Wednesday, Sep 19 2018 | Time 18:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पायलट कार्तिक की मौत की उच्च स्तरीय जांच हो: कार्तिक
  • भीमा कोरेगांव मामले में गुरुवार को भी जारी रहेगी सुनवाई
  • शिअद चुनाव में गड़बड़ी के खिलाफ जायेगी अदालत में
  • सुल्तान जोहोर कप में मनदीप संभालेंगे भारतीय कप्तानी
  • सुल्तान जोहोर कप में मनदीप संभालेंगे भारतीय कप्तानी
  • सफाईकर्मी की मौत ने खोली ‘स्वच्छ भारत’ की पोल : राहुल
  • सोया तेलों, गेहूँ में नरमी, चना, चना दाल मजबूत
  • नहीं बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम
  • नीर निर्मल योजना के तहत मुफ्त मिलेगा नल का कनेक्शन : सुशील
  • छोटे कारोबार के विकास के लिये सरकार प्रतिबद्ध: गिरिराज
  • पाकिस्तान रेंजर्स की अकारण फायरिंग में बीएसएफ जवान शहीद
  • रामबन सड़क हादसे में दो बीएसएफ जवान सहित तीन की मौत
  • उत्तरी निगम क्षेत्र में कूड़ा नहीं उठने से महामारी फैलने का खतरा: गोयल
  • रेप मामले में समझौत के बदले लिये गये दो लाख रूपये समेत तीन गिरफ्तार
राज्य Share

श्री टंडन ने कहा कि देशी नस्ल की गायों में रोग प्रतिरोधक क्षमता तुलनात्मक रूप से काफी अधिक होती है। ये गायें बिहार और अन्य उत्तर भारतीय राज्यों के ज्यादा तापमान वाले इलाकों के भी अनुकूल होती हैं। इनके रख-रखाव और चिकित्सा पर भी काफी कम खर्च होता है। साथ ही, इन देशी नस्ल की गायों से कम लागत पर दूध का अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रति लीटर दुग्ध-उत्पादन पर कम लागत के कारण यह अल्प आय वाले पशुपालकों की कमजोर आर्थिक स्थिति के लिहाज से भी उपयोगी हैं।
राज्यपाल ने राज्य में उन्नत नस्ल के सांढ़ों को भी ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध कराने पर जोर देते हुए कहा कि आज तो देहाती नस्ल की गायों में भी भ्रूण धारण के क्रम में लिंग निर्धारण की व्यवस्था विकसित करने के लिए व्यापक शोध चल रहे हैं। उन्हाेंने कुलपति को इस पद्धति को विकसित करने के लिए आवश्यक शोध कार्य को गंभीरतापूर्वक संचालित करने को कहा ताकि आज के परिवेश में अधिकतर बछड़ियों की ही पैदाईश सुनिश्चित हो सके।
श्री टंडन ने कहा कि दुग्ध-संग्रहण के कार्य में लगी सहकारी संस्थाओं के सुदृृढ़ीकरण के लिए भी विश्वविद्यालय को आवश्यक परियोजनाएं संचालित करनी चाहिए तथा इनसे सम्बद्ध और अन्य वैसे सभी पशुपालकों को प्रत्येक वर्ष पुरस्कृत और सम्मानित करने का कार्यक्रम बनाना चाहिए, जो देशी नस्ल की गायों या अन्य पशुओं के जरिये अधिक दुग्ध-उत्पादन में अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। कुलपति ने राज्यपाल को आश्वस्त किया कि विश्वविद्यालय उनके मार्ग निर्देशों और सुझावों पर तत्परतापूर्वक अमल करेगा।
सूरज रमेश
वार्ता
More News
निर्वाचन कार्य समय पर पूरे किए जाये: कान्ताराव

निर्वाचन कार्य समय पर पूरे किए जाये: कान्ताराव

19 Sep 2018 | 6:42 PM

भोपाल, 19 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी व्ही.एल.कान्ता राव ने आगामी विधानसभा निर्वाचन के लिये 12 विभागों के नोडल अधिकारियों की बैठक में निर्देश दिये कि चुनाव के दौरान सौंपे गये दायित्वों का निर्वहन पूर्ण गंभीरता और जिम्मेदारी से किए जाये।

 Sharesee more..

19 Sep 2018 | 6:35 PM

 Sharesee more..

मध्यप्रदेश के प्रमुख नगरों का तापमान

19 Sep 2018 | 6:30 PM

 Sharesee more..
image