताया कि उन्हें पता नहीं था कि शामली स्थित वृद्धाश्रम में इतनी खामियां हैं। रविवार को आश्रम में आने के बाद ही उन्हें वृद्धों की पीडा का अहसास हुआ। रजिस्टरों की जांच करने पर पता चला कि जितने लोगों का डाटा रजिस्टर में दर्ज किया गया है,उतने लोग तो आश्रम में है ही नहीं। वे जिले के वृद्धाश्रमों का निरीक्षण
करने आयी हैं। पूछताछ में वृद्धों ने खाना न मिलना, बीमार होने पर उपचार की सुविधा न मिलने सहित जैसे कई गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने अधिकारियों को जांच के निर्देश दिए हैं।
सं तेज
वार्ता
More News
2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर

2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर

18 Sep 2018 | 9:18 PM

रांची 18 सितंबर (वार्ता) झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने स्वच्छ राज्य के निर्माण के लिए नीति एवं रणनीति बेहतर बनाये जाने की आवश्यकता पर बल देते हुये आज कहा कि आपसी समन्वय से काम कर ही वर्ष 2019 के सर्वेक्षण में रांची देश का सबसे स्वच्छ शहर बनेगा।

 Sharesee more..
image