Thursday, Jul 18 2019 | Time 21:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पंजाब में निजी मैडीकल कॉलेजों में भी खिलाड़ियों, दंगा पीड़ितों को आरक्षण का फैसला
  • पत्रकारों के प्रवेश पर रोक को लेकर वित्त मंत्रालय से जवाब तलब
  • बहराइच में बाघ ने बनाया एक व्यक्ति को अपना शिकार
  • मुख्यमंत्री ने लगाई फीस वृद्धि पर रोक, छात्रों को देनी होनी पुरानी फीस
  • पुलिस अवर निरीक्षक रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • दो लाख से अधिक श्रद्धालु पवित्र शिवलिंग का कर चुके दर्शन
  • प्रोन्नति के लिये यूपीजेईए का ‘सत्याग्रह’ छठे दिन भी जारी
  • प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा किया गया रखरखाव : प्रियव्रत
  • वैष्णो देवी हेलिकॉप्टर सेवा तीसरे दिन स्थगित
  • अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकवादियों के हमले में 35 सैनिक मारे गये
  • श्रीखंड यात्रा फिर से शुरू, पार्वती बाग से आगे जाने की अनुमति नहीं
  • तालाबंदी के विरोध में स्कूल बचाओ संघर्ष कमेटी ने लघु सचिवालय के बाहर किया प्रदर्शन
  • सिंधू क्वार्टरफाइनल में, श्रीकांत बाहर
  • सिंधू क्वार्टरफाइनल में, श्रीकांत बाहर
  • बंगाली फिल्मों के कई कलाकार भाजपा में शामिल
राज्य


गरीबी के चलते की आत्महत्या

भिंड, 12 सितम्बर (वार्ता) मध्यप्रदेश के भिंड जिले में एक युवक ने कथित तौर पर गरीबी से परेशान होकर आत्महत्या कर ली।
परिजन का आरोप है कि युवक को शहर में पक्का मकान होने के कारण गरीबी रेखा से जुड़ी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा था। उसके पास आजीविका का कोई साधन भी नहीं हेाने से युवक आर्थिक तंगी से परेशान था। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजन के सुपुर्द कर दिया है।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि अटेर के किशूपुरा गांव निवासी अनूप सिंह भदौरिया (33) का भिंड शहर के अटेर रोड पर पुश्तैनी मकान है। कल रात अनूप ने अपने ही घर के कमरे में पत्नी की साडी से पंखे से फंदा डालकर आत्महत्या कर ली।
परिजन के मुताबिक अनूप ने कल रात ही अपनी पत्नी नेहा से अपनी आर्थिक परेशानियों के बारे में बात करते समय अपनी हताशा जाहिर की थी। अनूप ने कई बार गरीबी रेखा का राशनकार्ड बनवाने के लिए आवेदन किए थे, लेकिन शहर में मकान होने की वजह से राशनकार्ड नहीं बन पा रहा था। उसके मकान पर बिजली का 80 हजार रुपए का बिल बकाया था। इसे माफ कराने के लिए उसने नगरपालिका असंगठित श्रमिक के रूप में अपना पंजीयन कराया। साथ ही बिजली कंपनी कार्यालय में बिल माफी के लिए आवेदन दिए, लेकिन पिछले दो महीने से उसे यह पता नहीं लग पाया कि उसका बिल माफ हुआ या नहीं। इसी चिंता के चलते उसने फांसी लगा ली।
परिजन का आरोप है कि बस पर क्लीनर की नौकरी करने वाले अनूप के पास ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की फीस नहीं थी और इसलिए उसे कहीं चालक की नौकरी भी नहीं मिल ही थी।
अनुविभागीय अधिकारी राजस्व (एसडीएम) एचबी शर्मा ने पूरे मामले पर कहा कि अनूप ने बीपीएल राशनकार्ड के लिए आवेदन किया था, यह क्यों निरस्त कर दिया गया, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि परिवार की हरसंभव मदद की जाएगी।
सं गरिमा
वार्ता
More News
उप्र मुठभेड़ में एक लाख का इनामी ढेर, आठ बदमाश गिरफ्तार

उप्र मुठभेड़ में एक लाख का इनामी ढेर, आठ बदमाश गिरफ्तार

18 Jul 2019 | 8:47 PM

लखनऊ,18 जुलाई (वार्ता) उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान अलग-अलग जिलों में हुई पुलिस मुठभेड़ में एक लाख रुपये का इनामी बदमाश मारा गया जबकि सात इनामी समेत आठ बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है।

see more..
image