Saturday, Sep 22 2018 | Time 16:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राफेल मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जाए: माकपा
  • राजनाथ की राहुल को सलाह- गंभीर आरोप लगाने से पहले चार बार सोचे
  • ईरान में सैन्य परेड के दौरान आतंकवादी हमले 24 मरे
  • नवीन फाइनल में, स्वर्णिम इतिहास से एक कदम दूर
  • राफेल सौदे में ‘चौकीदार’ ही बन गया ‘चोर’: राहुल
  • दिल्ली हवाई अड्डे पर चार करोड़ का सोना पकड़ा
  • भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द होने से इमरान निराश
  • भट्टूकलां ने जीती अंतर महाविद्यालय क्रॉस कंट्री चैम्पियनशिप
  • लाइवमी के प्रति बढ़ा आकर्षण
  • सोना 250 रुपये लुढ़का, चाँदी तीन सप्ताह के उच्चतम स्तर पर
  • किसी का दबाव नहीं, खुद चुना रिलायंस को : डसाल्ट
  • डोडा में सड़क हादसे में चार मरे, नौ घायल
  • मकान की छत ठहने से दो लोगों की मौत, चार घायल
  • हिमाचल प्रदेश में टैक्सी खाई में गिरी, सभी 13 लोगों की मौत
राज्य Share

भारत बंद के दौरान वाराणसी में ‘गांधीगिरी”, बैल गाड़ी से महिलाओं किया प्रदर्शन

वाराणसी, 10 सितंबर (वार्ता) पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ काग्रेस एवं अन्य विपक्षी दलों का “भारत बंद” उत्तर प्रदेश के वाराणसी में शांतिपूर्ण रहा। शहरी इलाके में अधिकांश दुकानें बंद रहीं जबकि ग्रामीण में मिलाजुला असर दिखने को मिला।
कांग्रेस, समाजवादी पार्टी (सपा) एवं वामपंथी दलों के कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने पार्टी के झंडे एवं बैनर लेकर जगह-जगह जुलूस निकाला और लोगों से बंद में शामिल होने की अपील की। बंद समर्थकों ने केंद्र की मोदी सरकार को महंगाई के लिए जिम्मेवार ठहराते हुए उनके खिलाफ नारे लगाये। बंद समर्थकों ने कई स्थानों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान के पुतले फूंककर अपना रोष प्रकट किया।
महिला कांग्रेस की ओर से बैल गाड़ी पर रसोई गैस सिलेंडर रखकर जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारी महिलाओं ने लकड़ी एवं गोबर से बने गोइठा पर खाना बनाकर रसोई गैस की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि का प्रतिकात्मक विरोध किया। सपा कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह धरना दिया और हाथों में जंजीर बांधकर के महंगाई का विरोध किया। कार्यकर्ता जिला मुख्यालय पहुंचे और वहां मोदी के सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वामपंथी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने एक बैनर तले महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार एवं पेट्रोलियम पदार्थों की मूल्य वृद्धि का विरोध किया। कांग्रेस सेवा दल के कार्यकर्ताओं ने दुकानदारों को गेंदे का फूल भेंट कर ‘गांधीगरी’ की और उनसे महंगाई के खिलाफ अपनी दुकानें बंद करने की गुजारिश की।
शहरी इलाके में गोदौलिया, चौक, मैदागिन, दालमंडी, सिगरा, दशाश्वमेध, नई सड़क, औरंगाबाद, हथुआ मार्केट, चेतगंज, लहुराबीर, अर्दनली बाजार, लंका, गुर्गाकुंड आदि इलाकों में अधिकाशं दुकानें बंद रहीं। ग्रामीण इलाके में फूलपुर, राजातालाब, पिंडरा, रोहनिया आदि इलाके में बंद का मिलाजुला असर दिखा।
शहरी इलाके में कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी के नेतृत्व में करीब सात किलोमीटर जुलूस निकाल कर लोगों से बंद का समर्थन करने की अपील की। वरुणापार में पूर्व सांसद राजेश मिश्र के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली और लोगों से बंद का समर्थन करने का अनुरोध किया।
श्रीमती चतुर्वेदी के नेतृत्व में रैली लहुराबीर आजाद पार्क से आरंभ हुई और व्यापारी बंधुओं से शांतिपूर्ण बंदी की अपील करता हुआ कबीरचौरा होते हुए मैदागिन स्थित राजीव प्रतिमा के पास पंहुचा। जहाँ शहर के विभिन्न क्षेत्रों से कांग्रेस कार्यकर्त्ता जुलुस के रूप में सम्मिलित होकर बुलानाला, चौक, गोदौलिया, नईसड़क, चेतगंज होते हुए लहुराबीर पहुंचकर सभा के रूप में बदल गई, जिसे श्रीमती चतुर्वेदी ने संबोधित किया।
विजयानगर, ईंगलिसिया लाइन क्षेत्र में भी बैजनाथ सिंह और शैलेन्द्र सिंह के नेतृत्व में बन्द की अपील के साथ जूलूस निकल कर लोगों बंद का समर्थन करने की अपील की गई।
हालांकि, लंका (काशी हिंदू विश्वविद्यालय) इलाके के सुसुवाहीं समेत कई इलाकों में दुकानें सामान्य दिनों की तरह खुलीं और यहां चहल-पहल देगी गई।
बीरेंद्र तेज
वार्ता
image