Monday, Feb 18 2019 | Time 03:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ‘नयी सुविधाओं’ से जवानों के काफिले को सुरक्षित बनाया जाएगा: भटनागर
  • फ्रांस में सरकार विरोधी प्रदर्शन के तीन महीने पूरे
  • लीबिया में खुफिया विभाग के पूर्व प्रमुख डोरडा हुआ रिहा
  • केरल में युवक कांग्रेस के दो कार्यकर्ताओं की हत्या
  • गृह मंत्रालय ने जम्मू-श्रीनगर क्षेत्र में सीआरपीएफ जवानों के लिए हवाई सुविधा मामले में स्पष्टीकरण दिया
राज्य Share

गोटमार मेले में पत्थर लगने से युवक की मौत

छिंदवाड़ा, 10 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्णा तहसील मुख्यालय के प्रसिद्ध गोटमार मेले में शामिल एक युवक की आज पेट में पत्थर लगने से मृत्यु हो गई।
पुलिस के अनुसार युवक की पहचान पांढुर्णा के ग्राम भुजारी निवासी 25 वर्षीय शंकर भलावी के रूप में हुई है। गोटमार मेले के दौरान वर्ष 2011 के बाद यह पहली मौत है।
पांढुर्णा के निवासी बाबूराव कंलबे और मनोज रेवतकर पत्थरों से गंभीर रूप से घायल हुए हैं। उन्हें उपचार के लिए नागपुर रैफर किया गया है। आपसी पत्थरबाजी में पांढुर्णा व सांवरगांव पक्ष के कुल 227 लोग घायल हो गए हैं, जिनका उपचार चिकित्सा शिविरों में किया जा रहा है।
गोटमार मेले का समापन आज शाम 6़ 15 बजे पुलिस के हस्तक्षेप के बाद हुआ।
पांढुर्णा गोटमार मेले का इतिहास वर्षों पुराना है। मान्यता है कि पांढुर्णा के युवक का पड़ोसी गांव सांवरगांव की युवती से प्रेम था। युवती को उसके गांव से भगाकर लाने के दौरान पांढुर्णा के पास बहने वाली जाम नदी को पार करते समय दोनों ओर के ग्रामीणों ने एक-दूसरे पर पत्थरबाजी की थी। उसी की याद में पांढुर्णा व सांवरगांव के लोग एक-दूसरे पर पत्थरबाजी करते हैं।
गोटमार मेला हर साल पोला के दूसरे दिन अर्थात सोमवार को शुरू होता है। नदी के बीचोबीच झंडा लगाया जाता है। इस झंडे को पांढुर्णा का पक्ष जब तक तोड़ नहीं लेता, तब तक पत्थरबाजी चलती रहती है। सूर्यास्त के समय तक झंडा न टूटने पर पुलिस समझौता करवाकर मेले का समापन करवाती है।
गोटमार मेले में हर साल सैकड़ों लोग घायल होते हैं, लेकिन आस्था के नाम पर यह परंपरा अाज तक जारी है।
सं सुधीर
वार्ता
More News

उत्तर प्रदेश आईपीएस तबादले दो अंतिम लखनऊ

17 Feb 2019 | 11:31 PM

 Sharesee more..
भाजपा नागरिकता संशोधन विधेयक लाने के लिए प्रतिबद्ध: अमित शाह

भाजपा नागरिकता संशोधन विधेयक लाने के लिए प्रतिबद्ध: अमित शाह

17 Feb 2019 | 11:21 PM

गुवाहाटी, 17 फरवरी (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को यहां इस बात पर जोर देकर कहा कि अगर केन्द्र में उनकी पार्टी फिर से सत्ता में आई तो एक बार फिर से नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) लाया जाएगा।

 Sharesee more..
image