Thursday, Jul 18 2019 | Time 20:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वैष्णो देवी हेलिकॉप्टर सेवा तीसरे दिन स्थगित
  • अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकवादियों के हमले में 35 सैनिक मारे गये
  • श्रीखंड यात्रा फिर से शुरू, पार्वती बाग से आगे जाने की अनुमति नहीं
  • तालाबंदी के विरोध में स्कूल बचाओ संघर्ष कमेटी ने लघु सचिवालय के बाहर किया प्रदर्शन
  • सिंधू क्वार्टरफाइनल में, श्रीकांत बाहर
  • बंगाली फिल्मों के कई कलाकार भाजपा में शामिल
  • चैम्पियन के पार्टी से निष्कासित मामले में हरक सिंह रावत ने साधी चुप्पी
  • कर्नाटक में धनबल, बाहुबल से लोकतंत्र का चीर हरण : कांग्रेस
  • दिवंगत कर्मचारियों के बच्चों के लिये शिक्षा भत्ते में वृद्धि
  • सोनभद्र में बिजली गिरने से किशोर समेत तीन की मृत्यु
  • सरबजोत ने जीता भारत का नौंवां स्वर्ण
  • हरियाणा सरकार का पेंशनरों को मंहगाई भत्ते की तीन किस्तें देने का फैसला
  • पुलिस ने अभिनेता एजाज खान को किया गिरफ्तार
  • ‘सुपर 30’ ने पेश की बिहार की साकारात्मक छवि : सुशील
  • गुरूग्राम के खेरकी माजरा गांव में बनेगा मैडीकल कॉलेज
राज्य


उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार के 65 प्रतिशत मतदाता राजग के साथ हैं। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में 65 प्रतिशत बनाम 35 प्रतिशत के बीच लड़ाई है। उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रवाद के वैचारिक अधिष्ठान, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नेतृत्व, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का कौशल एवं केन्द्र तथा राज्य सरकार के कार्यों के आधार पर जनता के बीच जायेंगे।
श्री मोदी ने कहा कि बिहार में महागठबंधन टूट चुका है। जनता दल यूनाइटेड (जदयू) महागठबंधन का चेहरा था जिसपर पिछले चुनाव में उसे बड़ी जीत मिली थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री एवं जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के आने से राजग और मजबूत हुआ है। वहीं, राजद परिवार में महाभारत छिड़ चुका है। उन्होंने कहा कि राजद अध्यक्ष के बड़े पुत्र एवं पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव घर पर रहते हुए भी पार्टी की बैठक और यहां तक भारत बंद में भी शामिल नहीं होते हैं। यह परिवारिक संघर्ष जल्द ही गुल खिलाने वाला है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज भी देश की जनता की पहली पसंद हैं। वर्ष 2019 में होने वाला लोकसभा का चुनाव नेतृत्वविहीन विपक्ष और नरेन्द्र मोदी के बीच होने वाला है।
कार्यसमिति की दो दिवसीय बैठक में भाजपा के लगभग 600 से अधिक प्रतिनिधियों को दो दिनों तक वरिष्ठ नेताओं के साथ जहां गहन संवाद के साथ ही उनका दिशा-निर्देश भी मिला। बैठक में नीतीश सरकार में शामिल भाजपा कोटे के सभी मंत्री, सभी विधायक, विधान पार्षद, सांसद, प्रदेश प्रभारी, लोकसभा प्रभारी और विस्तारक मोर्चा अध्यक्ष भी मौजूद थे।
सूरज उपाध्याय रमेश
वार्ता
image