Thursday, May 28 2020 | Time 16:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अररिया में युवक की गोली मारकर हत्या
  • पंजाब विश्वविद्यालय फीस वृद्धि का यूथ फॉर स्वराज ने किया विरोध
  • कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित 13 शहरों की स्थिति की समीक्षा
  • कोविड-19 की वजह से आये वित्तीय दबाव के कारण सकाल टाइम्स का प्रकाशन होगा बंद
  • प्रवासी मजदूूरों से नहीं वसूला जायेगा किराया, राज्यों को ‘सुप्रीम’ दिशानिर्देश
  • योगी ने सिविल अस्पताल का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया
  • चार सप्ताह के उच्चतम स्तर पर शेयर बाजार
  • कोविड-19 : रसोई गैस सिलेंडर डिलीवरी ब्वाय्ज को बचाव किट देने की मांग
  • मासिक धर्म पर चुप्पी तोड़ने के अभियान का लाखों लोगों ने किया समर्थन
  • विश्वकप 2021 की मेजबानी नहीं जाएगी: बीसीसीआई
  • विश्वकप 2021 की मेजबानी नहीं जाएगी: बीसीसीआई
  • असम में कोरोना वायरस संक्रमण के 48 नये मामले
  • उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या 493 पहुंची
  • वीटा दुग्ध उत्पाद अधिकाधिक लोगों तक पहुंचाने हेतु ज्यादा बूथ खोले जायें: लाल
  • कर्नाटक में कोरोना के 75 नए मामले, 2493 संक्रमित
राज्य


इंजीनियर की माैत ,अस्पताल के मालिक के खिलाफ रिपाेर्ट

इंजीनियर की माैत ,अस्पताल के मालिक के खिलाफ रिपाेर्ट

बरेली 22 सितंबर (वार्ता) पीटीएम की सॉफ्टवेयर इंजीनियर आयुषी की बुखार से मौत के मामले में बरेली के नामी अस्पताल के मालिक डॉक्टर नवल किशोर गुप्ता और इलाज करने वाले डॉक्टर महेश गुप्ता के खिलाफ शहर के थाना प्रेमनगर में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

रिपोर्ट इंजीनियर आयुषी के पिता की शिकायत पर बरेली के कमिश्नर रणवीर प्रसाद और डीआईजी आर के पांडेय के आदेश पर थाना प्रेमनगर दर्ज की गई ।

बरेली के एसपी सिटी अभिनन्दन सिंह ने आज यहां बताया कि बरेली शहर के थाना प्रेम नगर क्षेत्र की द्वारकापुरम कॉलोनी निवासी राकेश सारस्वत की बेटी आयुषी सारस्वत नोएडा में पीटीएम कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थी। आयुषी रक्षाबंधन पर घर आई थी।

तबीयत बिगड़ने पर उसे शील अस्पताल में डॉक्टर महेश गुप्ता को दिखाया गसा । डॉक्टर गुप्ता ने सामान्य बुखार बताकर दवा दे दी , आयुषी के पिता के जोर देने पर डॉक्टर ने जांच कराई तो बेटी को टाइफाइड निकला, इसके बाद दवा बदल दी गई । पिछले 18 अगस्त को हालत बिगड़ने पर दोबारा दिखाया तो अस्पताल में भर्ती कर लिया गया। भर्ती करने के बावजूद हालत में कोई सुधार नहीं हुआ । डाक्टर स्थिति सामान्य बताते रहे। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर कई बार डॉक्टर को बुलाने पर डाक्टर आए और बेटी के परिजनों के बार-बार अनुरोध के बाद भी डॉक्टर ने बेटी के ऑक्सीजन नहीं लगाई और यह कहकर चले गए कि कोई स्टाफ आएगा तो हम लगवा देंगे इस बीच बेटी की मौत होगी।

आयुषी के पिता ने बरेली के कमिश्नर रणवीर प्रसाद और डीआईजी आर के पांडेय को बताया कि डाक्टर महेश गुप्ता की लापरवाही से बेटी की मौत हुई । शील अस्पताल के मालिक डॉक्टर नवल किशोर गुप्ता और डाक्टर महेश गुप्ता व् स्टाफ के खिलाफ रिपोर्ट आदेश दिए।

सं विनोद

वार्ता

image