Wednesday, Nov 14 2018 | Time 16:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • समुद्री उत्पाद का निर्यात 95 प्रतिशत बढा
  • राधामोहन ने सहकारिता क्षेत्र में स्टार्ट अप की शुरुआत
  • पंथ विरोधी गलतियाें के कारण सुखबीर बादल का सियासी अंत तय :जाखड़
  • गुजरात में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के निकट होगा डीजीपी सम्मेलन, मोदी के शिरकत की संभावना
  • मेगन और एलिसा ने दिलाई आस्ट्रेलिया काे जीत
  • ई-वीजा सुविधा सभी देशों के लिए व्यावहारिक तौर पर शुरू
  • बेटों के बाद अब अजय चौटाला भी इनेलो से निष्कासित
  • आर्थिक तंगी के कारण एक ने की खुदकुशी
  • सामूहिक दुष्कर्म मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार
  • 1984 दंगे : हत्या के एक मामले में दो दोषी सजा का ऐलान गुरुवार को
  • झांसी: मां का हत्यारा बेटा पुलिस की गिरफ्त में
  • राफेल सौदा : सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुरक्षित
  • थोक महंगाई दर बढ़कर 5 28 प्रतिशत पर
  • सोना 150 रुपये लुढ़का ;चांदी स्थिर
  • सेमीफाइनल के लिये उतरेगी महिला टीम इंडिया
राज्य Share

इस वर्ष 618 किसानों ने की आत्महत्या

औरंगाबाद (महाराष्ट्र) 12 सितंबर (वार्ता) महाराष्ट्र के मराठवाडा क्षेत्र में इस वर्ष एक जनवरी से नौ सितंबर तक फसल की बर्बादी और कर्ज से परेशान 618 किसानों ने आत्महत्या कर ली।
मंडलायुक्त के कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार सूखा प्रभावित बीड जिले में सबसे अधिक 125 किसानों ने आत्महत्या की। सबसे कम हिंगोली जिले में 42 किसानों ने खुदकुशी की है।
उस्मानाबाद जिले में 100, औरंगाबाद में 87, परभणी में 85 तथा नांदेड और जालना जिला में 62-62 किसानों ने आत्महत्या की।
आत्महत्या के पीछे कर्ज, बारिश की कमी और फसल के खराब होने के साथ ही अन्य कारण बताते गये हैं। कुल 618 आत्महत्या के मामलों में 368 को सरकारी सहायता के योग्य पाया गया है जबकि 166 मामलों को जांच के बाद खारिज कर दिया गया। 84 मामले अभी जांच के लिए लंबित हैं।
मराठवाडा में बारिश की कमी के कारण सूखे जैसी स्थिति है। इस महीने के अंत तक मानसून मौसम लगभग समाप्त हो जायेगा और वहां अब तक 39 प्रतिशत बारिश कम हुयी है। क्षेत्र की कई सिंचायी परियोजनाओं में औसतन 34 प्रतिशत जल बचा है।
त्रिपाठी.श्रवण
वार्ता
image