Tuesday, Sep 18 2018 | Time 19:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बलात्कार की घटनाओं पर मोदी की चुप्पी अस्वीकार्य : राहुल
  • राष्ट्र को जोडती है हिन्दी : सेमसन मसीह
  • खून से लथ-पथ पिता-पुत्र की मौत, दूसरा पुत्र घायल
  • भाजपा 2019 चुनाव जीत कर देश में पचास वर्ष तक करेगी अजेय शासन-शाह
  • सचिन बने आईडीबीआई फेडरल लाइफ के ब्रांड एंबेसडर
  • सिद्धू बताएं कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के आगे सिर झुकाने की सच्चाई: शिअद
  • कांग्रेस सत्ता में आई तो आंध्र काे विशेष राज्य का दर्जा: राहुल
  • पटना जिले में लक्ष्य से 63 प्रतिशत कम हुआ वृक्षारोपण
  • डकैती के लिए की व्यक्ति की हत्या
  • बच्ची से दुष्कर्म के प्रयास के दोषी बुजुर्ग को पांच साल की कैद
  • दूरसंचार से बाहर होकर रिएल एस्टेट पर फोकस करेगी आरकॉम:अनिल अंबानी
  • विस्तारा का एक दिन का फ्लैश सेल, किराया 999 रुपये से शुरू
  • फसल बीमा दावे के देर से भुगतान पर लगेगा जुर्माना
  • ओबीसी के ज्यादा से ज्यादा प्रतिनिधियों को चुनाव जिताना है लक्ष्य: अंसारी
  • हरियाणा में कांग्रेस को राजनीतिक गठबंधन की जरूरत नहीं: सैलजा
राज्य Share

हरियाणा में बंद का मिला जुला असर

हिसार, 10 सितबर (वार्ता) देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी के खिलाफ कांग्रेस पार्टी, वामपंथी दलों समेत विपक्षी दलों के बंद का हरियाणा में मिला जुला असर रहा जबकि हिसार, फतेहाबाद और हांसी में कोई असर दिखाई नहीं दिया ।
इन शहरों में बाजार और सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान पूर्ण रूप से खुले रहे। हिसार में कांग्रेस के कुछ गिने चुने नेताओं व कार्यकर्ताओं ने बाजारों में पहुंचकर दुकानदारों से हाथ जोड़कर दुकानें बंद करने का अनुरोध किया जिसका दुकानदारों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा और दुकानें खुली रही। जिला हिसार के शहर बरवाला में केवल आधे घंटे के लिए 10 प्रतिशत दुकानें ही बंद रही।
हांसी में भी कुछ गिने चुने कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आटो मार्केट में जमा होकर प्रदर्शन किया गया, लेकिन यहां भी सभी दुकानें और बाजार खुले रहे। फतेहाबाद में भी जहां बाजार और दुकानें खुले रहे, वहीं कांग्रेस की गुटबाजी एक बार फिर खुलकर सामने आ गई। फतेहाबाद जिले के कस्बा भट्टू में बंद का अच्छा खासा असर जरूर देखने को मिला।
कांग्रेसियों के आने पर दुकानदार दुकानों के शटर गिरा लेते, लेकिन उनके चंद कदम आगे जाते ही दुकानें फिर खुल जाती। कांग्रेस के इस देशव्यापी बंद में भी नेताओं की गुटबाजी सरेआम नजर आई। फतेहाबाद में प्रदर्शन के दौरान दुड़ाराम, प्रहलाद सिंह गुट ने दूरी बनाए रखी तो टोहाना में हुड्डा गुट का कोई बड़ा नेता इस आन्दोलन में नजर नहीं आया। वहीं रतिया में भी केवल प्रदेश कांग्रेसध्यक्ष अशोक तंवर समर्थक ही बंद करवाते नजर आए और पूर्व विधायक जरनैल सिंह ने इस बंद से दूरी बनाए रखी। टोहाना में कांग्रेस व वामपंथी नेताओं की बंद की अपील का असर भी केवल एक घंटे तक ही रहा और उसके बाद सभी दुकानें खुल गई।
फतेहाबाद जिले के भट्टू मंडी में पहली बार कांग्रेस की एकजुटता तथा भाकपा के जोश के आगे बंद का यहां पूरा असर रहा। सुबह ही कांग्रेस के तीनों गुटों के कार्यकर्ता आपसी गुटबाजी को छोड़कर एक मंच पर आ गए। मार्केट कमेटी के सामने पहले माकपा तथा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने धरना देकर बढ़ती महंगाई सहित अनेक मुद्दों को लोगों के सामने रखा। कांग्रेस के अनेक नेताओं ने दुकान- दुकान जाकर बंद का आह्वान किया। दुकानदारों ने भी इस बंद में अपना समर्थन देते हुए दुकानों के शटर डाउन कर दिए।
सं शर्मा विक्रम
वार्ता
More News

राष्ट्र को जोडती है हिन्दी : सेमसन मसीह

18 Sep 2018 | 7:30 PM

 Sharesee more..

फोर्स को बदनाम करने रची गई थी साजिश: एसपी

18 Sep 2018 | 7:30 PM

 Sharesee more..

कांग्रेस सत्ता में आई तो आंध्र काे विशेष राज्य का दर्जा: राहुल

18 Sep 2018 | 7:29 PM

कुरनूल 18 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस सत्ता में आई तो आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा (एससीएस) दिया जायेगा।

 Sharesee more..
image