Monday, Dec 10 2018 | Time 14:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रक्षा पेंशन अदालत 17 दिसंबर को जालंधर में होगी
  • दिल्ली मेट्रो दुनिया की सातवीं सबसे व्यस्त मेट्रो
  • सोना 145 रुपये चमका; चाँदी 350 रुपये लुढ़की
  • अलीबाबा और 40 चोर, चौकीदार के डर से मचाए शोर -भाजपा
  • शीतकालीन सत्र में विपक्ष सहयोग करे: मोदी
  • पंत ने की विश्व रिकार्ड की बराबरी
  • कश्मीर में हड़ताल से जनजीवन प्रभावित
  • ‘मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं’, दम तोड़ने से पहले कहा था खशोगी ने
  • इस्लामिक स्टेट पर मुकदमा चलाने की मांग
  • प्रमुख मुद्राओं की तुलना में रुपये की संदर्भ दर
  • भारत विपक्षियों से बेहतर था और जीत का हकदार: विराट
  • भारत विपक्षियों से बेहतर था और जीत का हकदार: विराट
  • उपेंद्र कुशवाहा का केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा
  • भारत और आस्ट्रेलिया के बीच पहले टेस्ट का स्कोर
  • युवक ने मां के साथ अवैध संबंध पर की दोस्त की हत्या
राज्य Share

पतित पाविनी को हर हाल में दिलायेंगे प्रदूषण से मुक्ति : गडकरी

पतित पाविनी को हर हाल में दिलायेंगे प्रदूषण से मुक्ति : गडकरी

बागपत, 11 सितम्बर (वार्ता) गंगा को प्रदूषण मुक्त बनाने का संकल्प दोहराते हुये केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग तथा नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि इस साल के आखिर तक 70-80 फीसदी गंगा को स्वच्छ बना दिया जाएगा।

श्री गडकरी ने कहा कि गंगा की सफाई का काम तेजी से चल रहा है और इसके सार्थक परिणाम भी सामने आ रहे हैं। हम गंगा को 70 से 80 प्रतिशत तक शुद्ध करके दिखाएंगे। उन्होंने बागपत में गंदे पानी को साफ करने के लिए 100 करोड़ रूपये की परियोजना की घोषणा की, जिसके बाद बागपत की नदियों, नालो, नालियों से निकलने वाला गंदा पानी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के जरिये साफ होकर यमुना में जाएगा।

उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षों में केंद्र सरकार ने गंगा की सफाई पर विशेष ध्यान दिया है। गंगा को प्रदूषित कर रहे 251 उद्योगों को बंद किया जा चुका है और 938 उद्योगों से निकलने वाले गंदगी की मॉनिटरिंग की जा रही है। गंगा के पूरे मार्ग में 211 बड़े नालों की पहचान की गई है, जो इस नदी को प्रदूषित कर रहे है। गंगा नदी को साफ करने के 'नमामि गंगे मिशन' के तहत अब तक 195 परियोजनाओं को मंजूरी दी जा चुकी है.

उन्होंने कहा कि सड़कें अच्छी होंगी तो विकास की गति भी तेज होगी। नई सड़क परियोजनाओं से दिल्ली और मेरठ की दूरी महज 40 मिनट में सिमट कर रह जाएगी, जबकि पहले इस दूरी को पूरा करने में तकरीबन चार घंटे लगते थे।

सं प्रदीप तेज

जारी वार्ता

image