Sunday, Nov 18 2018 | Time 05:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फ्रांस के प्रदर्शनों में घायलों की संख्या बढ़कर 227 हुई
  • सीरियाई शरणार्थियों का राष्ट्रीयकरण स्वीकार नहीं: लेबनान
  • फ्रांस में पेट्रोल, डीजल की मंहगाई को लेकर प्रदर्शन, एक की मौत, 106 घायल
  • 112वें नंबर की टीम जॉर्डन से कड़े संघर्ष में हारा भारत
राज्य Share

हिंदी में काम करना अंग्रेजी के मुकाबल आसान : डा. शर्मा

इलाहाबाद,11 सितम्बर (वार्ता) मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राजभाषा निदेशक डा. सुनीति शर्मा ने कहा कि हिंदी में काम करना अंग्रेजी के मुकाबले अधिक आसान है।
डा शर्मा मंगलवार को इलाहाबाद विश्वविद्यालय (इविवि) के हिंदी विभाग में ‘कार्यालयों में हिंदी का प्रयोग कैसे बढायें’ विषय पर व्याख्यान में बोल रहे थे। उन्होंने ‘‘हिंदी है पहचान हमारी, हिंदी है जन जन की अभिलाषा’’, पंक्ति बोलते हुए कर्मचारी, अधिकारी और अध्यापकों से राजभाषा हिंदी में काम करने की वकालत की।
उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में आना हमेशा सुखद रहता है, यहां आकर मुझे अपने पुराने दिन याद आ गये। उन्होंने इस बात पर चिंता जताई कि कर्मचारियों को राजभाषा के नियमों की अपेक्षित जानकारी नहीं है जबकि केंद्र सरकार के अधिकारी और कर्मचारी होने के नाते सबका संवैधानिक दायित्व है कि हिंदी में काम करें। उन्होंने अध्यापक की तरह बताया कि हिंदी में काम करना आसान है। यह भ्रम फैलाया जाता है कि अंग्रेजी में काम करना आसान और हिंदी में काम करना मुश्किल है।
उन्होंने यह भी कहा कि इलाहाबाद, बनारस आदि जैसे हिंदी के केन्द्रीय क्षेत्र में हिंदी में कम काम हो रहा है, ये दु:खद है। हिंदी में काम काज बढाने के लिए विश्वविद्यालय में समय समय पर राजभाषा सम्बन्धी कार्यशाला करवानी चाहिए, राजभाषा समिति की नियमित बैठकें होनी चाहिये, पुस्तकालयों में हिंदी किताबों की खरीद होनी चाहिए। विश्वविद्यालय के विज्ञापन हिंदी में अनिवार्य रूप से दियें जाएँ, सारे नाम पट्ट हिंदी में भी हों और अधिक से अधिक पत्राचार और कार्यालयी टिप्पणियां हिंदी में की जाएँ। कामकाज के लिए यूनिकोड फॉण्ट का इस्तेमाल करना चाहिए।
कार्यक्रम में उपस्थित इविवि के कुलसचिव एवं राजभाषा समिति के अध्यक्ष डा. एन. के. शुक्ला ने अपने संबोधन में कहा कि वे कोशिश करेंगे कि हिंदी में कामकाज को बढ़ावा दें।
गौरतलब है हिंदी पखवाडा शुरू होने वाला है और इसको लेकर इलाहाबाद विश्वविद्यालय ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके तहत पहला कार्यक्रम हिंदी विभाग में हुआ।
दिनेश तेज
वार्ता
More News
अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के पहलवान देने से गोरखपुर का नाम हुआ रोशन:योगी

अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के पहलवान देने से गोरखपुर का नाम हुआ रोशन:योगी

17 Nov 2018 | 11:14 PM

गोरखपुर, 17 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कुश्ती राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय खेल है जो प्राचीन काल से ही गांव में त्यौहरो एवं विशेष अवसरो पर इसके दंगल लगते आए है तथा गोरखपुर ने राष्ट्रीय अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के पहलवान दिये है जिससे जिले का नाम रोशन हुआ है।

 Sharesee more..

केरल देश का सर्वश्रेष्ठ हनीमून डेस्टिनेशन

17 Nov 2018 | 11:06 PM

 Sharesee more..
सरकार द्वारा शिक्षकों के नियमितिकरण की चुनौती वाली याचिका खारिज

सरकार द्वारा शिक्षकों के नियमितिकरण की चुनौती वाली याचिका खारिज

17 Nov 2018 | 10:44 PM

प्रयागराज,17 नवम्बर (वार्ता) इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने सरकार द्वारा डिग्री कालेजों में मानदेय पर नियुक्त शिक्षकों के नियमितिकरण को लेकर किए गये संशोधन वाली चुनौती याचिका को खारिज कर उनका रास्ता साफ कर दिया है।

 Sharesee more..
भारत का डीएनए है हिंदू, श्री राम ‘राष्ट्रीय भगवान’:स्वामी

भारत का डीएनए है हिंदू, श्री राम ‘राष्ट्रीय भगवान’:स्वामी

17 Nov 2018 | 10:36 PM

वाराणसी, 17 नवंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने शनिवार को कहा कि भारत का ‘डीएनए’ हिंदू है और प्रभु श्रीराम यहां के ‘राष्ट्रीय भगवान’, अयोध्या में उनके मंदिर निर्माण को देश की कोई भी ताकत नहीं रोक सकती।

 Sharesee more..
image