Friday, Jul 19 2019 | Time 17:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सेंसेक्स 560 अंक लुढ़ककर दो महीने के निचले स्तर पर
  • बुंदेलखंड में पलायन की सबसे बडी वजह जल संकट
  • खाद्य तेलों में टिकाव, गेहूँ गरम, मूूंग चढ़ा
  • अंंबानी- अडानी का इतना कसूर कि वे गुजराती हैं- रूपाला
  • इंग्लैंड के स्टोक्स चुने गये ‘न्यूजीलैंडर ऑफ द ईयर’
  • डॉबर का मुनाफा 10 फीसदी बढ़ा
  • पर्ल एकेडमी का शत प्रतिशत प्लेसमेंट का वादा
  • सेंसेक्स 560 अंक लुढ़ककर दो महीने के निचले स्तर पर
  • कार-टैंकर भिडंत में चार मरे, आठ घायल
  • रुपया 17 पैसे चढ़ा
  • कर्नाटक संकट फिर पहुंचा शीर्ष अदालत की चौखट पर
  • भाजपा सरकार अपराध रोकने में नाकाम : प्रियंका
राज्य


बिटक्वाइन केस- पूर्व विधायक कोटडिया की सात दिन की रिमांड मंजूर

अहमदाबाद, 10 सितंबर (वार्ता) गुजरात के अहमदाबाद की एक विशेष अदालत ने आज सनसनीखेज बिटक्वाइन अपहरण और लूट मामले में लगभग तीन माह की फरारी के बाद महाराष्ट्र से गिरफ्तार किये गये पूर्व भाजपा विधायक नलिन कोटडिया को आज आगे की पूछताछ के लिए मामले की जांच कर रही सीआईडी-क्राइम को सात दिन की हिरासत (रिमांड) पर सौंप दिया।
जांच अधिकारी अजीज सैय्यद ने आज यूनीवार्ता को बताया कि कल महाराष्ट्र के जलगांव जिले के अमलनेर से पकड़े गये श्री कोटडिया को आज यहां एक विशेष अदालत में पेश किया गया जिसने 17 सितंबर तक उनके रिमांड को मंजूर कर लिया।
सूरत के बिल्डर शैलेश भट्ट को गत फरवरी माह में कथित तौर पर अमरेली पुलिस की मदद से अगवा कर उनके पास से बिटक्वाइन हड़पने से जुड़े इस मामले में गत 18 जून को यहां की एक विशेष अदालत ने श्री कोटडिया को भगोड़ा घोषित किया था। वह कई बार समन और वारंट जारी होने के बावजूद पुलिस के समक्ष पेश नहीं हुए थे। इस प्रकरण में अमरेली के तत्कालीन एसपी जगदीश पटेल और स्थानीय क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर अनंत पटेल समेत कई आरोपी पहले ही गिरफ्तार किये जा चुके हैं। मजेदार बात यह है कि जांच के दौरान पता चला कि शिकायतकर्ता भट्ट स्वयं मुख्य साजिशकर्ता है। उसके खिलाफ भी एक अलग मामला दर्ज है और वह अब तक फरार है।
श्री कोटडिया 2012 के विधानसभा चुनाव में केशुभाई पटेल की गुजरात परिवर्तन पार्टी की टिकट पर अमरेली जिले के धारी सीट से जीते थे। बाद में उनकी पार्टी का भाजपा में विलय हो गया था। भाजपा में रहते हुए भी उन्होंने पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के समर्थन में अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला था हालांकि पिछले चुनाव से पहले वह फिर से भाजपा की तरफ आ गये थे और हार्दिक से प्रत्यक्षत: दूरी बना ली थी। वह पिछले चुनाव में नहीं लड़े थे।
रजनीश
वार्ता
image