Saturday, Apr 20 2024 | Time 00:24 Hrs(IST)
image
राज्य


गुप्ता ने संभाला एनएचएसआरसीएल के प्रबंध निदेशक का पदभार

अहमदाबाद, 05 फरवरी (वार्ता) भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना को क्रियान्वित करने वाले संगठन नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड ( एनएचएसआरसीएल ) के प्रबंध निदेशक के रूप में आईआरएसई 1988 बैच के अधिकारी विवेक कुमार गुप्ता ने सोमवार को कार्यभार संभाल लिया है ।
एनएचएसआरसीएल अपर महाप्रबंधक जन संपर्क सुषमा गौड ने यहां बताया कि एनएचएसआरसीएल में शामिल होने से पहले श्री गुप्ता ने रेलवे बोर्ड (रेल मंत्रालय) में मुख्य कार्यकारी निदेशक/गति-शक्ति के रूप में कार्य किया। वे सात विभागों के एकीकृत कार्य पद्धति के लिए कारकृत थे। सिविल (कार्य, प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग और स्टेशन विकास), इलेक्ट्रिकल (आरई), सिग्नल और दूरसंचार, यातायात, वित्त, योजना और आर्थिक निदेशालय तथा पीएम गति-शक्ति कार्यक्रम के विषय का विधिवत पालन करते हुए भारतीय रेलवे के स्टेशन विकास सहित सभी परियोजनाओं की योजना और निष्पादन के लिए एक एकजुट टीम के रूप में काम कर रहे थे।
उन्होंने मध्य और पश्चिम रेलवे में मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण), मुख्य ट्रैक इंजीनियर, मुख्य ब्रिज इंजीनियर और मंडल रेलवे प्रबंधक (डीआरएम) सहित विभिन्न वरिष्ठ पदों पर काम किया है। इन भूमिकाओं में वह निर्माण परियोजनाओं के लिए जवाबदेह थे जिसमें नई लाइनों का निर्माण, गेज परिवर्तन, दोहरीकरण/मल्टी-ट्रैकिंग, यातायात सुविधा कार्य, ट्रैक निर्माण कार्य और रेलवे पुलों का रखरखाव शामिल था।
मुंबई रेल विकास निगम (एमआरवीसी) में मुख्य अभियंता के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने लगभग 20,000 करोड़ रुपये की कुल लागत के साथ एमयूटीपी I/एमयूटीपी II और एमयूटीपी III के लिए परियोजना समन्वय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके अतिरिक्त उन्होंने लगभग 34,000 करोड़ रुपये की लागत वाली एमयूटीपी 3ए परियोजना की तैयारी के काम का नेतृत्व किया। इसके अतिरिक्त, वह एमआरवीसी में सभी सिविल इंजीनियरिंग पहलुओं के समन्वय और विश्व बैंक, एआईआईबी, एमएमआरडीए, सिडको और जीओएम सहित विभिन्न एजेंसियों के साथ बातचीत, योजना और निष्पादन से संबंधित मुद्दों को संबोधित करने के लिए उत्तरदायी थे। अप्रैल 2019 और अगस्त 2021 के बीच डीआरएम/भुसावल के रूप में, उन्होंने मध्य रेलवे के भुसावल डिवीजन की समग्र जिम्मेदारी संभाली। उनके कर्तव्यों में सुरक्षा, दक्षता, बुनियादी ढाँचे का काम, राजस्व व्यय नियंत्रण और कर्मचारी कल्याण सुनिश्चित करना शामिल था।
अनिल.संजय
वार्ता
More News
त्रिपुरा में 81 प्रतिशत मतदान, विपक्ष ने जताई गड़बड़ी की आशंका

त्रिपुरा में 81 प्रतिशत मतदान, विपक्ष ने जताई गड़बड़ी की आशंका

19 Apr 2024 | 11:41 PM

अगरतला, 19 अप्रैल (वार्ता) त्रिपुरा में लोकसभा चुनाव के पहले चरण में शुक्रवार को 1,685 मतदान केंद्रों पर अनुमानित 81 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

see more..
सिक्किम में शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ चुनाव, शाम 7 बजे तक 68 प्रतिशत से अधिक मतदान

सिक्किम में शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ चुनाव, शाम 7 बजे तक 68 प्रतिशत से अधिक मतदान

19 Apr 2024 | 11:38 PM

गंगटोक, 19 अप्रैल(वार्ता) सिक्किम की 32 विधानसभा सीटों और एक मात्र लोकसभा सीट के लिए शुक्रवार को हुये मतदान में 68.06 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

see more..
image